शानदार रहा Governor का साढ़े तीन साल का कार्यकाल…

GovernorGovernor

लखनऊ। यूपी के Governor राम नाईक का साढे तीन साल का कार्यकाल बेहतरीन कार्यकाल के तौर पर याद किया जाएगा । जनवरी 2018 तक बीते साढ़े तीन साल में उन्होंने स्वयं को केन्द्र के नुमाइंदे के साथ ही साथ राज्य की ‘जनता का अपना Governor के तौरपर खुद को पहचनवाया है। इस दौरान उन्होंने मुलाकातों, राज्य के जिलों में दौरे के ज़रिये संवाद बढ़ाने का अभूतपूर्व कार्य कर अपने को सिद्ध किया है।

यह भी पढ़ें :आगामी विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी ने घोषित किये उम्मीदवार…देखें लिस्ट…

 22 जुलाई, 2014 को Governor ने संभाला था ओहदा…

  • राज्यपाल ने राज्य की जनता के विभिन्न वर्गों के लोगों से मिलने जुलने की जो परम्परा शुरू की।
  • उसे आगे बढ़ाते हुये अब तक लगभग 22 हजार लोगों से भेंट कर कर चुके हैं।
  • उत्तर प्रदेश के साथ अपने संबंधों को अत्यंत अपनत्व भरा बनाया है।
  • मराठी भाषी होते हुये भी उन्होंने हिन्दी भाषी जनता के साथ संवाद को न केवल बढ़ाया।
  • बल्कि हाल के महीनों में उत्तर प्रदेश की पहचान (ब्रांडिंग) में भी भरपूर योगदान देकर लोगों के बीच एक खास मक़ाम बनाया है।
  • यह सभी जानते हैं कि उत्तर प्रदेश स्वतंत्रता आंदोलन का प्रमुख केन्द्र रहा है।
  • लेकिन आजादी के बाद स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस के अतिरिक्त आजादी के लड़ाई के अन्य प्रस्थान बिन्दुओं पर कभी ध्यान नहीं दिया जाता रहा है।
  • Governor राम नाईक ने राज्य की इस कमी को दूर करते हुये राज्य सरकार को ‘स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है।
  • इसे मैं लेकर रहूंगा’ की लखनऊ कांग्रेस में लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक द्वारा की गयी।
  • सिंहगर्जना को एक आयोजन के रूप में मनाये जाने की प्रेरणा दी।
  • पूरे कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के साथ उपस्थित रहकर उत्तर प्रदेश के साथ अपने संबंधों को एक नया आयाम दिया।
  • इन्वेस्टर्स समिट के जरिये पूरे देश और विदेशों में उत्तर प्रदेश की ब्रांडिंग के लिये कार्यरत राज्य सरकार के प्रयासों को एक नई दिशा दी
  • राज्यपाल ने उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के आयोजन की प्रेरणा सरकार को दी।
  • गत 24 से 26 जनवरी तक उसका भव्य आयोजन सुनिश्चित करा कर उत्तर प्रदेश के लोगों की बेहतरी को एक नई दिशा भी प्रदान की।
  • जनता से संवाद लोकतंत्र की मौलिक आवश्यकता है जिसे राज्यपाल ने निरन्तर बनाये रखा है।
  • राज्यपाल ने जनसंख्या एवं क्षेत्रफल की दृष्टि से विशाल उत्तर प्रदेश में सैकड़ों सार्वजनिक कार्यक्रमों में अब तक प्रतिभाग किया है।
  • अपने साढ़े तीन साल के कार्यकाल में राज्यपाल ने राजभवन में 21,581 लोगों से मुलाकात की।
  •  इसमें पिछले छ: माह की 3,337 मुलाकातें शामिल हैं।
  • जो कि चौथे वर्ष की 50 प्रतिशत अवधि समाप्त होने पर प्रथम वर्ष की कुल मुलाकातों का 57.43 प्रतिशत है।
  • राज्यपाल से मुलाकात करने वालों का सिलसिला लगातार बढ़ता रहा है।
  • इससे पूर्व शायद ही किसी राज्यपाल ने आमजन से व्यक्तिगत रूप से इतनी मुलाकातें की होंगी।

यह भी पढ़ें :उत्तर प्रदेश में योगी राज नहीं जंगलराज है : आम आदमी पार्टी

अब तक के कार्यकाल में 766 कार्यक्रमों में शामिल हुए..

  • राज्यपाल अपने अब तक के कार्यकाल में राजभवन और लखनऊ में आयोजित 766 कार्यक्रमों में शामिल हुए।
  • जिसमें 113कार्यक्रम पिछले 6 माह की अवधि में आयोजित हुए है जो प्रथम वर्ष की कार्यक्रमों का 56.78 प्रतिशत है।
  • राज्यपाल नाईक ने लखनऊ के बाहर 480 कार्यक्रमों में शिरकत की, जिसमें 87 कार्यक्रम पिछले 6 माह की अवधि के हैं।
  • जो प्रथम वर्ष के कुल कार्यक्रमों के सापेक्ष 60.83 प्रतिशत है।
  • राम नाईक द्वारा अपने क्रियाकलापों की जानकारी जवाबदेही एवं पारदर्शिता के मद्देनजर जनता को प्रेस विज्ञप्तियों के माध्यम से प्रदान की गयी।
  • राज्यपाल के अब तक के कार्यकाल में कुल 1,572 प्रेस विज्ञप्तियाँ जारी हुई।
  • जिनमें 250 विज्ञप्तियाँ पिछले 6 माह की अवधि में जारी हुई हैं।
  • जो कि प्रथम वर्ष में जारी कुल विज्ञप्तियों का 67.93 प्रतिशत है।
loading...
Loading...

You may also like

आम आदमी पार्टी का अनोखा अभियान, किया ताजमहल पर धरना देने का ऐलान

आगरा। आम आदमी पार्टी ने ताजमहल के टिकट