कांग्रेस सांसद ने “राष्ट्र गान” में बदलाव करने की उठायी मांग

कांग्रेस सांसदकांग्रेस सांसद

नईदिल्ली। राज्यसभा में राष्ट्रगान ‘जन-गण-मन’ के शब्दों में बदलाव करने की मांग उठायी गयी है। यह मांग असम से कांग्रेस सांसद रिपुन बोरा ने उठाया है। रिपुन बोरा ने बताया कि वो इसके लिए एक प्राइवेट मेंबर बिल का प्रस्ताव ला सकते हैं। जिसके मुताबिक राष्ट्रगान से ‘सिंध शब्द हटाकर “नार्थ-ईस्ट” जोड़ा जाएगा। साथ ही कांग्रेस सांसद ने कहा कि नार्थ ईस्ट भारत का एक अहम हिस्सा है और ये दुर्भाग्यपूर्ण है कि देश के राष्ट्रगान में इसका जिक्र नहीं है। सिंध शब्द अब भारत का हिस्सा नहीं है फिर भी इसका जिक्र किया जाता है।

कांग्रेस सांसद ने “राष्ट्र गान” में बदलाव करने की उठायी मांग

कांग्रेस सांसद के इस प्राइवेट मेंबर बिल में कहा गया है कि हमेशा भारत का बुरा चाहने वाले पाकिस्तान के भूभाग (सिंध) का नाम को राष्ट्रगान से हटा देना चाहिए। जिसके लिए कांग्रेस सांसद ने कहा है कि अन्य दलों के सांसदों से भी बात की जाएगी। साथ ही उनसे समर्थन करने की अपील भी की जाएगी। बोरा ने बताया कि जब यह बिल सदन में आएगा तो इसपर जरुर चर्चा की जाएगी। बोरा ने न्यूज़ एजेंसी को लेटर लिखा है, जिसमें उन्होंने लिखा है कि 1950 में राष्ट्रपति डॉ० राजेन्द्र प्रसाद ने एक मुजिक सुनाया था, जिसे हमलोगों ने राष्ट्रगान का नाम दे दिया है। इसलिए अब राष्ट्रगान में संशोधन करने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़ें: एटा: मिड डे मील खाने से 50 छात्राओं की तबियत बिगड़ी, डीएम ने दिए जांच के आदेश 

कौन हैं रिपुन बोरा

आपको बता दें कि नोबेल पुरस्कार विजेता रबींद्रनाथ टैगोर ने साल 1911 में ‘जन-गण-मन’ लिखा था। उस समय भारतीय क्षेत्र पश्चिम में बलूचिस्तान से लेकर पूर्व में सिलहट तक फैला था। असम से कांग्रेस के राज्यसभा सांसद रिपुन बोरा हैं। साथ ही  असम प्रदेश कांग्रेस समिति के अध्यक्ष भी हैं। 21 मार्च 2016 में वो राज्यसभा के लिए चुने गए थे। बजट 2018 को लेकर भी प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने भाजपा सरकार पर हमला बोला था। आम बजट को असम के लिए झूठे वादों से भरा बताते हुए केंद्र से राज्य को दिए जाने वाले कोष में भारी कटौती का आरोप लगाया था।

loading...

You may also like

पीएम को चोर करने पर भड़के सीएम योगी, कहा- राहुल और कांग्रेस देश से मांगे माफ़ी

गोरखपुर। राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति