70 वर्षीय बुजुर्ग महिला को उसके जन्मदिन पर मुम्बई पुलिस का तोहफा

70 वर्षीय बुजुर्ग महिला

मुम्बई। मुम्बई पुलिस हमेशा से ही अपनी सतर्कता और परम कर्तव्य के लिए देश भर में मशहूर है। यह घटना 5 जनवरी, 2018 को हुई, जिसमें एक 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला जिसका नाम जूलियन परेरा है। वह गोरेगांव के एक ऑटो रिक्शा में सवार होकर अपने दामाद के घर चारकोप में एक शादी में शामिल होने के लिए जा रहीं थीं। अपनि मंज़िल पर पहुंचने के बाद उनको महसूस हुआ कि वह अपना बैग जिसमें 22 तोले सोने ज़ेवर और 2000 नकदी थी, वह भूल गई हैं। मुंबई, के मीरा रोड की रहने वाली इस सत्तर वर्षीय बुजुर्ग महिला ने तुरंत अपने दामाद स्टैनी जथन्ना के साथ जाकर चारकोप पुलिस स्टेशन में इसकी शिकायत दर्ज की।

ये भी पढ़े:- खाकी के नशे में चूर दीवान ने पड़ोसी को बंधक बनाकर पीटा, युवक की हालत हुई खराब 

जिसको पुलिस ने गंभीरता पूर्वक लिया और इस शिकायत पर फौरन कार्रवाई की।  वरिष्ठ निरीक्षक प्रमोद धवरे चव्हाण ने एक डिटेक्टिव टीम का नेतृत्व किया, और उस ऑटोरिक्शा की तलाश में जुट गई जिसमें इस 70 वर्षीय महिला ने यात्रा की थी। महिला ने जिस मार्ग से यात्रा की थी, उसके सीसीटीवी फुटेज के जरिए ऑटोरिक्शा को ट्रैक कर लिया गया और चालक को हिरासत में ले कर पुलिस ने पूछताछ शुरू की। पुलिस की पूछताछ में ड्राइवर ने कहा कि उसको बैग के बारे में कुछ पता नहीं। कथित तौर पर, यह ऑटोरिक्शा चालक मलाड के वासरीहिल इलाके में रह रहा था। पुलिस ने ड्राइवर के इस सफेद झूठ चुनौती देते हुए बैग की तलाशी के लिए ऑटोरिक्शा चालक के घर पर एक खोज की जिसमें सोने को पुनः प्राप्त किया गया जो एक बॉक्स में छिपा के रखा हुआ था।सभी चीज़ें पुलिस ने इस तलाशी में 100 प्रतिशत वसूल करलीं हैं। वरिष्ठ निरीक्षक प्रमोद धवरे की मौजूदगी में एपीआई चव्हाण और उनकी पता लगाने वाली टीम ने परेरा को बैग लौटाया।

ये भी पढ़े:- पुलिस अफसरों के हुए तबादले , कई अफसरों को फर्श से पहुंचाया अर्श पर 

मुम्बई पुलिस ने जब 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला को उसका बैग वापिस किया उसने मुम्बई पुलिस का शुक्रिया अदा करते हुए बताया की पुलिस की तरफ से उसके जनम दिन पर इससे बेहतर तोहफा नहीं हो सकता है।

Loading...
loading...

You may also like

मोदी बोले लोकतंत्र हमारे संस्कारों में, जबकि दूसरे दलों में परिवार है पार्टी

मुम्बई। प्रियंका गांधी को कांग्रेस द्वारा पूर्वी उत्तर