फर्जी रेप केस मामले में अदालत ने खारिज की अभियुक्तों की याचिका…

लखनऊ। इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ बेंच ने एक्टिविस्ट डॉ नूतन ठाकुर द्वारा गाजियाबाद की एक महिला पर उन्हें तथा उनके पति आईपीएस अफसर अमिताभ ठाकुर को फर्जी रेप का आरोप लगा कर फंसाने के मामले में थाना गोमतीनगर, लखनऊ में दर्ज मुकदमे में आरोपी पूर्व महिला आयोग सदस्य अशोक पाण्डेय, कथित रेप पीडि़ता तथा उसके पति द्वारा दायर याचिका आज खारिज कर दिया।

यह भी पढ़ें :बापू की पुण्यतिथि पर गवर्नर ने गांधी प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की…

अदालत से गिरफ्तारी पर रोक लगाने की प्रार्थना की थी…

  • इन तीनों के वकीलों ने इन पर झूठा मुकदमा दर्ज किये जाने के आधार पर मुकदमा खारिज करने की अपील की थी।
  • साथ ही गिरफ्तारी पर रोक लगाने की प्रार्थना की थी।
  • जबकि शासकीय वकील ने कोर्ट को बताया था कि नूतन की एफआईआर पर विवेचना लगभग पूरी हो गयी है।
  • शीघ्र ही इन तीनों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया जायेगा।
  • उन्होंने यह भी बताया कि सीजेएम कोर्ट ने इन तीनों के खिलाफ अजमानतीय वारंट भी निर्गत कर दिया है।
  • जस्टिस देवेन्द्र कुमार उपाध्याय तथा जस्टिस दिनेश कुमार सिंह की बेंच ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने यह स्पष्ट कर दिया है।
  • विवेचना के दौरान कार्यवाही करने का पूरा अधिकार मात्र विवेचक को है।
  • उस दौरान कोर्ट द्वारा विवेचक की कार्यवाही का पुनरीक्षण नहीं किया जायेगा।
  • अत: उन्होंने इन तीनों की याचिका में कोई बल नहीं होने के आधार पर इसे खारिज कर दिया।

यह भी पढ़ें :थम नहीं रहा राजधानी में अपराध, आरएसएस कार्यकर्ता समेत चार घरों में चोरी…

तीन साल पहले दर्ज किया गया था मुक़दमा…

  •  यह मुकदमा 22 जून 2015 को दर्ज किया था।
  • जिसमे नूतन ने तत्कालीन खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति द्वारा महिला आयोग के सदस्यों की सहायता से फर्जी रेप केस में फंसाने के प्रयास का आरोप लगाया गया था।
  • पुलिस ने 13 जुलाई 2015 को केस में अंतिम रिपोर्ट लगा दी थी।
  • जिसे सीजेएम ने अपने आदेश 22 दिसंबर 2015 द्वारा खारिज करते हुए पुनार्विवेचना के आदेश दिए थे।
  • अप्रैल 2017 में श्री प्रजापति को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ आरोपपत्र दाखिल किया गया।
  • शेष अभियुक्तों पर विवेचना जारी है।
loading...
Loading...

You may also like

महिलाओं के तरक्की से होगा विकास

सिद्धार्थनगर। आधी आबादी महिला समूहों का गठन करके