ई-रिक्शा में प्रसव, डीजी हेल्थ ने मांगी रिपोर्ट

ई-रिक्शा में प्रसवई-रिक्शा में प्रसव
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ । राजधानी के चिनहट इलाके में गर्भवती को एम्बुलेंस न मिलने से ई-रिक्शा में प्रसव  हुआ था। इस मामले में डीजी हेल्थ ने तीन  दिन में रिपोर्ट मांगी है। डीजी हेल्थ ने एम्बुलेंस 102के साथ ही लोहिया अस्पताल के डायरेक्टर से भी जबाव मांगा है।

ये भी पढ़ें:-केजीएमयू ट्रामा सेन्टर : निजी एम्बुलेंस दलालों का दबदबा कायम, तीमारदारों को धमकाना तो आम बात 

ई-रिक्शा में ही प्रसव, एम्बुलेंस 102  घंटों बाद नहीं पहुंची

  • दो दिन पहले एम्बुलेंस 102 को काल करने के घंटों बाद भी एम्बुलेस नहीं पहुंची।
  • इस महिला को ई-रिक्शा में ही प्रसव हुआ था।
  • प्रसूता के साथ लोहिया अस्पताल में स्टाफ ने भी लापरवाही बरती थी।
  •  चिनहट की गर्भवती सादिया (28) को गुरुवार सुबह 9.45 बजे प्रसव पीड़ा शुरू हुई।
  • इस पर परिवारीजनों ने एंबुलेंस नंबर 102 डायल किया।
  • फोन करने पर एंबुलेंस के इंतजार करने की बात कही गई।
  • करीब 1 घंटे तक परिवारीजन बार-बार102 एंबुलेंस को फोन लगाते रहे, लेकिन वह नहीं आई।
  •  गर्भवती की हालत बिगडऩे पर परिवारीजन ई-रिक्शा से लोहिया अस्पताल ले जा रहे थे तभी रास्ते में प्रसव हो गया।
  • अस्पताल पहुंचने पर तुरंत जच्चा और बच्चा को भर्ती कर लिया गया।

ये भी पढ़ें:-ग्रीन कॉरीडोर बनाकर एयर एम्बुलेंस से दिल्ली भेजे गए एनटीपीसी के तीन एजीएम, 30 मौत 

चिनहट में 1 घंटे तक एंबुलेंस मिलना संभव नहीं: प्रवक्ता

  • नेशनल एंबुलेंस सेवा के प्रवक्ता अजय यादव का कहना है कि चिनहट जैसे इलाके में 1 घंटे तक एंबुलेंस मिलना संभव नहीं है।
  • एंबुलेंस समय पर क्यों नहीं पहुंच इसकी जांच की जाएगी।
  • महिला के पति हकीमुद्दीन ने बताया कि वो दुकानों पर ब्रेड, बिस्कुट और नमकीन की सप्लाई करता है।
  • उसकी कोई फिक्स वेतन नहीं है। उसकी पहले से तीन बेटियां है।
  • बड़ी बेटी एलिमा (9), दूसरी बेटी इकरा(6) और सबसे छोटी बेटी जिकरा (3) है।
  • घर में कोई बेटा नहीं था, दोनों एक बेटा चाहते थे। उसकी पत्नी ने बेटे को जन्म दिया।
  • यह बच्चा उन दोनों का चौथी संतान है।
  • हकीमुद्दीन ने बताया जब वे किसी तरह पेशेंट को ई-रिक्शे से लेकर हॉस्पिटल पहुंचे ।
  • तो वहां पर कोई भी नर्स या महिला कर्मचारी उसे स्ट्रेचर से अंदर ले जाने के लिए नहीं आई।
  • वह स्ट्रेचर के लिए इधर-उधर भगते रहे।
  • थोड़ी देर बाद उनकी नजर एक स्ट्रेचर पर पड़ी।
  • उसके बाद वे दौडक़र स्ट्रेचर खींच कर लेकर आए।
  • उसके बाद खुद ही स्ट्रेचर खींचते हुए हॉस्पिटल की इमरजेंसी के अंदर ले गए।
  • तब जाकर डॉक्टर्स ने उसे बच्चे को देखा। 
loading...

You may also like

अपने दैनिक जीवन में अपनाएं यह ‘सिद्धासन’,जोड़ो के दर्द से मिलेगी मुक्ति

नई दिल्ली: इस संसार में कई प्रकार के