शिक्षा विभाग के चक्कर लगा रही है सेवानिवृत्त शिक्षिका, नहीं हुआ वेतन पुनर्निरीक्षण

सेवानिवृत्तसेवानिवृत्त

लखनऊ। बख्शी का तालाब स्थित राजकीय हाईस्कूल खंतारी से सहायक अध्यापक पद से सेवानिवृत्त हो चुकीं। अरुण बाला सक्सेना पिछले डेढ़ साल से डीआईओएस कार्यालय से लेकर पेंशन निदेशालय तक अपने वेतन पुनर्निरीक्षण के लिए चक्कर काट रही हैं। लेकिन अब तक उनका कार्य नहीं हो पाया है। वह थक हार का एक बार फिर डीआईओएस कार्यालय पहुंचीं, लेकिन काम न बनता देख साफ कहा कि अपनी समस्या लेकर अब मुख्यमंत्री के दरबार में ही हाजिरी लगाऊंगी।

वर्ष 2016 में राजकीय विद्यालय खंतारी से हुई थीं सेवानिवृत्त

शिक्षिका अरुण बाला सक्सेना ने बताया कि 31 मार्च 2016 को राजकीय हाईस्कूल खंतारी से सेवानिवृत्त हुई थीं। उसके बाद अपने वेतन पुर्नर्निरीक्षण के लिए पेंशन निदेशालय से लेकर डीआईओएस कार्यालय तक सारी औपचारिकाएं पूरी कर दी। फिर भी उनका काम नहीं हुआ।

ये भी पढ़ें :-एलपीसीपीएस में राष्ट्रीय जॉब फेस्टिवल 21 से व 22 अप्रैल को 

उन्होंने बताया कि उनकी पत्रावली पर पेंशन निदेशालय से प्रपत्र पांच न होने की बात कहकर आपत्ति लगा दी गई। जिसका निस्तारण भी उन्होंने कर दिया। अब पेंशन निदेशालय के कर्मचारी कह रहे हैं कि डीआईओएस कार्यालय से आपत्ति दूर कराइए। जबकि यहां के कर्मचारी पेंशन निदेशालय दौड़ा रहे हैं। आखिर किसके पास जाऊं। उन्होंने कहा कि यदि एक-दो दिन में मेरा काम नहीं होता है तो मुख्यमंत्री से शिकायत करूंगी।

loading...
Loading...

You may also like

NDA के बागी नेता उपेंद्र खुशवाहा पहुंचे पटना, महागठबंधन में हो सकते है शामिल

पटना। कभी NDA में सीट बंटवारे को लेकर