नो एण्ट्री में वसूली के मामले में फरार सिपाही को बचाने में जुटा बंथरा थाना

- in क्राइम, लखनऊ
constable no entry नो एण्ट्रीconstable no entry नो एण्ट्री

लखनऊ। बंथरा इलाके में नो एण्ट्री में प्रवेश कराने के नाम पर ट्रकों से वसूली करने वाले सिपाहियों के मामले में फरार सिपाही का मामला ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है। यही नहीं अपने सिपाहियों को बचाने के चक्कर में एडीजी जोन की विशेष टीम पर घंटो दबाव बनाने वाली बंथरा पुलिस ने फिलहाल फरार सिपाही को पूरी तरह बचा लिया है। पुलिस ने उसके खिलाफ रिपोर्ट दर्ज करना तो दूर बल्कि एडीजी जोन की विशेष टीम द्वारा दी गई तहरीर का हवाला देते हुए फुर्सत पा ली। इस मामले में बंथरा थाना प्रभारी बलवंत शाही का कहना है की एडीजी जोन की विशेष टीम ने जो तहरीर दी है, उसी के आधार पर मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

नो एण्ट्री में करते थे वसूली, एक गया जेल, एक फरार

बताते चलें कि बंथरा के कानपुर रोड स्थित जुनाब गंज तिराहे पर पिछले लंबे समय से नो इन्ट्री में प्रवेश कराने के नाम पर बंथरा थाने के कुछ सिपाही ट्रकों से जमकर वसूली कर रहे थे। इसकी शिकायत मिलने के बाद एडीजी जोन ने विशेष टीम गठित कर जुनाब गंज तिराहे पर लगाया।

ये भी पढ़ें : नो एण्ट्री के दौरान ट्रकों प्रवेश कराकर वसूली कर रहे सिपाही धरे गए, भेजे गए जेल 

जहां टीम प्रभारी नागेंद्र चौबे ने अपनी टीम के साथ मुस्तैद होकर गुरुवार को बंथरा थाने के दो सिपाहियों ; हेड कांस्टेबल संतराम व कांस्टेबल श्याम किशुनद्ध के अलावा ट्रकों को नो इन्ट्री में प्रवेश कराने के लिए सिपाहियों को रिश्वत दे रहे ट्रक मालिक अलीम और रेहान को मौके से रंगे हाथों धर दबोचा।

सूत्रों की माने तो इस दौरान इस मामले में मौके पर थाने का एक अन्य कार खास सिपाही भी शामिल था। लेकिन वह मौका पाते ही वहां से भाग निकला। बाद में काफी जद्दोजहद के बाद बंथरा पुलिस ने अधिकारियों की फटकार पर मुकदमा दर्ज कर पकड़े गए दोनों सिपाहियों और ट्रक मालिकों को जेल भेज दिया।

जबकि फरार हुए कारखास सिपाही को बचाने में बंथरा पुलिस पूरी तरह कामयाब रही।

loading...
Loading...

You may also like

बुलंदशहर हिंसा: मृत सुमित के पिता ने किया एलन, सीएम आवास के बहर्फ करेंगे आत्मदाह

लखनऊ। बुलंदशहर के स्याना में गोकशी को लेकर