धारा 377: क्या समलैंगिक-ट्रांसजेंडर्स विवाह को आजादी मिलेगी

धारा 377
Please Share This News To Other Peoples....

सुप्रीम कोर्ट समलैंगिकता को अपराध घोषित करने वाली भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 377 पर अपने पुराने फैसले की समीक्षा करने के लिए राजी हो गया है। समलैंगिकता अपराध है या नहीं, यह तय करने का काम अब सुप्रीम कोर्ट के पांच जजों की संविधान पीठ करेगी। हालांकि बुधवार को संविधान पीठ सिर्फ ये तय करेगी कि ये याचिका सुनवाई योग्य है या नहीं।

कौन-कौन है संवैधानिक बेंच में

  • इस मामले की सुनवाई जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस ए एम खानविलकर ,
  • जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच कर रही है।

ये भी पढ़े :LGBT:धारा 377 के अंतर्गत समलैंगिक विवाह संबंध पर समीक्षा करेगा सुप्रीम कोर्ट

क्या है धारा 377

  • आईपीसी की धारा 377 के अनुसार यदि कोई वयस्‍क स्वेच्छा से किसी पुरुष, महिला ,
  • पशु के साथ अप्राकृतिक यौन संबंध स्थापित करता है तो,
  • वह आजीवन कारावास या 10 वर्ष और जुर्माने से भी दंडित हो सकता है।
  • आईपीसी की इस धारा से संविधान के अनुच्छेद 14 और 21 के उल्लंघन ,
  • मौलिक अधिकारों के हनन का हवाला देते हुए
  • समलैंगिकता की पैरोकारी करने वाले नाज फाउंडेशन ने दिल्ली हाई कोर्ट में इसे खत्म कने की मांग की।

2013 के फैसले पर फिर से विचार

  • चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने इस मामले पर कहा ,
  • सुप्रीम कोर्ट धारा 377 की संवैधानिक वैधता पर दोबारा विचार करेगी।
  • बेंच ने यह भी कहा,
  • ‘अपनी पसंद का इस्तेमाल करने वाले कुछ लोगों को डर की स्थिति में नहीं रहना चाहिए।
  • लोगों का चुनाव कानूनी सीमा से बाहर नहीं होना चाहिए,
  • कानून की सीमाएं भी संविधान में अनुच्छेद 21 के तहत मिले,
  • अधिकारों में कटौती करने वाली नहीं होनी चाहिए।

ये भी पढ़े :तोगड़िया रो पड़े, अस्पताल में लगा मोदी विरोधियों का जमावड़ा

मामले में क्या हुआ था

  • इस मामले में 2009 में दिल्ली हाईकोर्ट ने समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटाने का फैसला दिया था,
  • जिसे केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी,
  • 2013 में हाईकोर्ट के आदेश को पलटते हुए,
  • समलैंगिकता को आईपीसीकी धारा 377 के तहत अपराध बरकरार रखा।
  • दो जजों की बेंच ने इस फैसले पर दाखिल पुनर्विचार याचिका भी खारिज कर दी थी।

 

Related posts:

इवांका पर अखिलेश का तंज- वंशवाद के विरोधी वंशज के स्वागत में हाथ बंधे खड़े हैं
गुजरात के नतीजों ने BJP को दिया बड़ा झटका: राहुल
BSF का पाक के खिलाफ़ बड़ा एक्शन, मार गिराए 10-12 रेंजर्स
कानपुर में बिल्डर के ठिकानो पर मिला 96 करोड़ के पुराने नोटों का बिस्तर
राजधानी में हुई डकैती की वारदातें राजस्थानी गिरोह ने दी थी अंजाम...
लखनऊ : पुलिस ने पकड़ा ज़हरीले दूध का ज़खीरा, टैंकर से हो रहा सप्लाई...
मोदी के सवाल बने उन्हीं के गले की हड्डी, कांग्रेस ने कहा पीएम तोड़ें चुप्पी
जेएनयू के 17 छात्रों के खिलाफ एफआईआर दर्ज, प्रोफ़ेसर से हो सकती है पूछताछ
स्थापना दिवस पर बोले अमित शाह, विपक्ष को बताया सांप, नेवला और कुत्ता
यूपी: नवजात की देखभाल में झांसी मण्डल बना टॉपर
समाज में नफरत पैदा करने वालों की कोशिश होगी नाकाम: राजनाथ
सपा छोड़कर बीजेपी में गए एमएलसी इस्लाम से हुए बेदखल, बचाव में उतरे आज़म खां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *