भाजपा : योगी सरकार का एक साल ,हर वादा आधा-अधूरा

भाजपाभाजपा
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। भाजपा ने 28 जनवरी, 2017 को उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव-2017 के लिए घोषणा पत्र जारी किया था। इसमें यूपी में अपराध और भ्रष्टाचार को खत्म कर, विकास और गरीबों की बेहतरी के लिए काम करने के दावे किए थे। भाजपा बहुमत के साथ जीती और 19 मार्च, 2017 को योगी आदित्यनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनकी सरकार का एक साल पूरा होने पर उनके 5 वादों की जमीनी हकीकत जानी।

किसानों की कर्जमाफी का भाजपा ने किया था वादा

योगी ने पहली कैबिनेट मीटिंग में 36 हजार 359 करोड़ रुपए की कर्ज माफी का एलान किया। 78 लाख किसानों को कर्जमाफी का लाभ मिलना था। लेकिन हकीकत यह है कि अभी तक 17.30 लाख किसानों का कर्ज माफ हुआ। यह कुल टारगेट का सिर्फ 22प्रतिशत है। देवरिया, वाराणसी, गोरखपुर और कुशीनगर को छोड़कर किसी भी जिले में दूसरे चरण की कर्जमाफी के प्रमाण पत्र बांटने का काम शुरू नहीं हुआ है। इस पर कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही का कहना है कि किसानों को कर्जमाफी का लाभ मिला है। दूसरे चरण के प्रमाणपत्र भी जल्द बांटे जाएंगे। वहीं इसको लेकर नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चैधरी ने कहा कि कर्जमाफी की आड़ में सरकार ने खेती का बजट 70.13प्रतिशत कम कर दिया। किसानों को छला गया है।

 

ये भी पढ़े : मोदी के प्रशसंक रहे इस बड़े नेता ने कहा- कांग्रेसमुक्त नहीं मोदीमुक्त भारत चाहिए 

शिक्षा और रोजगार में भी भाजपा फेल

भाजपा  ने वादा किया था कि पहली से 8वीं तक के बच्चों को स्वेटर, मौजे और जूते मुफ्त दिए जाएंगे। ग्रेजुएट तक लड़कियों और 12वीं तक लड़कों को लैपटॉप मुफ्त दिया जाएगा। सरकार ने दो बार टेंडर निकाल, लेकिन दिसंबर 2017 तक प्रॉसेस पूरी नहीं हो पाई। बाद में कलेक्टर को अपने स्तर पर टेंडर कराने को कहा गया। फ्री लैपटॉप वितरण योजना- 2017 शुरू की। लेकिन हकीकत यह है कि  1.5 करोड़ बच्चों में से सर्दी खत्म होने तक सिर्फ 45प्रतिशत बच्चों को स्वेटर बांटे गए। 22 से 23 लाख स्टूडेंट्स में से अभी किसी को भी फ्री लैपटॉप नहीं मिला। इसको लेकर विभाग की मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कलेक्टर को निर्देश दिए थे सभी बच्चों को स्वेटर बांट दिए गए हैं। वहीं इस मामले में सपा प्रवक्ता राजेन्द्र चैधरी ने कहा कि स्वेटर बांटने में सबसे बड़ा भ्रष्टाचार हुआ। ठंड खत्म होने के बाद दिखावे के लिए स्वेटर बांटे गए।

बिजली की समस्या

भारतीय जनता पार्टी ने वादा किया था कि  2019 तक हर घर में बिजली पहंुच जायेगी। 5 साल में 24 घंटे बिजली मिलने लगेगी।

इस संबंध में राज्य विद्युत उपभोक्ता परिषद के अध्यक्ष अवधेश वर्मा के मुताबिक, सपा सरकार में 14 घंटे बिजली मिल रही थी, अब 16 से 18 घंटे मिल रही है। हालांकि, लोड बढ़ने से किसानों को ज्यादा राहत नहीं मिली।

ये भी पढ़े : सीतापुर : करंट लगने लगने से चार मजदूरों की मौत

लेकिन असलियत में  बिजली का निजीकरण किया गया। रेट 50 से 150 फीसदी तक बढ़े। गर्मी शुरू होते ही शहरों में भी बिजली कटौती शुरू हो गई है।  ऊर्जा मंत्री श्रीकांत शर्मा का दावा है कि सपा सरकार ने पांच साल में जितने ट्रांसफार्मर बदले उतने हमने 1 साल में बदल दिए। करीब 37 हजार ट्रांसफार्मर खराब हो गए थे। इस मामले को लेकर सपा नेता रामगोविंद चैधरी ने कहा कि केंद्र के सहारे यूपी में बिजली की सप्लाई की जा रही है। बिजली का रेट बढ़ाकर अवैध वसूली की जा रही है।

सेहत का ख्याल

मौजूदा भाजपा सरकार ने  राज्य में 25 सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल और 6 एम्स बनाने का वादा किया था। सरकार ने पहले सातल बजट में सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल और एम्स के लिए पहले चरण में 4323.89 करोड़ रुपए रखे गए हैं।  लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि अभी तक किसी भी सुपर स्पेशियलिटी हॉस्पिटल या एम्स के लिए जमीन तक तय नहीं हुई है। गोरखपुर एम्स का शिलान्यास अखिलेश सरकार में किया गया था। डेढ़ साल बीत गया, लेकिन इसका भी निर्माण शुरू नहीं हो पाया है।

ये भी पढ़े :राज्यसभा : भासपा के बड़े ऐलान से बसपा में ख़ुशी की लहर, BJP को लगेगा बड़ा झटका 

इस संबंध में स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह का कहना है कि यूपी में स्वास्थ्य की समस्या बहुत ही जठिल थी। पिछली सरकारों ने स्वास्थ्य के बजट में घोटाले किए। एक साल में हमने बेहतर इंतजाम किए। सपा के सीनियर लीडर और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन ने कहा कि सरकार काम करने की बजाए अस्पतालों का भगवाकरण करवा रही है। बीआरडी कॉलेज की घटना सरकार की सबसे बड़ी नाकामी है।

गड्ढा मुक्त सड़कें

योगी सरकार ने प्रदेश में सभी सड़कें 15 जून 2017 तक गड्ढा मुक्त करना का वादा किया था। इसके लिए पहले साल में सरकार ने अलग-अलग विभागों को जिम्मेदारी सौंपी। कुल 1 लाख 21 हजार 816 किलोमीटर सड़क गड्ढा मुक्त की जानी थी।

ये भी पढ़े : चारा घोटाला: चौथे मामले में लालू दोषी करार, जगन्नाथ मिश्रा हुए बरी

लेकिन सिर्फ 61 हजार 433 किलोमीटर यानी सिर्फ 50 प्रतिशत सड़कें ही गड्ढा मुक्त हो पाई। टारगेट पूरा करने के लिए सिर्फ तीन महीने से भी कम वक्त बचा है। इसको लेकर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य का कहना है कि सड़कों को गड्डा मुक्त करने के लिए हम लगातार काम कर रहे हैं। विभाग के पास उचित बजट नहीं था फिर भी हमने अन्य विभागों के सहयोग से लक्ष्य को पूरा किया है।

इस संबंध में कांग्रेस प्रवक्ता सुरेन्द्र राजपूत का कहना है कि, गड्डे मुक्त सड़क का दावा कुछ ही जिलों में सफल हुआ है। जिन सड़कों को गड्डा मुक्त किया गया है वो फिर से उसी तरह हो गई हैं।

 

loading...

You may also like

Whatsaap यूजर्स के किए बुरी खबर, सरकार जल्द हो सकता है बैन

नई दिल्ली। फ़ेक न्यूज़ को लेकर भारत सरकार