उत्तर प्रदेशलखनऊ

भाजपा का विरोध करते-करते प्रभु राम के विरोध पर उतरे अखिलेश – मनीष शुक्ला

लखनऊ। भारतीय जनता पार्टी ने ‘‘जय श्रीराम‘‘ के नारे से अपने जान पर खतरा बताने पर पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को आड़े हाथों लिया है। प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला ने कहा कि भाजपा का विरोध करते-करते अखिलेश यादव अब करोड़ों-करोड़ों हिन्दूओं के अराध्य प्रभु राम के विरोध पर उतर आए हैं। पूर्व में सपा के कार्यकाल में ही सैकड़ों रामभक्तों के खून से सरयू को लाल कर देने वाली घटना आज भी देशवासियों के जेहन में मौजूद है। आपने ही अपने शासन काल में सदियों से अयोध्या में चली आ रही चैदह कोसी और पंचकोसी परिक्रमा पर प्रतिबंध लगा दिया था। वोट बैंक के लालच में आप भगवान श्रीराम के विरोध में खड़े हो गए हैं। प्रदेश प्रवक्ता ने कहा कि अल्पसंख्यको को रिझाने के चक्कर में प्रत्येक हिन्दूस्तानियों के पूर्वज मर्यादा पुरूषोंत्तम प्रभु राम के अपमान पर उतर आए हैं।

उन्होंने कहा कि जिस युवक के जय श्रीराम बोलने पर अखिलेश यादव ऊट-पंटाग बयान दे रहे है, उसे स्वयं उन्होंने आगे मंच के पास बुलाया था। बाद में अखिलेश यादव के ललकारने पर अराजक सपाइयों ने युवक की पिटाई भी की। पिटाई के आरोप से बचने के लिए अब अपनी जान पर खतरा जैसा हास्यास्पद आरोप लगाकर सनसनी फैलाना चाहते हैं। शुक्ल ने कहा कि अखिलेश यादव की सभाओं में जनता की भीड़ न जुटने से सपाई खेमे में खलबली है। इससे हताशा  में प्रसिद्धि पाने के लिए सस्ते हथकण्डे अपना रहे है। एक तरफ जय श्रीराम बोलने पर सपाईयों को ललकार कर युवक को पिटवा रहे है दूसरी तरफ मुस्लिमों को जेहादी बताकर भडक़ाने का काम कर रहे हैं। जाति-धर्म के नाम पर प्रदेश के माहौल को खराब करने की कोशिश करने वालों को मुंह की खानी पड़ेगी। लोकतंत्र में जनता ही जर्नादन है और वह समाजवादी पार्टी की स्याह राजनीति का जवाब देगी।

loading...
Loading...