जिनपिंग आजीवन बने रहेंगे राष्ट्रपति, चीन ने लगाई मुहर

जिनपिंगजिनपिंग

बीजिंग । चीन की संसद ने राष्ट्रपति पद की समय सीमा समाप्त कर दी है।  एक  न्यूज एजेंसी  के हवाले से ये जानकारी मिली। बतातें चलें कि  चीन  ने राष्ट्रपति  शी जिनपिंग के लिए दो कार्यकाल की समय सीमा को समाप्त करने के फैसले का बचाव करते हुए कहा था कि सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के प्रभुत्व को बरकरार रखने और नेतृत्व की एकता के लिए यह जरूरी था। उधर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भी शी जिनपिंग के आजीवन राष्ट्रपति रहने के प्रस्ताव का समर्थन किया था।

ये भी पढ़ें :-सीरिया : हमलों में मरने वाले बच्चों की तादाद बढ़ी, नहीं पहुंच पा रही चिकित्सकीय सहायता… 

सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति ने समय सीमा को किया समाप्त

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति ने संविधान में संशोधन करके राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के दो कार्यकाल की समय सीमा को समाप्त करने का प्रस्ताव पेश किया था। हाल ही में अपना दूसरा कार्यकाल शुरू करने वाले शी के बारे में कहा जा रहा था कि इस प्रस्ताव से वह तीसरा कार्यकाल और उसके बाद भी आजीवन राष्ट्रपति बने रहेंगे।

ये भी पढ़ें :-भाजपा ने राज्यसभा के लिए तय की तीन और नाम, मुलायम के बेहद करीबी रहे नेता का नाम भी शामिल

चीन में पार्टी और सेना के प्रमुख का पद होता है महत्वपूर्ण

इस पर चीन और विदेशों में चिंता और अटकलों का दौर शुरू हो गया था। चीनी क्रांति के बाद पार्टी के संस्थापक माओ जेदोंग ने भी निरंकुश सत्ता का उपभोग किया था। नेशनल पीपुल्स कांग्रेस के प्रवक्ता झांग येसूई ने पहली बार पार्टी के इस फैसले पर कहा था कि सीपीसी के संविधान के मुताबिक राष्ट्रपति के लिए तो कार्यकाल की सीमा है, लेकिन पार्टी प्रमुख और सैन्य प्रमुख के कार्यकाल के बारे में कोई सीमा निर्धारित नहीं है। संविधान अब तक राष्ट्रपति के कार्यकाल के बारे में भी इसी परंपरा का पालन करता रहा है।  शी ने 2012 में सत्ता संभाली थी। इसके अलावा वह पार्टी और सेना के अध्यक्ष रहे। चीन में पार्टी और सेना के प्रमुख का पद महत्वपूर्ण होता है, जबकि राष्ट्रपति का पद कुल मिलाकर रस्मी होता है।

loading...
Loading...

You may also like

डीजीपी ने जीआरपी मुख्यालय में किया इंटीग्रेटेड कण्ट्रोल रूम का उद्घाटन

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह