परिषदीय विद्यालयों का ये हाल जानकर आप भी हो जाएंगे हैरान

Please Share This News To Other Peoples....

लोटन, सिद्धार्थनगर। परिषदीय विद्यालयों की स्थिति सुधारने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कई योजनाएं शुरू की हैं। इन विद्यालयों में नामांकन संख्या बढ़ाने रैलियां निकली जा रहीं हैं। परिषदीय विद्यालयों में शिक्षा की गुणवत्ता को सुधारने पर जोर दिया जा रहा है ,लेकिन  जिम्मेदार ही  मुख्यमंत्री की योजनाओं पर पानी फेरते नजर आ रहे  हैं।

प्राथमिक विद्यालय करमैनी पर तैनात शिक्षिका का अभी तक नहीं हुआ दर्शन

बताते चलें कि विभागीय  मिली भगत से प्राथमिक विद्यालय करमैनी पर तैनात शिक्षिका का दर्शन अभी तक नहीं हुआ  है। इस विद्यालय पर नामांकित कुल 98 छात्र है लेकिन उपस्थिति 8 से 10 बच्चों की रहती है। सूत्रों  के अनुसार इस विद्यालय पर तैनात शिक्षिका सेटिंग कर चली जाती है और विद्यालय पर झांकने तक नहीं आती हैं।

ये भी पढ़ें :-गीता परिवार : राजधानी में संस्कार पथ शिविरों की धूम 

दो शिक्षा मित्र तथा एक सहायक अध्यापिका  हैं तैनात

इस विद्यालय में  दो शिक्षा मित्र तथा एक सहायक अध्यापिका तैनात हैं। जिसके बावजूद अध्यापक उपस्थिति पंजिका पर भी सिर्फ एक ही शिक्षा मित्र की उपस्थिति बनती रहती है। इस विद्यालय पर सहायक अध्यापिका तैनात होने के बावजूद इंचार्ज दूसरे विद्यालय के अध्यापक के पास है। इंचार्ज महेंद्र पाण्डेय का कहना है कि इसी प्रकार से पिछले वर्ष भी यह शिक्षिका अनुपस्थित रहा करती थी। जिस पर निलंबित भी हुई थी। अब ये कब ज्वाइन करेंगी  इसके बारे में हम कुछ नहीं बता सकते हैं।  इतना जरूर है कि विद्यालय पर तैनात एक ही शिक्षा मित्र की उपस्थिति रहती है।

खंड शिक्षा अधिकारी वेदव्यास ने दिया गोलमोल जबाब

बताते चले यह विद्यालय महज एक बानगी है। जनपद में बहुत से ऐसे परिषदीय विद्यालय है। जहां इस तरह से सेटिंग कर परिषदीय विद्यालयों से शिक्षक व शिक्षिका गायब रहते हैं। इस सम्बन्ध में खंड शिक्षा अधिकारी वेदव्यास का कहना है कि एक सहायक अध्यपिका उस विद्यालय पर तैनात है। वो विद्यालय नहीं आ रही तो कर्यालय में देखना पड़ेगा कि छुट्टी ली है या   नहीं ।

Related posts:

नेशनल कालेज ऑफ चेस्ट फिजीशियन्स के अध्यक्ष बने डा. सूर्यकांत
2017 से ज्यादा छुट्टियाँ पड़ेंगी 2018 में, जानें
लखनऊ निकाय चुनाव में सुरक्षा का ये है  ब्लू प्रिंट
बिजली कम्पनियों का बड़ा कारनामा, सबसे बड़ी चोरी
सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के बयान पर कांग्रेस का पलटवार, कहा- उनकी पार्टी....
2024 तक हिन्दू संस्कृति अपनाने वाले मुसलमान हीं रह पाएंगे- बीजेपी विधायक
कासगंज हिंसा : मृतक के पिता ने कहा- वन्दे मातरम बोलने पर देशभक्त बेटे को मारी गोली
लखनऊ : कांशीराम की जयंती पर नारों से गुंजा कांशीराम स्मारक...
MBBS की उत्तर पुस्तिका बदलवाकर बनाते थे डाक्टर, यूपी एसटीएफ ने 4 को धर दबोचा
राज्यसभा चुनाव : सपा के विधायकों ने अपनाया बागी रुख, बसपा की बढ़ सकती हैं मुसीबतें.
आर-पार की लड़ाई की तैयारी में अब जुटेंगे कर्मचारी-शिक्षक
सिद्धार्थनगर में नदी में डूबने से तीन मासूमों की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *