छात्रवृति घोटाले के खिलाफ ABVP ने जिलाधिकारी कार्यालय पर किया प्रदर्शन

छात्रवृति घोटालेछात्रवृति घोटाले

लखनऊ। छात्रवृति घोटाले को लेकर ABVP कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया। कार्यकर्ताओं की मांग थी कि छात्रवृति में समाज कल्याण विभाग और शिक्षण संस्थाएं साथ मिलकर चोरी कर रही हैं, जिसे रोका जाए और सख्त कदम उठाया जाए। साथ ही कार्यकर्ताओं ने छात्रावास के जर्जर हालत को लेकर भी आवाज उठाई। ABVP कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी के समक्ष ज्ञापन सौंप कर अपनी मांग रखी।

ये भी पढ़ें:सरफराज आलम के पड़ोसियों ने लगाए पाकिस्तान जिन्दाबाद के नारे, हुई गिरफ्तारी 

छात्रवृति घोटाले के खिलाफ ABVP ने जिलाधिकारी कार्यालय पर किया प्रदर्शन

शुक्रवार को दोपहर 12:00 बजे अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता जिला अधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन किया।  ABVP छात्र हित में कार्य करने वाला एक जागरूक संगठन है जो समय-समय पर विभिन्न प्रकार के आंदोलनात्मक कार्यक्रमों का आयोजन करती है। इसी क्रम में ABVP कार्यकर्ताओं ने SC ST ओबीसी एवं गरीब सभी वर्गों के छात्रों को समय से मिलने एवं समाज कल्याण विभाग की मनमानी पर रोक लगने की मांग की।

ABVP प्रदेश मंत्री राहुल वाल्मीकि ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि छात्रवृत्ति में करोड़ों रुपए का घोटाला हुआ है। उसकी जांच कराकर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। जिससे कि भविष्य में किसी भी छात्र के साथ चोरी ना हो। साथ ही राहुल ने बताया कि सरकार द्वारा चलाए जा रहे छात्रावासों की लगातार दयनीय स्थिति होती जा रही है। जब विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने छात्रावासों में जाकर सर्वे किया तब यह बात सामने में आया की, बड़ी संख्या में छात्रावास तो हैं, लेकिन उनमें स्वच्छ पीने का पानी, शौचालय, खेलने के लिए मैदान, पढ़ने के लिए लाइब्रेरी, भोजन के लिए भोजनालय सोने के लिए रजाई गद्दे, चारपाई आदि अनेक प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है।ABVP कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी कार्यालय के बाहर नारेबाजी करके एक जुलुस निकाला। छात्र हित में कार्य करते हुए कार्यकर्ताओं ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपा।

ABVP कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
ABVP कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
ABVP कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
ABVP कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
loading...
Loading...

You may also like

माकपा नेता का बड़ा बयान, कहा- पीएम मोदी केरल में हिंसा को भड़का रहे

नई दिल्ली। माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी(माकपा) के एक शीर्ष