राहुल गांधी ने ट्वीट कर रविशंकर प्रसाद पर बोला हमला, फिर मिला ये करारा जवाब

रविशंकर प्रसाद
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर मोदी सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने ट्वीट के जरिये अदालतों में काफी संख्या में मामले लंबित रहने और न्यायाधीशों की कमी को लेकर कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद पर निशाना साधा है। साथ ही उन्होंने रविशंकर प्रसाद पर फर्जी खबरें फैलाने का आरोप भी लगाया है। राहुल ने अपने ट्वीट में लिखा कि श्रीमान राहुल गांधी आंकड़े में हेरफेर के लिए कैंब्रिज एनालिटिका को नोटिस भेजने से आप निश्चित ही बहुत अधिक चिंतित होंगे। गुस्सा, हताशा और डर, इसके कारण अब आप इसमें न्यायपालिका को खींच रहे हैं। जिस पर कानून मंत्री ने उनके ट्वीट पर ट्विटर के जरिए ही पलटवार किया है।

पढ़ें:- पीएम नरेंद्र मोदी के पास है झूठ बोलने की किताब! पन्ने पलटकर बोलते हैं महंगे झूठ: राहुल गांधी

रविशंकर प्रसाद का पलटवार

शनिवार को राहुल गांधी ने कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद पर हमला बोलते हुए ट्वीट किया कि ‘मामले लंबित रहने से न्याय व्यवस्था चरमरा रही है। उच्चतम न्यायालय में 55 हजार से ज्यादा, उच्च न्यायालयों में 37 लाख से ज्यादा, निचली अदालतों में 2.6 करोड़ से ज्यादा मामले लंबित हैं। फिर भी उच्च न्यायालयों में 400 और निचली अदालतों में 6000 न्यायाधीशों की नियुक्ति नहीं हुई है। जबकि कानून मंत्री फर्जी खबरें फैलाने में व्यस्त हैं।

राहुल ने अपने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘न्यायमूर्ति के एम जोसफ ने 2016 में उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन का फैसला पलट दिया। जब उनका नाम उच्चतम न्यायालय के लिए प्रस्तावित किया गया तो मोदी जी के अहम को ठेस पहुंची। उच्चतम न्यायालय और विभिन्न उच्च न्यायालयों के लिए सौ से अधिक न्यायाधीशों की नियुक्ति को स्थगित कर दिया गया।

उनके इस ट्वीट के पलटवार में रविशंकर प्रसाद ने ट्वीट किया कि श्रीमान राहुल गांधी, आपके ट्रैक रिकॉर्ड को कायम रखते हुए आपकी टीम ने एक बार फिर होमवर्क नहीं करते हुए आपको गलत जानकारी दी. यूपीए कार्यकाल में उच्च न्यायालयों में हर साल औसतन 86 न्यायाधीशों की नियुक्ति की गई थी। उसके दूसरे कार्यकाल में यह आंकड़ा प्रतिवर्ष 79 था। लेकिन एनडीए के कार्यकाल में यह सालाना 109 है। 2016 में उच्च न्यायालयों में रिकॉर्ड 126 न्यायाधीशों को नियुक्ति दी गई, आजादी के बाद से यह सबसे ज्यादा है।

कैंब्रिज एनालिटिका को लेकर बीजेपी कांग्रेस में छिड़ी जंग

उल्लेखनीय है कि कांग्रेस और बीजेपी फेसबुक डेटा लीक मामले में कैंब्रिज एनालिटिका की भूमिका होने की बात सामने आने के बाद जंग छिड़ी हुई है। दोनों पार्टियां एक-दुसरे पर चुनाव परचार के लिए कैंब्रिज एनालिटिका की सेवा लेने की बात कह रही हैं। इस मामले में रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस पर आरोप लगाया था कि उसने पिछले चुनावों में विवादास्पद डाटा कंपनी कैंब्रिज एनालिटिका की सेवाएं ली थीं। हालांकि कांग्रेस ने आरोपों से इंकार किया और बीजेपी पर आरोप लगाया कि उसने कंपनी की सेवाएं ली हैं।

Related posts:

कांग्रेस के 'राहुल युग' का आगाज
हाई वोल्टेज ड्रामा खत्म, बीजेपी के लिए बड़ी राहत
रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने लड़ाकू विमान से उड़ान भरा, पायलट की ड्रेस में बैठी
सामाजिक समरसता दिवस के रूप में मनाया गया राज्यमंत्री अनिल राजभर का जन्मदिन
लखनऊ : ग्रामीणों की हिम्मत के आगे पस्त बदमाश भाग निकले...
7 एम मंत्र देते हुए सीएम ने कहा- गंगा और गाय की रक्षा से होगी देश की रक्षा
बाबरी मस्जिद के पक्षकार इकबाल अंसारी को जान का खतरा, नहीं हो रही कोई सुनवाई
छात्र ने की आत्महत्या, परीक्षा के दबाव में उठाया यह क़दम...
ब्रेकिंग : नवाज़ शरीफ को अदालत का एक और झटका, हटाए गए...
ब्रेकिंग : निदहास टी20 सीरीज के फ़ाइनल मुकाबले में भारत ने जीता टॉस...
तेजस्वी यादव ने नीतीश को बताया ‘कुर्सी का प्यारा’, फिर समर्थकों ने जमकर लताड़ा
यूपी बोर्ड: हाईस्कूल व इंटरमीडिएट का रिजल्ट 29 अप्रैल को

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *