पत्नी की हत्या के एक वर्ष बाद 15 वर्षीय पुत्री की भी कर दी हत्या

क्राइम न्यूज़

हाजीपुर। बिहार के हाजीपुर में बिदुपुर थाना क्षेत्र के चकधबौली में एक व्यक्ति ने पहले अपनी पत्नी की हत्या कर शव को गायब कर दिया और फिर उसके एक वर्ष बाद अपनी 15 वर्षीय पुत्री की हत्या कर शव को गायब कर दिया. इस मामले में मृतका की मां ने अपने दामाद के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज करायी है. प्राथमिकी दर्ज होने के साथ ही पुलिस मामले की जांच में जुट गयी है।

ये भी पढ़ें :-पश्चिम बंगाल में हिंसा के बाद चुनाव सख्त, नौ संसदीय क्षेत्रों में प्रचार बैन

राजापाकर थाने के रंदाहा गांव के बिंदेश्वर राय की पत्नी कुंता देवी ने चकधबौली गांव के कामाख्या नारायण राय, रामबली राय, सकलदीप राय एवं पांच अज्ञात के विरुद्ध दर्ज करायी गयी. प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि 25 वर्ष पूर्व उसने अपनी गीता देवी की शादी कामाख्या नारायण राय के साथ की थी। शादी के बाद एक नाती और तीन नतिनी भी हुई. एक वर्ष पूर्व उनकी पुत्री गीता देवी की हत्या कर उसके दामाद कामाख्या नारायण राय ने शव को गायब कर दिया. पूछने पर बताया कि गीता बीमार थी और इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। उस वक्त वह अपनी तीन नतिनी और एक नाती के भविष्य को देख कर कुछ नहीं बोली।

ये भी पढ़ें :-ममता के पश्चिम बंगाल की हालत लालू राज की याद दिलाई : सुशील मोदी 

आरोप है कि बीते 14 मई को आरोपितों ने उसकी नतिनी 15 वर्षीय रिंकी कुमारी की जहर खिलाकर हत्या कर दी तथा शव को गंगा नदी में फेंक दिया। जब वह अपने दामाद के घर पर पहुंची तो घर बंद था। पड़ोस के लोगों ने बताया कि रिंकी की तबियत खराब होने की वजह से डॉक्टर के यहां इलाज के लिए ले गए है. काफी खोजबीन करने के बाद पता चला कि रिंकी की हत्या कर दी गयी है. वापस जब सभी घर पहुंचे तो नाती प्रियांश घर मे बंद था. उससे जब पूछताछ की उसने रोते हुये बताया कि पापा ने धमकी दी है कि किसी को कुछ बोलोगे तो तुमलोग को भी रिंकी की तरह मारकर गंगा नदी में फेंक देंगे. प्रथम दृष्टया जांच में यह बात सामने आयी है कि प्रेम प्रसंग में लडक़ी ने जहर खा कर आत्महत्या की है. नदी के विभिन्न घाटों पर शव की तलाश की जा रही है. मामले की जांच चल रही है. जांच के बाद आगे की कार्रवाई की जायेगी

Loading...
loading...

You may also like

चुनाव परिणाम से पहले सेबी ने शेयर बाजारों की निगरानी व्यवस्था चाक-चौबंद की

🔊 Listen This News नयी दिल्ली।  नियामक सेबी