उज्जैन स्थित महाकाल ज्योतिर्लिंग पर जलाभिषेक व दुग्धाभिषेक मानक तय, सुप्रीम कोर्ट बड़ा फैसला

Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ । सुप्रीम कोर्ट ने उज्जैन स्थित महाकाल ज्योतिर्लिंग के क्षरण को लेकर शुक्रवार को बड़ा फैसला सुनाया है। कोर्ट ने जलाभिषेक और दुग्धाभिषेक को लेकर बड़ा निर्देश दिया है। कोर्ट ने कहा है कि शिवलिंग का अभिषेक केवल मिनरल वाटर से किया जायेगा। साथ ही कोर्ट ने क्षरण को रोकने के लिए मंदिर प्रबंधन को निर्देश भी दिए हैं। वहीं इस मामले में अगली सुनवाई 30 नवम्बर को होगी।

सकारात्मक टिप्पणी करने के साथ ही कुछ निर्देश भी दिए है। सुप्रीम कोर्ट ने माना कि मंदिर प्रबंधन क्षरण रोकने के लिए जो उपाय कर रहा है वो संतोषजनक है। हालांकि सर्वोच्च न्यायालय ने जलाभिषेक और दुग्धाभिषेक को लेकर निर्देश दिए हैं। इसके अलावा निर्देश दिए कि भस्मारती के दौरान शिवलिंग ढका रहेगा। मामले में अगली सुनवाई अब 30 नवंबर को होगी।

बतातें चलें  है कि महाकाल शिवलिंग के क्षरण को लेकर दायर याचिका पर लगातार कवायद चल रही है। सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पिछले दिनों पुरातत्व विभाग, भूवैज्ञानिकों और अन्य विशेषज्ञों की टीम ने महाकाल का दौरा कर शिवलिंग, पानी, फूल, दूध सहित तमाम पहलूओं की जानकारी जुटाई थी। इस टीम ने कोर्ट को बताया था कि पूजा के दौरान महाकाल को चढ़ाई जा रही कुछ चीज़ों से शिवलिंग को नुकसान हो रहा है जिनमें कुंड का पानी भी शामिल है।

आधा लीटर आरओ वॉटर, 1.25 लीटर से दूध से होगा अभिषेक

सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिए कि अब से महाकाल ज्योतिर्लिंग का जलाभिषेक केवल आरओ वॉटर से ही होगा। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट ने पानी की मात्रा भी तय कर दी है। अब से भक्त केवल आधा लीटर पानी ही अपने साथ ले जा सकेंगे। इसके अलावा दुग्धाभिषेक के लिए भी सुप्रीम कोर्ट ने 1.25 लीटर की मात्रा तय कर दी है। इससे ज्यादा दूध से अभिषेक नहीं हो सकेगा।

सुप्रीम कोर्ट ने सबसे महत्वपूर्ण निर्देश दिया है कि भस्मारती के दौरान अब से शिवलिंग को ढका जाएगा। अभी तक उपलों की राख का उपयोग भस्मारती के दौरान किया जाता है, लेकिन अब भस्मारती के दौरान ज्योतिर्लिंग को ढका जाएगा।

शिवलिंग को नुकसान से बचाने के लिए  दायर हुई  थी याचिका

महाकाल मंदिर में करोड़ों भक्त पहुंचते हैं। शिवलिंग पर लगातार जलाभिषेक, दुग्धाभिषेक और फलों के रस से अभिषेक सहित कई तरह के अभिषेक होते हैं। इसके लिए बड़ी मात्रा में छोटी-बड़ी फूल मालाएं, हार, धतूरे चढ़ते हैं। ऐसे में शिवलिंग के क्षरण की बात सामने आई। शिवलिंग को नुकसान से बचाने के लिए उज्जैन की सामाजिक कार्यकर्ता सारिका गुरु ने भक्तों को गर्भ गृह में प्रवेश और शिवलिंग को स्पर्श करने पर आपत्ति जताते हुए याचिका दायर की थी। सारिका ने याचिका में ओंकारेश्वर, मल्लिकार्जुन, सोमनाथ जैसे कई ज्योतिर्लिंगों का जिक्र भी किया जहां भक्तों को गर्भ गृह में जाने पर रोक है।

Related posts:

आन्ध्र प्रदेश: कृष्ण नदी हादसे पर पीएम मोदी ने जताया दुःख
मायावती अपने लिए नहीं बल्कि इस नेता के लिए चाहती हैं राज्यसभा सीट
आयुष्मान ने खोल दी भूमि पेडनेकर के सेक्स लाइफ की पोल ? वीडियो वायरल
नव विवाहिता की गला रेंत कर निर्मम हत्या, दहेज हत्या की रिपोर्ट
यूपी में बदमाशों ने की मां-बेटे से लूटपाट, चलती ट्रेन से दिया धक्का
Sunny leone B'Day : सनी ने क्यूं रखा पोर्न इंडस्ट्री में कदम, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान
रमज़ान के महीने में पाक की नापाक हरकत, एक भारतीय जवान शहीद
ऐसी बैंक की सुरक्षा व्यवस्था देखकर आप भी हो जाएंगे हैरान
रेलिंग से पॉलीथिन में लटका मिला नवजात, रोजेदारों ने बचाए जान
शुक्र की राशि में गुरु का गोचर ,जानिए क्या पड़ेगा आपकी राशि पर असर
यूथ कांग्रेस ने अमित शाह पर लगाया इतने करोड़ रुपये के घोटाले का आरोप
लोकसभा चुनाव : 2014 और 2019 के हालात में अंतर, नीतीश के बिना नहीं जीत सकते चुनाव: जदयू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *