बर्फीले तूफ़ान में दबकर 3 जवान शहीद, पूरा Army Post आया चपेट में

Army PostArmy Post

जम्मू। शुक्रवार को उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के मच्छल सेक्टर में एक Army Post हिमस्खलन की चपेट में आ गई। जिसमें 3 जवान शहीद और एक जवान घायल हो गया। खबर के मुताबिक शुक्रवार शाम करीब 4:30 बजे मच्छल सेक्टर के सोना पांडी गली इलाके में बर्फीला तूफ़ान अचानक से आ गया। जिसने 21 जवानों वाले आर्मी पोस्ट को चपेट में ले लिया। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शहीद हुए जवान पर गहरा दुख जताया और परिवारों के प्रति सहानुभूति व्यक्त की है।

ये भी पढ़ें:‘दास देव’ देगी Hate Story-4 के हॉटनेस को टक्कर, एक ही दिन होगी रिलीज 

Army Post kupvada
Army Post kupvada

बर्फीले तूफ़ान में दबकर 3 जवान शहीद, पूरा Army Post आया चपेट में

  • उत्तरी कश्मीर के कुपवाड़ा के मच्छल सेक्टर में अचानक बर्फीला तूफ़ान आ गया।
  • जिसमें तूफ़ान ने सोना पांडी गली इलाके में बने 21 जवानों वाले आर्मी पोस्ट को चपेट में ले लिया।
  • जिसके बाद पोस्ट में तैनात 4 जवान उस तूफ़ान में दब कर लापता हो गए।
  • हिमस्खलन के बाद सेना ने कार्यवाई करते हुए लापता चारो जवानों को निकाला।
  • जिसमें एक की मौके पर ही मौत हो गयी और बाकी को फ़ौरन श्रीनगर के बादामी बाग़ स्थित 92 बेस अस्पताल ले जाया गया।
  • जहां इलाज के वक़्त 2 और जवानों ने दम तोड़ दिया, चौथे जवान की हालत फिलहाल स्थिर बताई जा रही है।
  • शहीद जवानों की पहचान सिपाही राजेंद्र, नायक बलवीर व हवलदार कमलेश कुमार के रूप में हुई है।
  • हालाँकि सेना अधिकारियों ने अभी शहीदों के नाम व पते जारी नहीं किए हैं।

सेना प्रवक्ता ने दी जानकारी

  • शुक्रवार को आये बर्फीले तूफ़ान के बारे में मच्छल पोस्ट के सेना प्रवक्ता ने जानकारी दिया।
  • सेना प्रवक्ता के अनुसार, बर्फीले तूफ़ान के कारण शहीद जवानों के पार्थिव शरीर बरामद कर लिए गए हैं।
  • उन्होंने बताया कि, बुधवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए थे।
  • जिसके बाद गुरुवार को कश्मीर के नौ जिलों में बर्फीले तूफ़ान का अलर्ट जारी कर दिया गया था।
  • पिछले साल दिसंबर में भी कुपवाड़ा में हिमस्खलन की दो घटनाएं हुई थीं।
  • जिसमें 5 जवान बर्फीले तूफ़ान की चपेट में आ जाने से शहीद हो गये थे।
Loading...
loading...

You may also like

जो सरल वह है तरल, व्यक्ति का जीवन सरल होना चाहिए: सलिल जी महाराज 

लखनऊ। वृन्दावन के विख्यात कथा व्यास डा. संजय