गठबंधन के बावजूद सभी 80 सीटों पर तैयारी में जुटी बसपा, सपा के खेमे में हड़कंप

गठबंधन
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। यूपी में सपा-बसपा गठबंधन होने के बावजूद एक बेहद चौकाने वाली बात सामने आयी है। बसपा यूपी में सभी 80 सीटों पर लोकसभा चुनाव की तैयारी करा रही है। ये बात सपा को परेशान करने वाली हो सकती है। जानकारी के मुताबिक पार्टी ने अगले साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए प्रभारी बना दिए हैं जो चुनाव को लेकर जमीनी स्तर की तैयारी में जुट गए हैं। बता दें कि इन सीटों में वे भी शामिल हैं। जहां पर बसपा नहीं बल्कि दूसरी पार्टियां ( कांग्रेस या सपा ) दूसरे स्थान पर रही थी।

वहीं पार्टी के सूत्रों की माने तो प्रभारी इसलिए बनाए गए हैं, ताकि कार्यकर्ताओं में जोश बना रहे और संगठन का काम धीमा ना पड़े। हालांकि, इसे गठबंधन होने पर ज्यादा से ज्यादा सीटों पर दावेदारी की रणनीति से भी जोड़कर देखा जा रहा है।

पढ़ें:- मोदी लहर पर बीजेपी को नहीं रहा भरोसा! क्या पीएम के चेहरे पर हो रहा है विचार 

गठंबधन को लेकर सीटों का बंटवारा अभी बाकी

बता दें कि गोरखपुर और फूलपुर उपचुनाव में मिली जीत के बाद सपा-बसपा गठबंधन को और भी ज्यादा मजबूती मिली वहीं सपा भले ही बसपा उम्मीदवार को राज्यसभा नहीं भेज सकी लेकिन अखिलेश ने बसपा के लिए एमएलसी की सीट को छोड़कर ये सन्देश दिया कि वह गठबंधन को बनाए रखना चाहते हैं वहीं अभी तक दोनों पार्टियों के बीच सीटों का बंटवारा नहीं हो पाया है अखिलेश का कहना है कि अगर गठंबधन को बचाने के लिए उन्हें दो कदम पीछे भी हटना पड़ा तो भी वह तैयार हैं

सूत्रों की माने तो सपा-बसपा में सीटों के बंटवारे में लोकसभा चुनाव 2014 का प्रदर्शन मुख्य आधार बनेगा। महागठबंधन में कांग्रेस के भी शामिल होने की चर्चा है, लेकिन अभी किसी भी दल की ओर से स्पष्ट नहीं कहा गया है। इस बीच बीएसपी ने लगभग सभी सीटों पर प्रभारी बना दिए हैं।

पढ़ें:- पीएम मोदी को दुनिया भर के 600 विद्वानों ने पत्र लिख बच्चियों से रेप पर मांगा जवाब 

बसपा के प्रभारी मतलब प्रत्याशी

बता दें कि सामान्य तौर पर बसपा की यह परंपरा रही है कि पार्टी में जो प्रभारी होते हैं, वे अगले चुनाव के लिए उस लोकसभा सीट के प्रत्याशी होते हैं। हालांकि, ऐन वक्त पर बदलाव भी कर दिए जाते हैं। हालांकि, इस बार पार्टी नेताओं का कहना है कि कार्यकर्ताओं में जोश बना रहे और संगठन का काम बूथ स्तर तक मजबूत हो, इसके लिए प्रभारी बनाए गए हैं। कोई जरूरी नहीं हैं कि यही प्रत्याशी होंगे। गठबंधन की स्थिति में पार्टी सुप्रीमो मायावती के स्तर से निर्णय लिया जाएगा।

Related posts:

योगी आदित्यनाथ के खिलाफ होर्डिंग देख भाजपाइयों के उड़े होश, हटवाया गया
ब्लड बैंकों में आटोमेशन तकनीक के ज़रिये हम कई लोगों की जान बचा सकते हैं : प्रो.तूलिका चंद्रा
लखनऊ: राजधानी में डेंगू की दस्तक, चार नये मरीजों में की पुष्टि
मुझे ताकत दीजिये मैं आपके लिए हथियार चलाऊंगा, कोई आपकी फ्रिज में नहीं देखेगा: राज बब्बर
50 रूपये को लेकर दो पक्षों में मारपीट, एक की मोके पर मौत
बापू की पुण्यतिथि पर गवर्नर ने गांधी प्रतिमा पर श्रद्धांजलि अर्पित की...
कश्मीर : अलगाववादियों का बंद, जनजीवन प्रभावित, बंद रहा कारोबार...
सीएम योगी ने दी पूरे देश को होली की शुभकामनाएं
मानव तस्करी मामला : दलेर मेहंदी को मिली दो साल सजा 20 मिनट में पूरी
किसान-नौजवान कह रहा, बीजेपी से बेहतर थी सपा सरकार : अखिलेश यादव
बीएड-टीईटी पास अभ्यर्थियों ने मुख्यमन्त्री के खिलाफ बोला हल्ला, घेरा बीजेपी कार्यालय
प्रो.सुरेंद्र दुबे सिद्धार्थ विश्वविद्यालय के दूसरे कुलपति नामित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *