कठुआ गैंगरेप: कोर्ट के सामने पेश किए गए सभी आरोपी, अगली सुनवाई 28 अप्रैल को

कठुआ गैंगरेप
Please Share This News To Other Peoples....

जम्मू-कश्मीर। कठुआ में मासूम बच्ची के साथ गैंगरेप कर उसकी हत्या करने के मामले में कठुआ गैंगरेप के आठ आरोपियों को सोमवार को कोर्ट में पेश किया गया। मामले में सुनवाई शुरू होने के बाद जिला एवं सत्र न्यायाधीश संजय गुप्ता ने राज्य अपराध शाखा से आरोपियों को आरोप पत्र की प्रतियां देने का आदेश दिया। अगली सुनवाई की तारीख 28 अप्रैल तय की है।

कठुआ गैंगरेप के आठ आरोपियों में एक नाबालिग है ,उसे भी पुलिस ने किया गिरफ्तार

इन आठ आरोपियों में एक नाबालिग है और उसे भी गिरफ्तार किया गया है। उसने एक न्यायिक मजिस्ट्रेट के समक्ष जमानत का आवेदन दिया है जिस पर सुनवाई की जाएगी। वहीं आरोपियों ने खुद को बेकसूर बताते हुए जिला एवं सत्र न्यायाधीश से नार्को टेस्ट कराने का अनुरोध किया। कठुआ में एक गांव के ‘देवीस्थान’ की देखरेख करने वाले संजी राम को इस अपराध के पीछे मुख्य साजिशकर्ता बताया गया है।

ये भी पढ़ें :-कठुआ केस: राज्य सरकार को सुप्रीमकोर्ट ने भेजी नोटिस, CBI जांच पर नहीं हुई सुनवाई 

संजी राम है  इस अपराध का मुख्य साजिशकर्ता

इस अपराध में विशेष पुलिस अधिकारी दीपक खजूरिया और सुरेंद्र वर्मा, प्रवेश कुमार ऊर्फ मन्नू, संजी राम का भतीजा, एक नाबालिग, और उसका बेटा विशाल जंगोत्रा ऊर्फ ‘शम्मा’ शामिल थे। आरोप पत्र में जांच अधिकारी हेड कांस्टेबल तिलक राज और उप निरीक्षक आनंद दत्ता का भी नाम है। जिन्होंने कथित तौर पर राम से चार लाख रुपए लिए और अहम साक्ष्य नष्ट किए। आरोपियों को जम्मू-कश्मीर के कठुआ जिले के रासना गांव से गिरफ्तार किया गया था। गिरफ्तार लोगों पर आरोप है कि उन्होंने आठ साल की बच्ची को जनवरी में एक सप्ताह तक कठुआ जिले के एक गांव के मंदिर में बंधक बनाकर रखा था। बच्ची को नशीला पदार्थ देकर उसके साथ कई बार दुष्कर्म किया गया और बाद में उसकी हत्या कर दी गई। हत्या के लगभग दो दिनों के बाद 17 जनवरी को बच्ची के शव को जंगल से बरामद किया गया। नाबालिग आरोपी के खिलाफ अलग से आरोप-पत्र दाखिल किया गया है।

15 पन्नों का आरोप-पत्र दाखिल , जिनमें आठ आरोपियों के नाम शामिल

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने 15 पन्नों का आरोप-पत्र दाखिल किया था जिनमें आठ आरोपियों के नाम शामिल हैं। आरोपियों ने बच्ची के साथ दरिंदगी की हद पार की है।   आरोप-पत्र के अनुसार इस पूरी दरिंदगी के पीछे का साजिशकर्ता सनजी राम है। पुलिस ने दावा किया है कि रासना गांव में देवीस्थान के सेवादार संजी राम ने बकरवाल समुदाय (अल्पसंख्यक समुदाय) को इलाके से हटाने के लिए बच्ची से सामूहिक दुष्कर्म और हत्या की साजिश रची थी। इस घिनौने कृत्य में संजी राम के अलावा उसका नाबालिग भतीजा और पुलिस अधिकारी भी शामिल है।

ये भी पढ़ें :-कठुआ गैंगरेप पर बिफरीं सानिया मिर्जा, लिखा धर्म देखकर नहीं करता कोई क्राइम 

सभी आठ आरोपियों ने बारी-बारी से उसके साथ किया दुष्कर्म

आरोप-पत्र के अनुसार 10 जनवरी को संजी राम के कहने पर उसके भतीजे ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर बच्ची को अगवा किया था। बच्ची को नशीली दवाएं देकर देवीस्थान ले जाया गया। जहां सभी आठ आरोपियों ने बारी-बारी से उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान पुलिस ने भी अपनी जांच शुरू कर दी। पुलिस अधिकारी दीपक खजुरिया के नेतृत्व में पुलिस संजी राम के घर भी पहुंची ,लेकिन उसने रिश्वत देकर उनका मुंह बंद कर दिया। आरोप-पत्र में दरिंदगी की हद का जिक्र करते हुए कहा गया कि बच्ची को मारने के लिए जब आरोपी उसे एक पुलिया के पास ले गए तो पुलिस अधिकारी ने उनसे बच्ची को अभी नहीं मारने को कहा क्योंकि वह भी दुष्कर्म करना चाहता था। इसके बाद आरोपियों ने बच्ची को मारकर जंगल में फेंक दिया।

Related posts:

चंद्रशेखर 'रावण’ पर से हटाया जाए रासुका: कम्युनिस्ट पार्टी
पति लड़ रहा है कांग्रेस से चुनाव, पत्नी ने मार- मारकर कर किया बेहाल
गांधी की हत्या की दोबारा नहीं होगी जांच
परेड रिहर्सल के दौरान बड़ा हादसा, हेलीकॉप्टर से गिरे 3 जवान
बलात्कारियों के कार से कूदी नाबालिग़, Sex work से बचाया खुद को
लखनऊ : योगी सरकार ने किये 10 आईपीएस अफसरों के तबादले
मायावती अपने लिए नहीं बल्कि इस नेता के लिए चाहती हैं राज्यसभा सीट
वरुण गांधी ने मोदी सरकार के खिलाफ अपनाया बागी रुख, कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें तेज
लोकसभा चुनाव: केन्द्रीय मंत्री का खुलासा- मायावती के खिलाफ राखी सावंत होंगी BJP उम्मीदवार
भाजपा विधायक का विवादित बयान– लोकसभा चुनाव होगा धर्मयुद्ध, धृतराष्ट्र होंगे मुलायम और लालू
आधी रात को प्रेमिका से मिलने गये प्रेमी की बेरहमी से हत्या
एबीपी के छात्रों ने नियंता मंडल के साथ की मारपीट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *