मोदी के आम बजट से TDP नाखुश, अब आर-पार मूड में

TDPTDP

नई दिल्ली। केंद्र की मोदी सरकार ने गुरुवार को संसद में अंतिम आम बजट पेश किया। इस बजट में वित्त मंत्री अरुण जेटली का दावा है कि गरीबों और किसानों के लिए अपना पिटारा खोला। इस बजट की कई विरोधी दलों ने आलोचना की है, लेकिन अब बीजेपी को उसके साथी से ही झटका लगा है। एनडीए में शामिल तेलुगु देशम पार्टी TDP ने बजट पर निराशा व्यक्त की है।

TDP का NDA  में सफर लग सकता है ब्रेक

  • आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चन्द्र बाबू नायडू ने बजट में आवंटन को सही नहीं बताया है।
  • बजट पेश होने के बाद ही नायडू ने अपने सांसदों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग पर बात की।
  • जिसके बाद ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि TDP का NDA में सफर यहीं थम सकता है।
  • वह जल्द ही कोई बड़ा फैसला ले सकते हैं ।
  • TDP सांसदों ने नायडू से बजट को लेकर शिकायत की।

ये भी पढ़ें :-राहुल गांधी ने भी माना Hindu देवी-देवताओं की भक्ति में है शक्ति

आंध्र प्रदेश के लिए इस बजट में कुछ नहीं

  • उन्होंने बताया कि आंध्र प्रदेश के लिए इस बजट में कुछ नहीं है।
  •  न ही रेल बजट में भी विशाखापट्टनम को लेकर कुछ कहा गया है।
  • सांसद आंध्र प्रदेश की नई राजधानी अमरावती के लिए कोई मदद न मिलने से भी नाराज हैं।
  • बजट के बाद पार्टी सांसद टीजी वेंकटेश कहा कि अब हम आर-पार की लड़ाई के मूड में है।
  • हमारे पास सिर्फ तीन ही विकल्प हैं।
  • पहला कि हम ऐसे ही कोशिश करते रहे, दूसरा हमारे सांसद इस्तीफा दे दें या तीसरा अपना गठबंधन ही तोड़ दें।

 आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने पहले कर NDA से  राह चुनने का इशारा

  • कुछ ही दिन पहले आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने एनडीए से अलग राह चुनने का इशारा किया था।
  • उन्होंने कहा था कि पिछले कुछ समय से राज्य में BJP  के नेता TDP की आलोचना कर रहे हैं।
  • इन्हें रोकने की जिम्मेदारी केंद्रीय नेतृत्व की है।
  • उन्होंने कहा कि हम दोनों दल (TDP और BJP  ) मिलकर राज्य सरकार चला रहे हैं।
  • ऐसे में एक-दूसरे पर टिप्पणी करना अनुचित है।
  • हम गठबंधन धर्म निभा रहे हैं।
  • बीजेपी के नेता लगातार TDP सरकार पर उंगली उठा रहे हैं।
  •  अगर उन्हें हमारी जरूरत नहीं है तो हम अलग रास्ता अख्तियार कर सकते हैं।

शिवसेना व TDP के अलग होने के संकेत से 2019 का चुनाव  दिलचस्प होने की उम्मीद

  •  हाल ही में महाराष्ट्र में बीजेपी के साथ गठबंधन में रही शिवसेना ने 2019 के चुनाव में अलग लड़ने का ऐलान कर दिया है।
  • शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अलग चुनाव लड़ने की कसम खाई है।
  • अब टीडीपी ने NDA से अलग होने के संकेत दिए हैं।
  •  बीते कुछ समय से टीडीपी और बीजेपी के रिश्तों में तनाव की खबरें भी आ रही थीं।
  • इसी सिलसिले में नायडू ने बीते 12 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  से मुलाकात भी की थी।
  • अब उनके अलग होने के संकेत से 2019 का चुनाव और भी दिलचस्प होने की उम्मीद जताई जा रही है।
loading...

You may also like

अपने आशिक के साथ रहने पर अड़ी 6बच्चों की माँ

लोटन,सिद्धार्थनगर। लोटन कोतवाली क्षेत्र की एक गांव की