Main Sliderउत्तर प्रदेशक्राइमख़ास खबरमेरठयात्राराष्ट्रीय

सरेआम सवारियां ढो रही 108 एम्बुलेंस सेवा, पड़ताल के दौरान मची हड़बड़ी

बागपत। जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश सरकार देश के विकास में जी-जान लगा दी हैं वहीं दूसरी तरफ सरकार की योजनाओं पर पानी फेरने वालों की कोई कमी नहीं देखने को मिल रही हैं। साथ ही योजनाओं पर पानी फेरने वालों पर किसी भी अफसर की कोई नजर नहीं।

दरअसल, स्वास्थ्य संबंधित परेशानियों में या आपातकालीन स्थिति में मरीजों को तुरंत अस्पताल ले जाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने जो 108 एम्बुलेंस सेवा चलाई हैं, उस पर सरेआम सवारियां ढोती दिखाई दे रही हैं।

इस मामले की यह ताजा खबर प्रदेश के बागपत जिले के किशनपुरा सीएचसी का है। यहां मरीजों की सुविधा के लिए लगाई गई 108 एम्बुलेंस सरेआम सवारियां ढोती नजर आई। जानकारी लगने पर नजदीक जाकर पड़ताल की गई तो वहां मौजूद सवारियां हड़बड़ा गईं। वहीं सरकारी एम्बुलेंस के दुरुपयोग की अफसरों को खबर तक नहीं।

जम्मू-कश्मीर में मौसम विभाग की चेतावनी, बारिश-बर्फबारी से बढ़ सकती हैं परेशानियां

बता दें की बीते कल मंगलवार को बड़ौत शहर में 108 एम्बुलेंस सेवा में सवारियों को ले जाते हुए वारदात का पूरा मामला कैमरे में कैद हो गया। जब यह पूछा गया कि क्या एम्बुलेंस में चढ़ रहे लोग मेडिकल स्टाफ हैं? तो एम्बुलेंस ड्राइवर सकपका गया और अटेंडेंट भी कुछ जवाब नहीं दे सका।

बताया गया कि इससे पहले भी कई बार इस तरह सवारियां लेकर जाते हुए पकड़ा जा चुका है। जाहिर है यह सरकारी धन और आम जनता के लिए मुहैया कराई गई सुविधा का केवल दुरुपयोग है। वहीं जिला समन्वयक हर्ष कुमार से इस संबंध में अवगत कराया तो उनका कहना था कि 108 एम्बुलेंस सेवाओं का केवल आपातकाल में ही प्रयोग किया जा सकता है। किसी भी प्रकार से सवारी नहीं बैठा सकते हैं। यदि ऐसा है तो स्टाफ से पूछताछ की जाएगी।

loading...
Loading...