आधार कार्ड की अनिवार्यता ने ली जान,इंसानियत शर्मसार

आधार कार्ड
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। ऑरिजनल आधार कार्ड के चक्कर में हरियाणा के सोनीपत जिले में कारगिल शहीद की विधवा दो घंटे मौत से लड़ती रही, लेकिन अस्पताल प्रबंधन भर्ती करने से पहले आधार कार्ड मुहैया कराने की जिद पर अड़ा रहा। इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना पर अब प्रतिक्रिया भी आनी शुरू हो गई है।

आधार कार्ड नहीं तो इलाज़ नहीं , कारगिल शहीद की विधवा दो घंटे मौत से लड़ती रही

  •  कारगिल शहीद कैप्टन विजयंत थापर के पिता वीएन थापर ने इस बेहद अफसोस जनक बताया है।
  •  उन्होंने कहा कि हम अलग तरह के इंसान बनते जा रहे हैं।
  • ऐसी घटनाएं हमारे सैनिकों के मनोबल को प्रभावित करेंगी।
  • हैरानी की बात है कि निजी अस्पताल प्रबंधन के इस रवैये का वीडियो वायरल हो चुका है।
  •  सरकार ने शहीद की विधवा की मौत के दो दिन बाद भी मामला संज्ञान में नहीं लिया है।
  • सोनीपत में एक निजी अस्पताल प्रबंधन आधार कार्ड जमा करवाने पर ही अड़ा रहा।
  • कारगिल शहीद लक्ष्मण दास की विधवा शकुंतला ने दो घंटे तड़प-तड़पकर दम तोड़ दिया।

ये भी पढ़ें :-नीतिन पटेल दे सकते हैं इस्तीफ़ा : सूत्र 

अस्पताल प्रबंधन ऑरिजनल आधार कार्ड देने पर ही मरीज को भर्ती करनें की जिद

  • अस्पताल प्रबंधन का कहना था कि वह ऑरिजनल आधार कार्ड देने पर ही मरीज को भर्ती करेगा।
  • अब मां की मौत के बाद बेटे ने निजी अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ इंसाफ की लड़ाई लड़ने का फैसला।
  • बेटे पवन ने बताया कि कल यानी रविवार को मां की 13वीं की रस्म पूरी करूंगा।
  • इसके बाद पुलिस को शिकायत देकर केस दर्ज करवाने की मांग करेंगे।
  • कारगिल शहीद लक्ष्मण दास की पत्नी शकुंतला को हृदय की बीमारी थी।
  • तकलीफ ज्यादा बढ़ने पर  बेटा पवन बाल्याण अपनी मां को लेकर आर्मी कार्यालय पहुंचा।
  • इसके बाद यहां से आर्मी की डिस्पेंसरी से रेफरल लेने के बाद निजी अस्पताल में पहुंचे।
  •  बेटा शकुंतला को दिल्ली रोड स्थित निजी अस्पताल में ले जाया गया था।
  • जहां अस्पताल प्रबंधन ने उनसे आधार कार्ड की मांग की थी।
  • यहां पर अस्पताल में भर्ती नहीं किया गया।
  •  जबकि आधार कार्ड की कॉपी मोबाइल में होने मुहैया कराने की बात कही थी।
  • अस्पताल ऑरिजनल आधार मुहैया कराने की जिद पर अड़ा रहा।

आधार कार्ड को छोड़कर सभी  थे कागज

  • बेटे पवन का आरोप है कि उसके पास आधार कार्ड को छोड़कर सभी कागजात थे।
  •  फिर भी उसकी सुनवाई नहीं हुई।
  • उल्टे अस्पताल में ऊंची आवाज में बोलने पर पुलिस को बुलवा लिया था।
  • जबकि सिक्का कॉलोनी चौकी प्रभारी कृष्ण कुमार का कहना है।
  •  कि अभी तक किसी तरह की कोई शिकायत नहीं मिली है।
  • अगर कोई शिकायत लेकर आएगा तो उसकी जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।

दो घंटे मरती रही इंसानियत, बीमार मां को लेकर घूमता रहा बेटा

  • पीड़ित बेटे पवन की मानें तो वह अपनी मां को अस्पताल से लेकर वापस डिस्पेंसरी में पहुंचा था।
  •  दिल्ली के लिए रेफरल कागजात तैयार कराए थे।
  • वहां से आधार कार्ड की कॉपी लेने के लिए वह अपने घर पहुंचा।
  • जहां पर उसकी मां की हालत अधिक बिगड़ चुकी थी।
  • उसके बाद वह उसे लेकर सोनीपत के हांडा अस्पताल में पहुंचे थे।
  • हालांकि तब तक उनकी मां मौत हो चुकी थी।
  • इस दौरान वह लगातार दो घंटे तक मां को लेकर भटकता रहा।

Related posts:

नोटबंदी की गलती को स्वीकार कर माफ़ी मांगे पीएम मोदी: मनमोहन सिंह
हिमाचल में मतदान जारी, पार्टियों के ये मुद्दे तय करेंगे किसकी बनेगी सरकार?
140 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से बढ़ रहा है 'ओखी' तूफान
सैनिकों की मौत के लिए कौन जिम्मेदार : शिवसेना
स्वामी विवेकानन्द थे समाज के युग प्रवर्तक
बहराइच: विकास कार्यों में घोटाले को लेकर जरवल ब्लॉक में ग्रामीणों का आमरण अनशन
गठबंधन पर बोले कमल हासन, “रजनीकांत की राजनीति भगवाधारी”
आज कई शहरों में बूंदाबांदी के आसार, लौट सकती है ठंड...
एसएससी पेपर लीक : छात्रों का आंदोलन लेने लगा सियासी रंग, सहमी मोदी सरकार 
सरकार मना रही थी जश्न, इलाहाबाद में खेली जा रही थी खून की होली
गठबंधन पर पहली बार बोले मुलायम सिंह, सीटों के बंटवारे को लेकर दिया बड़ा बयान
विदेशी एजेंसियों की सेवाएं लेकर झूठ फैला रही है कांग्रेस: मोदी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *