तत्काल टिकट में दलाली : CBI ने किया खुलासा

CBICBI

नई दिल्ली। रेलवे की तत्काल आरक्षण प्रणाली का अवैध सॉफ्टवेयर बनाकर दलाली करने के आरोप में  CBI ने अपने ही सॉफ्टवेयर प्रोग्रामर अजय गर्ग को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया।

तत्काल टिकट में दलाली : CBI  ने किया खुलासा

  क्या है पूरा मामला :

  • सॉफ्टवेयर ट्रेनों के लिए तत्‍काल टिकट मिलने में हो रही असुविधा के पीछे बड़े घोटाले का पर्दाफाश हुआ।  
  • की सहायता से तत्काल टिकटों की एक साथ बुकिंग कर ली जाती थी।
  • जिसके कारण मिनटों में टिकट खत्म हो जाया करते थे।
  • यह सॉफ्टवेयर सीबीआइ के असिस्टेंट प्रोग्रामर अजय गर्ग ने बनाया था।
  • खास बात यह बात टिकट बुकिंग वाले एजेंट भी अजय गर्ग के बारे में नहीं जानते थे।
  • जांच एजेंसी ने तत्काल टिकट में धांधली के मामले में देशभर में 14 जगहों पर छापेमारी भी की।
  • आरोपी में यूपी के जौनपुर से सात और मुंबई से तीन एजेंटों की पहचान की गई है।
  • अजय गर्ग वर्तमान समय में सीबीआई में असिस्टेंट प्रोग्रामर है।
  • वह 4 वर्ष 2007 से 2011 तक आईआरसीटीसी में काम कर चुका था।
  • रेलवे में काम करते समय उसने तत्काल टिकट प्रणाली के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां हासिल ली थी।
  • कंप्यूटर एप्लीकेशन में पोस्टग्रेजुएट गर्ग को आईआरसीटीसी आरक्षण प्रणाली की खामियों का पता चल गया था।
  • इसका लाभ उठाकर उसने अवैध सॉफ्टवेयर बनाया।
  • इसी सोफ्टवेयर से वह तत्काल टिकटों के आरक्षण में धांधली करता था।

यह भी पढ़े -दिल्ली शर्मसार: भोजपुरी गानों में काम कर चुकी मॉडल से गैंगरेप 

आरोपी हुए गिरफ्तार:

CBI ने गर्ग के सहयोगी अनिल गुप्ता को भी गिरफ्तार कर लिया है।

वह एजेंटों को पैसे के बदले तत्काल टिकट आरक्षण का सॉफ्टवेयर देता था।

गर्ग एजेंटों को पैसों के बदले तत्काल टिकट आरक्षण का सॉफ्टवेयर देता था।

सीबीआई ने अजय गर्ग को दिल्ली की कोर्ट में पेश किया।

जहां से उसे पांच दिन की रिमांड पर भेज दिया गया है।

छापेमारी में 89 लाख रुपये नकद, 61 लाख रुपये सोने की ज्वेलरी,

के साथ-साथ 15 हार्डडिस्क, 52 मोबाइल फोन, 24 सिम कार्ड 10 नोटबुक,

और छह रॉउटर, चार डोंगल, 19 पेन ड्राइव और अन्य दस्तावेज बरामद किया गया है।

यह भी पढ़े – यूपी में जानलेवा प्रदूषण का कहर, प्रदेश के 5 शहर टॉप पर

बिटक्वाइन के माध्यम से लेता था पैसा:

गर्ग का खास अनिल जब दिल्ली आता था, तो कैश में उसे कमीशन देता था।

अगर कैश नहीं मिल पाता था तो अजय अपना हिस्सा बिटक्वाइन से लेता था।

 

loading...

You may also like

अरविंद केजरीवाल ने अमित शाह को दी खुली बहस की चुनौती

नयी दिल्ली। सीएम अरविंद केजरीवाल ने भाजपा अध्यक्ष