गवर्नर राम नाईक ने किया खिचड़ी भोज व सांस्कृतिक कार्यक्रम का शुभारंभ

लखनऊ। रविवार को आशियाना परिवार द्वारा एक समरसता खिचड़ी भोज और सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया। कार्यक्रम में मुख्य अथिती के तौर पर गवर्नर राम नाईक ने भी शिरकत की और कार्यक्रम का उद्दघाटन किया ।
राज्यपाल के अलावा कार्यक्रम में लखनऊ की महापौर संयुक्ता भाटिया, क्षेत्रीय पार्षद विमल तिवारी सहित अनेक गणमान्य लोगों ने भी शिरकत की।

 गवर्नर राम नाईक के साथ कार्यक्रम में कई धर्मों के लोग हुए शामिल…

  • अन्य लोगों के विभिन्न धर्मों के धर्म गुरुओं के साथ साथ सीएमएस के संस्थापक जगदीश गाँधी ने भी शिरकत की ।
  • राज्यपाल जी द्वारा अपने उद्द्बोधन में उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस की भी चर्चा की।
  • सबसे कहा कि वो इस दिवस को भी धूमधाम से मनायें और अपनी संस्कृति और अपने गौरव को समझें।

ख़राब व्यवस्था पर भी राज्यपाल ने ली चुटकी…

  • मंच पर भाषण के दौरान राज्यपाल ने मंच के हिलने पर आयोजकों को अपने ही अंदाज़ में टोका , दर असल जब राज्यपाल अपना उद्द्बोधन दे रहे थे
  • उस समय मंच पर चढ़ उतर रहे लोगों के कारण वो हिलने लगा।
  • इस पर राज्यपाल ने कहा कि ऐसा लोग समझेंगे कि राज्यपाल 84 वर्ष के हो गए हैं।
  • स्थिर नहीं रह पाते जबकि मंच ही हिल रहा है।
  • राज्यपाल द्वारा ये कहे जाने पर जहाँ आयोजक अपनी बगले झाँकने लगे वहीं बाकि लोग ठहाके लगाकर हँसने लगे।

गोरखा राइफल्स के बैंड ने प्रस्तुत किया राष्ट्रगान…

  • इस अवसर पर 2/11 गोरखा राइफल्स के बैंड ने शी एच एम शोभिन्द्र श्रेष्ठ के नेतृत्व में अपना कार्यक्रम दिया और राष्ट्रगान प्रस्तुत किया।
  • गुरुनानक गर्ल्स इंटर कॉलेज, सेंट फ्रांसिस, पायनियर इंटर कॉलेज सहित अनेक कॉलेज के छात्र छात्राओं ने भी हिस्सा लिया
  • स्वच्छता, हरियाली जागरूकता कार्यक्रम प्रस्तुत किया साथ ही नृत्य और संगीत का भी रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किया।
  • कार्यक्रम में आयोजको द्वारा अनेक सामाजिक संगठनों से जुड़े कार्यकर्त्ताओं और पुलिस कर्मियों को भी सम्मानित किया गया।
  • जिनको महापौर संयुक्ता भाटिया द्वारा शॉल एवं प्रतीक चिन्ह प्रदान किया गया ।
  • कार्यक्रम के अंत मे सभी लोगों के लिए खिचड़ी भोज का भी आयोजन किया गया।
  • जिसका सभी ने भरपूर आनन्द लिया।
loading...

You may also like

पीएम को चोर करने पर भड़के सीएम योगी, कहा- राहुल और कांग्रेस देश से मांगे माफ़ी

गोरखपुर। राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति