टेलिकॉम सेक्टर में 30 हज़ार लोगों की नौकरी पर खतरा

Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। देश के टेलिकॉम सेक्टर में आने वाले दिनों में 30 हज़ार लोगों की नौकरियों पर संकट के बादल घिर सकते हैं । ऐसा टेलिकॉम सेक्टर में होने वाली छंटनी और टाटा , रिलायंस जैसे बड़े टेलिकॉम ब्रांडो के अपना धंधा बदलने के चलते हो सकता है। गौरतलब है रिलायंस कम्युनिकेशंस ने अपने वायरलेस बिजनस के बड़े हिस्से को बंद करने की घोषणा की है। जबकि टाटा ग्रुप अपना मोबाइल बिजनेस भारती एयरटेल को बेच रहा है। टेलिकॉम सेक्टर में बड़े बदलावों के चलते अगले एक साल में करीब 30 हजार नौकरियां घट सकती हैं। सबसे ज्यादा नौकरियों के जाने का खतरा डेटा एंट्री, टेलिकॉलिंग, ग्राउंड-फ्लीट सेल्स जैसे सेगमेंट में है।

इसके अलावा टेक्निकल जॉब्स और टेलिकॉम इंजीनियरिंग से जुड़े सेगमेंट में काफी छंटनी होगी। इस तरह की जॉब्स में आमतौर पर शुरुआती मासिक सैलरी 40,000 रुपए होती है। इस फील्ड के जानकारों का कहना है कि इंफ्रास्ट्रक्चर और नेटवर्क इंजीनियरिंग, सेल्स और डिस्ट्रीब्यूशन, टेलिकॉम इंजीनियरिंग, ह्यूमन रिसोर्स और फाइनेंस, कॉल सेंटर और सपोर्ट फंक्शंस से जुड़े प्रोफाइल्स के लिए मुश्किल होगी। एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगले एक वर्ष में टेलिकॉम इंडस्ट्री से निकलने वाले कर्मचारियों के लिए अन्य सेक्टर्स में रोजगार के मौके हैं। मगर, उन्हें अपनी स्किल्स को बढ़ाना होगा। इसके साथ ही उन्हें यूजर एक्सपीरियंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स और आर्टिफिशल इंटेलिजेंस जैसी नई टेक्नोलॉजी के बारे में भी सीखना होगा।

 

Related posts:

प्रो. रमेशलाल: चिकित्सक सुनें मरीजों की परेशानी
कार कंपनी निसान ने ठोका भारत पर केस, मांगे करीब 5,000 करोड़ रुपए
SAHARA GANJ MALL : मिट्टी धसने से एक मजदूर की मौत दूसरा गंभीर
नीतीश कुमार पर हमले को लेकर JDU ने तेजस्वी पर लगाया गंभीर आरोप
संघ परिवार व उनके अनुशांगिक संगठनों के काडर को बॉर्डर भेजा जाये : डॉ. रमेश दीक्षित 
नरेश अग्रवाल बोले- आतंकियों ने कर रखा है ये हाल, अगर पाकिस्तानी सेना आयी तो क्या करेंगे?
अमित शाह की बाइक रैली का विरोध, गिरफ्तार हुए कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष
पीएनबी घोटाला: नीरव मोदी के खिलाफ़ ईडी की बड़ी कार्रवाई
जया प्रदा का बड़ा बयान, कहा- आज़म खां ने मुझे खिलजी के जैसा परेशान किया
आंदोलन : मुंबई की दहलीज़ पर आक्रोशित किसानों की दस्तक...
सूपा देउराली मन्दिर : नेपाल में हैं माँ काली का स्थान, पूरी होती है सारी मुरादें
भारत-पाक क्रिकेट सीरीज पर बीसीसीआइ लेगी फैसला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *