मात्र 3 महीनों में हिंसक अपराधों में गई हजारों लोगों की जान

हिंसक अपराधों
Please Share This News To Other Peoples....

मैक्सिको। सरकारी आंकड़ों के अनुसार मैक्सिको में हिंसक अपराधों में मौत के लिहाज से मार्च का महीना सबसे खतरनाक ज्यादा खतरनाक साबित हो रहा है, वहा पर हत्याओं के मामले लगातार तेज़ी से बढ़ते नज़र आ रहे हैं। इस वर्ष मार्च तक हिंसक अपराधों में कुल मिलाकर 7,667 लोगों की जान जा चुकी है। हिंसक अपराध पिछले साल की तुलना में 20 प्रतिशत अधिक हो गए है।

मात्र 3 महीनो में गई हजारों लोगो कि जान

सरकारी आंकड़ों के हिसाब से हिंसक अपराधों में मौत के लिहाज से मार्च का महीना सबसे ज्यादा खतरनाक रहा है। यहा पर केवल मार्च में 2,729 लोगों की हत्या हो चुकी है।  दूसरी तरफ जनवरी में कुल 2,549 और फरवरी में 2,389 लोगों की हत्या हो चुकी है। मैक्सिको सुरक्षा सेवाओं के अनुसार पता चला है कि वर्ष 2017 में इस दौरान 6,406 लोंगों की हिंसक घटनाओं में हत्या की चुकी थी। इस वर्ष ऐसी घटनाओं में काफी ज्यादा बढ़ोतरी हुई है। हत्याओं के पीछे सबसे बड़ी वजह नशीली दवाओं की तस्करी, तेल चोरी, अपहरण और अवैध वसूली आदि ही हैं।

यह भी पढ़े : एयर इंडिया को भुगतना पड़ रहा है हर महीने करोड़ों का नुकसान

जो लोग ऐसी घटनाओं को अंजाम देते है उनके गिरोहों के बीच अक्सर हिंसक झड़पें होती ही रहती हैं और लोगों को जान जाती रहती है। ऐसी हिंसक घटनाओं पर लगाम कसने  के लिए मैक्सिको की सरकार काफ़ी लंबे समय से प्रयास कर रही है, परन्तु घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रही हैं।

Related posts:

हजारों की नगदी के साथ आधा दर्जन जुआरी धरे गए
जुंआ में हार-जीत को लेकर, गाडिय़ों में तोडफ़ोड़
लखनऊ : घर का ताला तोड़कर बदमाश ले उड़े नक़दी, जेवरात...
पहले जबरन करवाया Religion change फिर रचा पत्नी को बेचने का षड्यंत्र
लखनऊ : क्लीनिक के सामने अज्ञात शव मिलने से मचा हडकंप...
लखनऊ : फंदे से लटकती मिली महिला की लाश
आखिर ऐसा क्या ट्वीट कर दिया इस एक्ट्रेस ने, Snapchat को अरबों का नुकसान
असलहों की तस्करी के मामले में कई तस्कर दबोचे गए...
एटीएस ने कुख्यात नक्सल कृष्ण मुरारी को किया गिरफ्तार
एक्ट्रेस के न्यूड वीडियो को डायरेक्टर ने किया वायरल, हुई गिरफ़्तारी
CBI से कुलदीप सेंगर ने कहा- घटना के वक्त मैं उन्नाव में था ही नहीं...
पुलिस को 48 घण्टे का अल्टीमेटम, नहीं तो कांग्रेस महिला मोर्चा करेगी उग्र आंदोलन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *