भारत में स्किन सोरायसिस के 33 मिलियन रोगी, क्रांतिकारी बदलाव लाएगी एप्रेमिलास्ट

स्किन सोरायसिस, Skin syrosisस्किन सोरायसिस Skin syrosis

लखनऊ । एप्रेमिलास्ट देश में स्किन सोरायसिस के लिए पहला ओरल सिस्टेमेटिक उपचार है। एप्रेमिलास्ट एक फास्फोडिएस्टेरेस 4( पीडई 4 ) इनहिबिटर है जो मामूली से लेकर गंभीर किस्म के सोरायसिस के उपचार में काम आयेगा। इस समय देश में लगभग 33 मिलियन लोग सोरायसिस से ग्रस्त हैं, जिनके उपचार में एप्रेमिलास्ट की प्रस्तुति इसके उपचार में क्रांति ला देगी ।

भारत में स्किन सोरायसिस के 33 मिलियन रोगी

एप्रेमिलास्ट खासतौर पर सोरायसिस के उपचार के लिए पहला ओरल ट्रीटमेंट है । सुविधाजनक होने के साथ मौजूदा उपचार प्रणालियो की तुलना में यह सुरक्षित है । अनुसंधान में अग्रणी वैश्विक एकीकृत औषधि निर्माण कंपनी ग्लेनमार्क फार्मास्युटिकल्स लिमिटेड भारत में एप्रेमिलास्ट को जल्द लांच करेगा। एप्रेमिलास्ट सोरायसिस को उपचार प्रणालियों की सीमाओं को दूर कर देगा ।

यह बीमारी बढने के आरंभिक स्थिति पर लक्षित तरीके से कार्य करती है। इसके साथ ही यह एक इम्युनोमाडुलेटर भी है जबकि देश में उपलब्ध अन्य औषधियां बायोलाजिक्स सहित इम्युनोसप्रेसेंट। अधिकांशतः कैंसर की स्थिति में उपचार के लिए सूचित हैं। इम्युनोसरप्रेसंटस शरीर की प्रतिरोधी क्षमता को दबा देते हैं जिसके द्वारा शरीर विभिन्न संक्रमणों के लिए अतिसंवेदनशील बन जाता है। इम्युनोमाडुलेटर होने के कारण एप्रेमिलास्ट शरीर की प्रतिरोधी प्रणाली को दबाता नहीं है ।

इंटरासेल्युलर स्तर पर सोरायसिस की विभिन्न स्थितियों का उपचार करता है जिससे पूरे देश के सोरायसिस रोगियों को लाभ मिलेगा।

वर्तमान इंजेक्टेबल थेरेपी जिन्हें पैरामेडिकल द्वारा लगाया जाता है से अलग एप्रेमिलास्ट एक ओरल थेरेपी है जिसे खुद लिया जा सकेगा । इसके अलावा एप्रेमिलास्ट एक सुरक्षित औषधि है जिसका लीवर , किडनी जैसे अन्य अंगों पर कोई प्रतिकूल प्रभाव नहीं पडता है । इस समय उपलब्ध अन्य उपचार प्रणालियों में जिस तरह से सीबीसी, लीवर तथा किडनी टेस्ट या टीबी स्क्रीनिंग की जरूरत पडती है एप्रेमिलास्ट के सेवन के बाद किसी तरह की नियमित प्रयोगशाला डायग्नोस्टिक जांच की जरूरत भी नहीं रहेगी।

ग्लेनमार्क ने एप्रेमिलास्ट को ब्राण्ड नाम ‘ एप्रेजो‘ के अंतर्गत प्रस्तुत किया है जो सोरायसिस के उपचार के लिए सूचित है। नियामक आवश्यकताओं के अनुसार मालिक्यूल्स पर क्लिनिकल ट्रायल्स के बाद ग्लेनमार्क ने एप्रेमिलास्ट के लिए डीसीजीआईसे अनुमोदन हासिल कर लिया है। इस अवसर पर भारत , मध्य पूर्व तथा अफ्रीका के पे्रसिडेंट तथा हेड सुजेश वासुदेवन ने कहा कि  ग्लेनमार्क को भारत में सोरायसिस के एडवंास्ड ओरल तथा सुरक्षित उपचार के लिए एप्रेमिलास्ट को प्रस्तुत करने वाली  पहली कंपनी बनने का गौरव हासिल हुआ है। उन्होंने कहा कि एप्रेमिलास्ट को प्रस्तुत कर  देश के करोडों सोरायसिस रोगियों के लिए उचपार प्रणाली को रूपांतिरत करने का लक्ष्य है।

कम्पनी के सेल्स एण्ड मार्केटिंग सीनियर वाइस प्रेसिडेंट राजेश कपूर ने कहा कि  मौजूदा उपचार से पैरामेडिकल स्टाफ द्वारा लगाए जाने, नियमित प्रयोगशाला मानिटरिंग तथा सुरक्षा मामलों जैसे कई चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा, इस रोग के साथ जुडी धारणाओं के कारण रोगी को कई सामाजिक परेशानियों का सामना भी करना पड़ता है। दुनियाभर में कुल आबादी के लगभग 3 प्रतिशत लोग सोरायसिस के रोगी हैं । एक अन्य अध्ययन से पता चला है कि विभिन्न  देशो में सोरायसिक 0.09 प्रतिशत से लेकर 11.43 प्रतिशत तक है जिससे सोरायसिस एक गंभीर वैश्विक समस्या बनती जा रही है।

भारत में सोरायसिस के सबसे ज्यादा रोगी हैं तथा एक अनुमान के अनुसार यहां लगभग 33 मिलियन लोग इस रोग से ग्रस्त हैं। भारत में सोरायसिक के बारे में किए गए अध्ययन के अनुसार लखनऊ, पटना, दरभंगा, नई दिल्ली,तथा अमृतसर स्थित विभिन्न मेडिकल कालेजों से एकत्रित आंकडों में यह पाया गया था कि त्वचा रोग के कुल रोगियों में सोरायसिस के रोगियों की संख्या 0.44 से 2.2 प्रतिशत तक है ।

loading...

You may also like

लखनऊ : सीमैप ने धूम-धाम से मनाया गया CSIR का 76वां स्थापना दिवस

लखनऊ। बुधवार को सीमैप ने CSIR का 76वां