Main Sliderउत्तर प्रदेशधर्मरामपुरराष्ट्रीय

रमज़ान के आख़िरी जुमे अलविदा को 5 लोगों ने ही अदा की जामा मस्जिद में नमाज़

हम इस बात से ख़ुश हैं कि हम सब मिलकर इस बीमारी से लड़ रहे हैं, और बीमारी से जीत कर रहेंगे : मौलाना हसीब, नायब इमाम जामा मस्जिद

जहाँ रामपुर जामा मस्जिद में लाखों लोग अलविदा की नमाज़ पड़ते थे आज धारा 144 लगे होने और लॉकडाउन के चलते 5 लोगो ने ही सोशल डिस्टेंसिग से जुमे की नमाज़ पड़ी। जबकि इस मौक़े पर पुलिस प्रशासन ने पूरी तैयारी कर रखी थी।

एसडीएम,एडीएम प्रशासन व सीओ सिटी भी सड़को पर पुलिस फोर्स के साथ मौजूद रहे। जबकि पुलिस अधीक्षक शगुन गौतम ख़ुद भी निरीक्षण पर रहे और और ड्यूटी पर तैनात सभी पुलिस कर्मियों को चेक किया और लॉकडाउन के चलते ज़रूरी दिशा निर्देश भी दिए।

नायब इमाम जामा मस्जिद मोहम्मद हसीब जिन्होंने जामा मस्जिद में जुमे की नमाज़ पढ़ाई कहा यह पहला मौका है। इस बीमारी के चलते जो मस्जिद सूनी रही जबकि एक हफ्ते पहले से इसकी तैयारी शुरू हो जाती और एक दिन पहले से ही लोग जामा मस्जिद में नमाज़ पढ़ने के लिए दूर दराज से आकर जमा होने लगते थे।

नमाज़ के वक़्त तक पूरे शहर की सड़कें छते सब भर जाती थी और लाखों लोग नमाज़ अदा करते थे। लेकिन इस बार सब कुछ खाली है अफसोस नाक है। कुल 5 लोगों ने इमाम के साथ नमाज़ अदा की। कहा मगर हम इस बात से ख़ुश भी हैं कि हम सब मिलकर इस बीमारी से लड़ना चाहते हैं और लड़ रहे हैं और इन्शाअल्लाह इस बीमारी से जीतना चाहते हैं और जीत कर रहेंगे।

कब है ईद उल फितर और इस दिन क्यों की जाती है नमाज अदा

इसके अलावा जिले की सभी मस्जिदों में नियमानुसार 5 लोगो ने ही नमाज़ अदा की और पूरी दुनिया व देश मे फैली महामारी के ख़ात्मे के लिए दुआएं की।पूरे जिले में अलविदा की नमाज़ शांतिपूर्ण तरीक़े से पड़ी गयी।

loading...
Loading...