VHP व RSS ने राम मंदिर आंदोलन को किया कमजोर: शंकराचार्य

राम मन्दिर
Please Share This News To Other Peoples....

लखनऊ । द्वारिका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने विश्व हिन्दू परिषद और आरएसएस पर बड़ा हमला किया है। शंकराचार्य का आरोप है कि राम मंदिर आंदोलन को दोनों संगठनों ने कमजोर किया है। राम मंदिर का ताला तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने मेरी सलाह लेकर ही खुलवाया था।

ये भी पढ़ें :-तेजस्वी यादव संभाल सकते हैं राजद की कमान

राम मंदिर के लिए हम कटिबद्ध

  • द्वारिका पीठ के शंकराचार्य यह बात तीर्थराज प्रयाग (इलाहाबाद) में माघ मास  मेला में कही।
  • ताला खुलने के बाद विश्व हिन्दू परिषद ने विजय जुलूस निकालकर इसको बिगाड़ दिया।
  •  इससे मुसलमान नाराज हो गए।
  • उन्होंने कहा कि राम मंदिर के लिए कटिबद्ध हैं।
  • भगवान राम का मंदिर राम जन्म भूमि पर ही बनेगा।

स्कन्द पुराण में है  राम जन्म भूमि का प्रमाण

  • राम जन्म भूमि को लेकर स्कन्द पुराण में इसका प्रमाण मिलता है।
  • शंकराचार्य ने कहा कि हम सुप्रीम कोर्ट में भी साबित करेंगे।
  • शंकराचार्य ने कहा है कि उनकी संस्था राम जन्म भूमि पुर्नउद्धार समिति इस मुकदमे में पार्टी है।
  •  उन्होंने ने कहा कि हमारे अधिवक्ताओं ने डेढ़ माह तक बहस कर यह सिद्ध किया है।
  • जिस जगह रामलला विराजमान है। वह जगह राम जन्म भूमि ही है।

विवादित स्थल पर कभी नहीं थी मस्जिद

  • शंकराचार्य ने कहा है कि विवादित स्थल पर कभी मस्जिद थी ही नहीं।
  • शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा है कि हाईकोर्ट के फैसले के मुताबिक रामजन्म भूमि की जमीन को तीन हिस्सों में बांट दी गई है।
  • जिसमें बीच का हिस्सा राम लला और एक हिस्सा निर्मोही अखाड़े और तीसरा हिस्सा मुसलमानों को दिया गया है।
  • लेकिन पूरी की पूरी जमीन राम लला की है।
  •  वह जगह रामलला की ही रहनी चाहिए।

मंदिर मस्जिद का निर्माण अलग-बगल नहीं

  • शंकराचार्य ने कहा है कि मंदिर मस्जिद का निर्माण भी अलग-बगल नहीं होना चाहिए।
  • ऐसा होने से हमेशा के लिए विवाद का कारण बनेगा।
  • स्वरूपानंद ने कहा है कि उनके पास एक और मुस्लिम शासक का दस्तावेज मौजूद है।
  •  जिसमें यह लिखा गया है कि अगर कोई मस्जिद टूट गई है।
  •  तो मुसलमान मुआवजा लेकर दूसरी जगह मुस्लिम आबादी में मस्जिद का निर्माण कर इबादत कर सकते हैं।
  • सुप्रीम कोर्ट में इन साक्ष्यों के आधार पर वे सिद्ध कर लेगें कि रामजन्म भूमि पर ही मंदिर बनना चाहिए।
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *