जिलानी रिजवी के खिलाफ दर्ज करवाएंगे FIR, बोले-वो मस्जिदों पर ऐसे बयान नहीं दे सकते

जिलानी
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ। वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी के मस्जिदों पर दिए बयान का मामला अब तूल पकड़ने लगा है। एक तरफ जहां उनके बयान की सभी लोग आलोचना कर रहे हैं। वहीं बाबरी एक्शन कमेटी के संयोजक जफरयाब जिलानी ने रिजवी के खिलाफ एफआईआर दराज करवाने की बात कही है। जिलानी ने गुरुवार को कहा कि शिया सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड के अध्यक्ष वसीम रिज़वी मस्जिदों के खिलाफ बयान नहीं दे सकते हैं। मस्जिदों को हिंदुओ को वापस सौपने के लिए लिखे गए पत्र पर वे कानूनी कार्रवाई करेंगे। पत्र मिलते ही वसीम रिज़वी की पुलिस से शिकायत करूंगा।

पढ़ें:-आईएनएक्स मीडिया केस : CBI ने कोर्ट से मांगी कार्ति की रिमांड, सुनवाई जारी 

जिलानी ने जताई आपत्ति

जिलानी ने रिजवी के बयान पर कड़ी आपत्ति जताई है। साथ सलमान नदवी द्वारा बनाये जा रहे बोर्ड पर उन्होंने कहा कि उस बोर्ड का बाबरी मस्जिद से कोई मतलब नहीं है। वहीं श्रीश्री रवि शंकर पर हमला बोल्ट हुए कहा कि श्रीश्री केवल उपचुनाव में बीजेपी को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं। बीजेपी के कमजोर पड़ने के कारण श्रीश्री ध्रुवीकरण का प्रयास कर रहे हैं।

जिलानी ने आगे बोलते हुए कहा कि श्रीश्री के सियासी कोशिशों का मुसलमानों पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। बता दें वसीम रिजवी ने एक बार फिर चिट्ठी लिखकर ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से अपील की है कि जिस भी जमीन पर मंदिरों को तोड़कर मस्जिद बनाई गई है। उसे हिंदुओं को वापस कर देना चाहिए। शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन के द्वारा लिखी इस चिट्ठी में देश के 9 मंदिरों का जिक्र किया गया है। जिन्हें तोड़कर कभी मस्जिदों बनवाया गया था। वसीम ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड को चिट्ठी लिखकर इन जगहों को हिंदुओं को वापस किए जाने की मांग की है।

Related posts:

मुलायम की छोटी बहू की गौशाला में हो रही गायों की मौत
केरल में हो रही है राजनीतिक हिंसा, एबीवीपी की महारैली 11 को
ओमप्रकाश राजभर का बड़ा बयान-अगर साबित हुआ हादसा मेरी गाड़ी से हुआ है, तो मंत्री पद छोड़ दूंगा
राशिफल: जानें कैसा रहेगा आपके लिए आज का दिन
डाले की टक्कर से अध्यापिका की मौत, चालक पुलिस की गिरफ्त में...
उमा भारती का दावा- पाक के खिलाफ नेहरु के मदद मांगने पर संघ गया था कश्मीर
डीजीपी ओपी सिंह कानून व्यवस्था को लेकर अधिकारियों के साथ की बैठक
पत्नी की सहमति बिना संभोग बलात्कार नहीं, ओरल सेक्स क्रूरता: हाईकोर्ट
पतंजलि योग समिति का स्थापना दिवस समारोह मना, किया सामूहिक योग
यूपी के शासकीय विभागों में लागू की जायेगी ई-आफिस प्रणाली
संदिग्ध मौत पर मडिय़ांव पुलिस का मौन
मुन्ना बजरंगी का हत्यारा बागपत से लखनऊ जेल में किया जा सकता है शिफ्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *