मुसाफिरों को रोक कर धड़ल्ले से बदमाश कर रहे लूट…

लखनऊ। राजधानी में बदमाशों का कहर जारी है और इसे रोक पाने में पुलिस नाकाम साबित हो रही है। जानकीपुरम् इलाके में बुधवार रात नकाबपोश बदमाश करीब दो घंटे तक राहगीरों को बंधक बनाकर लूटपाट करते रहे और पुलिस को इसकी भनक भी नहीं लगी। हद तो तब हो गई जब सूचना मिलने के बाद पुलिस को पहुंचने में एक घंटे से अधिक का समय लग गया।

जानकारी के मुताबिक…

मूलरूप से जालौन निवासी शिव सिंह अजनहर गांव निवासी पिंकू यादव के मकान में किराये पर रहते है। शिव सिंह शुक्ला चौराहे पर पानी-पूरी का ठेला लगाता है। बुधवार रात लगभग साढ़े आठ बजे जब वह ठेला लेकर वापस घर जा रहा था तभी रास्ते में सूनसान स्थान पर खड़े बदमाशों ने उसको मारापीटा और करीब एक हजार रूपये व मोबाईल छीन लिया। यही नहीं लूटपाट की वारदात को अंजाम देकर बदमाशों ने उसे बंधक बनाकर झाडिय़ों में डाल दिया। जिसके बाद उधर से गुजर रहे बुजुर्ग किसान समेत चार अन्य राहगीरों से भी बदमाशों ने लूटपाट कर उन्हें भी बंधक बना लिया।

गोहनाकलां गांव निवासी 65 वर्षीय बुजुर्ग किसान बदलूराम रावत के मुताबिक वह सब्जी बेंचकर वापस घर जा रहे थे, तभी बदमाशों ने अचानक उन हमला बोल दिया और साईकिल व करीब तीन सौ रूपये छीनकर उन्हीं के गमछे से हाथ पैर बांध दिये। यही नहीं विरोध करने पर उनकी जमकर पिटाई भी की जिससे उनके हाथ व पैर में गंभीर चोटें आई है। बदलूराम ने बताया कि उनसे पहले शिव सिंह व कमलू रावत के अलावा दो अन्य लोगों को बदमाशों ने पहले से ही बंधक बना रखा था।

यह भी पढ़ें : लखनऊ : चलती गाड़ी में टेन्ट व्यापारी की गोली मारकर हत्या

फरिश्ते बनकर आये युवक, बचाई जान

बदलूराम ने बताया कि पांचों को बंधक बनाने के बाद बदमाश अगले शिकार की तलाश में थे तभी दूर से मोटरसाईकिलों को आता देख वहां से चले गये। इस बीच शिव सिंह किसी तरह घिसटता हुआ सडक़ पर पहुंचा और बाइक से किसी वैवाहिक समारोह में जा रहे युवकों को रोककर मदद की गुहार लगाई। पूरा माजरा समझते ही युवकों ने सभी के हाथ पैर खोले और 100नं. पर इसकी सूचना दी। बदलूराम का कहना था कि यदि मौके पर युवक नहीं पहुंचते तो रातभर वह लोग बंधक बने रहते और उनकी जान भी जा सकती थी।

यह भी पढ़ें :टै्रक्टर-ट्राली की बाइक से भिड़ंत, युवक की मौत…

पुलिस पर लापरवाही का आरोप

बदलूराम का आरोप है कि सूचना देने के बाद पुलिस को पहुंचने में एक घंटे से अधिक का समय लग गया। इस बीच जानकारी मिलते ही आसपास के ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गये पुलिस की लापरवाही पर जमकर आक्रोश व्यक्त किया। उनका कहना था कि आयेदिन डकैती व लूट की वारदाते हो रही है, बावजूद उसके गश्त तो दूर सूचना के बाद भी पुलिस को पहुंचने में समय लग रहा है। राजधानी में ताबड़तोड डकैती की वारदातों के बाद पुलिस के आलाधिकारी भले ही ग्रामीण इलाकों में गश्त बढ़ाये जाने के दावे कर रहे हो, लेकिन जानकीपुरम् इलाके में बंधक बनाकर लूटपाट की वारदात ने दावों की पोल खोल दी। इस वारदात से ग्रामीण काफी दहशत में है और पुलिस से उनका विश्वास भी उठ गया है।

22 से 24 वर्ष थी बदमाशों की उम्र।

बदलूराम के मुताबिक बदमाशों की सं या करीब 6 थी और देखने में उनकी उम्र 22 से 24 वर्ष लग रही थी। सभी बदमाश नकाब लगाये हुये थे और कट्टा व लाठी-डंडों से लैस थे। यही नहीं उनकी बातों से ऐसा प्रतीत हो रहा था कि वह आसपास के ही रहने वाले है। उन्होंने स्थानीय पुलिस पर खासा नाराजगी जताई है। उन्होंने रिपोर्ट दर्ज कराने से इन्कार करते हुए कहा कि पुलिस को घटना स्थल पर पहुंचने में एक घण्टा लग गया है। ऐसे में पुलिस बदमाशों के खिलाफ क्या कार्रवाई करेगी। वहीं इंस्पेक्टर जानकीपुरम ने पीके झा ने बताया कि पीडि़त की तहरीर पर मुकदमा दर्ज करा लिया गया है।

loading...
Loading...

You may also like

आम आदमी पार्टी का अनोखा अभियान, किया ताजमहल पर धरना देने का ऐलान

आगरा। आम आदमी पार्टी ने ताजमहल के टिकट