मायावती ने बीजेपी पर लगाया बड़ा आरोप, मेरे हत्या की हो रही है साजिश

साजिश
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। राज्यसभा चुनाव में मिली हार असर सपा-बसपा गठबंधन पर नहीं पड़ेगा। इसके भविष्य पर जारी सस्पेंस को शनिवार को मायावती प्रेस कांफ्रेस कर खत्म कर दिया है। उन्होंने कहा कि वह और अखिलेश आगे भी साथ रहेंगे। बीएसपी अध्यक्ष ने एसपी से दूरी की बड़ी वजह रही ‘गेस्ट हाउस कांड’ पर अखिलेश यादव को ‘क्लीनचिट’ दे दी है । उन्होंने इसी बहाने बीजेपी पर हत्या की साजिश का आरोप लगाया है ।

सपा-बसपा

हत्या कर हमारे आंदोलन को खत्म करना चाहती है बीजेपी

मायावती ने राज्यसभा चुनाव में बीजेपी से मिली हार पर कहा कि ‘सरकारी आतंक’ के माध्यम से उनके समर्थक विधायकों को डराया गया। जिससे की दलित उम्मीदवार भीमराव अंबेडकर की हार हुई। मायावती ने यूपी सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि योगी सरकार मेरी हत्या करवाना चाहती है और इस तरह हमारे आंदोलन को खत्म करना चाहती है।

ये भी पढ़ें :-सपा-बसपा को अलग करने चाहती थी BJP, हमारे रिश्ते को तोड़ नहीं पायी : मायावती

गेस्ट हाउस कांड में शामिल पुलिसकर्मियों को  बीजेपी बड़ा ओहदा देकर क्या साबित करना चाहती है?

मायावती ने कहा कि बीजेपी 2 जून 1995 के गेस्ट हाउस कांड की याद दिला रही है। कि यह हत्या करने की साजिश थी। बीजेपी आज इस घटना में शामिल पुलिसकर्मियों को आज बड़ा ओहदा देकर क्या साबित करना चाहती है? क्या वो हमारी हत्या चाहते हैं? बीजेपी बार-बार बीएसपी-एसपी गठबंधन पर निशाना साधती रही है। बीजेपी ने पिछले दिनों कहा था कि गठबंधन के लिए उतावले अखिलेश को ये कभी नहीं भूलना चाहिए कि उनकी ही पार्टी ने किस तरह ‘गेस्ट हाउस कांड’ में बहन मायावती पर कातिलाना हमला किया था।

ये भी पढ़ें :-देश से नक्सलवाद खत्म होने की कगार पर : राजनाथ सिंह 

राज्यसभा चुनाव का खामियाज़ा 2019 के आम चुनाव में भुगतेगी बीजेपी

मायावती ने राज्यसभा चुनाव में बीएसपी उम्मीदवार को मिली हार का जिक्र करते हुए कहा कि 2019 के आम चुनाव में बीजेपी को इसका परिणाम भुगतना होगा। उन्होंने कहा कि मैं बीजेपी एंड कंपनी को आगाह कर देना चाहती हूं कि एसपी-बीएसपी गठबंधन को तोड़ने की कोशिश में वह सफल नहीं होंगे। राज्यसभा चुनाव  परिणाम का गठबंधन पर एक इंच भी फर्क नहीं पड़ेगा।

ये भी पढ़ें :-नवरात्रि में 9 दिन का उपवास रखने वाले योगी ने कैसे खाया लड्डू, उठ रहे हैं सवाल 

राज्यसभा चुनाव परिणाम का असर रिश्तों में कोई अंतर नहीं  आयेगा

उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्यसभा चुनाव से बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी के रिश्तो में कोई अंतर नही आयेगा, बल्कि दोनों पार्टियों के लोग मिलकर आने वाले चुनाव में पूरी ताकत झोंक देंगे। कांग्रेस पुरानी सहयोगी है । उन्होंने फूलपुर-गोरखपुर लोकसभा चुनाव परिणाम का जिक्र करते हुए कहा कि बीजेपी इस हार से बौखलाई हुई है। यही वजह थी की बीजेपी ने एक अतिरिक्त उम्मीदवार धन्नासेठ अनिल अग्रवाल को मैदान में उतारा। मायावती ने कहा कि बीजेपी की ओर से अतिरिक्त उम्मीदवार उतारकर निर्विरोध न होकर चुनाव को मतदान आधारित बना सकें।

कुंडा के गुंडा पर नहीं करना था भरोसा

मायावती ने कहा कि अखिलेश को सचेत होकर कुंडा के गुंडा कहे जाने वाले राजा भैया पर भरोसा नहीं करना था अगर वो उस पर भरोसा नहीं करते और रणनीति पर काम करते तो आज राज्यसभा चुनाव के परिणाम दूसरे होते। अभी वो राजनीति में नए हैं धीरे-धीरे मजबूत होंगे।

Related posts:

अब उत्तर प्रदेश में रोकेगी कन्या भ्रूण हत्या : महिला कल्याण मंत्री
गुजरात में बैकफुट पर बीजेपी, कांग्रेस को मिला ओबीसी एससी/एसटी संयोजक अल्पेश का साथ
यूपी निकाय चुनाव: ऊर्जा मंत्री के जिले में बीजेपी की बिजली गुल
लखनऊ : कालीचरण कालेज में फर्जी उपस्थिति का खेल, 25 हजार दो घर बैठे वेतन लो
Laiken विलक्षण पौधा, औषधियों के विकास में होगी महत्वपूर्ण भूमिका
बेगूसराय : शादीशुदा मालकिन से प्यार की मिली सजा, युवक की आंखों में डाला तेज़ाब
संत गाडगे की 141वीं जयन्ती मनी, आरक्षण समर्थकों ने किया याद
सीएम ने दिए पॉवर कारपोरेशन की ऑनलाइन परीक्षा में धांधली की जांच के निर्देश
चारबाग रेलवे स्टेशन से डीजीपी ओपी सिंह ने किया स्वच्छता अभियान का शुभारम्भ
युवाओं को लुभाने के लिए अखिलेश यादव ने चल बड़ा दांव, बीजेपी में टेंशन
आरटीआई एक्टिविस्ट का खुलासा, भाजपा के इस नेता के बैंक में जमा हुए सबसे ज्यादा पुराने नोट
दिल्ली से रूठा मानसून, उत्तर भारत के कई राज्यों में भारी बारिश की आशंका

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *