दिन के ये 90 मिनट होते हैं अशुभ, भूलकर भी न करें शुभ काम

- in धर्म

शास्त्रों में किसी भी शुभ काम की शुरुआत से पहले मुहूर्त देखने की परंपरा होती है। ऐसी मान्यता है कि शुभ मुहूर्त में काम शुरू करने से परिणाम अच्छा निकलता है। वही इसके उलट अगर अशुभ मुहूर्त में कोई काम किया जाता है तो इसका परिणाम बुरा होता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार जब राहुकाल चल रहा हो तो उस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाना चाहिए।

loading...
Loading...

You may also like

छठ पूजा के दूसरे दिन होता है लोहंडा और खरना

चार दिन तक चलने वाले महापर्व छठ की