एएमयू : छात्रों के धरने के बीच कर्फ्यू जैसा माहौल, 34 घंटे तक इंटरनेट सेवा बंद

एएमयू
Please Share This News To Other Peoples....

अलीगढ़। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी एएमयू में जिन्ना की तस्वीर को लेकर विवाद बढ़ता ही जा रहा है। इस मामले में बुधवार को हुए बवाल के दौरान कई छात्र बुरी तरह से घायल हुए थे। जिसके बाद छात्रों ने हिंदू संगठन के नेताओं की गिरफ़्तारी की मांग की है। वहीं हिंसा के बाद अब छात्रों ने क्लास से बायकॉट करने का ऐलान किया है। वहीं इस बीच छात्रों ने जिन्ना की तस्वीर हटाने से मना कर दिया है। छात्रों का कहना है कि वह भारतीय इतिहास का हिस्सा हैं।

दूसरी तरफ हिंदूवादी संगठनों के लोगों ने शुक्रवार को एएमयू के यूनियन हाल में लगी पाकिस्तान संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तस्वीर उतारने की बात कही। पप्रशासन सुरक्षा को लेकर कोई लापरवाही नहीं चाहता है। जिसके तहत इंटर सेवा को 34 घंटों तक बंद करने का ऐलान किया है। ताकि इंटरनेट के माध्यम से किसी तरह की अफवाह से हिंसा न भड़के

पढ़ें:- एएमयू जिन्ना की तस्वीर को लेकर आपस में भिड़े छात्र और हिन्दू संगठन, तनाव के हालात 

एएमयू: प्रशासन ने किये सुरक्षा के कड़े इन्तेजाम

हिंदू संगठनों द्वारा जिन्ना की तस्वीर हटाने के ऐलान के बाद प्रशासन ने एएमयू के आसपास किसी को भी न भटकने देने के इंतजाम किए हैं। चारों ओर पुलिस तैनात की गई है। सुबह से ही अधिकारी एएमयू क्षेत्र का जायजा ले रहे हैं। हर पल की खबर लखनऊ मुख्यालय को दी जा रही है।

बता दें कि हिंदू जागरण मंच के कार्यकर्ताओं एएमयू के गेट तक पहुंचने वाले छात्र नेता अमित गोस्वामी व सौरभ चौधरी ने ऐलान किया है कि शुक्रवार को वह एसवी, डीएस समेत अन्य कॉलेजों की छात्र-छात्राओं के साथ एएमयू के लिए कूच करेंगे। इंतजामिया को जिन्ना की तस्वीर हटाने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया था, जिसकी सीमा खत्म हो गई है।

पढ़ें:- एएमयू विवाद पर स्वामी प्रसाद मौर्य का बड़ा बयान, जिन्ना को बताया महापुरुष 

लाठीचार्ज के विरोध में छात्रों का क्लास से बायकॉट

एएमयू में भी धरना दिया जा रहा है। एएमयू छात्र एएमयू गेट पर हंगामा करने वाले हिंदूवादी संगठनों के कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। बिगड़ते हालातों को देखते हुए गैर जिलों से भी फोर्स मंगाया गया है। तनाव के चलते समूचे क्षेत्र में दहशत है। साथ ही छात्रों ने लाठीचार्ज के विरोध में विरोध प्रदर्शन किया और क्लास का भी बायकॉट कर दिया है। छात्रों का आरोप है कि पुलिस ने उनके साथ ज्यादती की और बेवजह छात्रों पर लाठियां बरसाईं।

इस बीच यूनिवर्सिटी छात्र संघ ने अलीगढ़ से बीजेपी सांसद सतीश गौतम के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। छात्रसंघ के सदस्य सांसद सतीश गौतम पर कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए हैं। छात्र संगठन नेताओं की मांग है कि सतीश गौतम के खिलाफ रासुका के तहत कार्रवाई की जाए। इसको लेकर उन्होंने एडीएम को एक ज्ञापन भी सौंपा है।

पढ़ें:- एएमयू से हटायी गयी जिन्ना की तस्वीर, छात्र करेंगे विरोध प्रदर्शन 

जिन्ना आदर्श नहीं लेकिन इतिहास का हिस्सा

वहीं छात्रों ने जिन्ना की तस्वीर को हटाने से इंकार कर दिया है छात्रों का कहना है कि जिन्ना AMU का लाइफलाइन मेंबरशिप दी गई थी। जिन्ना हमारे लिए आर्दश भले ही ना हो लेकिन भारतीय इतिहास का हिस्सा हैं।

 

मजिस्ट्रियल जांच के आदेश

इस मामले में डीएम चंद्रभूषण सिंह ने हिंसा की मजिस्ट्रियल जांच एडीएम वित्त बच्चू सिंह को सौंपी है। 15 दिन में रिपोर्ट मांगी है। डीएम ने कहा कि दोबारा इतने हिंदूवादी युवकों का आना बताता है कि पुलिस से चूक हुई है। उन्होंने लापरवाह पुलिस कर्मियों पर कार्रवाई के लिए एसएसपी को पत्र लिखा है।

ये है पूरा विवाद

दरअसल, बीजेपी सांसद सतीश गौतम ने यूनिवर्सिटी के वीसी से छात्रसंघ हॉल में लगी जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग की थी। जिसके बाद इस मामले पर सियासत शुरू हो गई। इसके बाद बुधवार को हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं ने जिन्ना की तस्वीर हटाने की मांग करते हुए एएमयू के बाहर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। यहां कार्यकर्ताओं ने जिन्ना का पुतला फूंका वहीं उन पर पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी के कार्यक्रम में दखल डालने की कोशिश का भी आरोप लगा। जिसके बाद 6 कार्यकर्ताओं को पुलिस के हवाले कर दिया गया।

छात्रसंघ ने आरोप लगाया कि हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ताओं के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की और बिना मामला दर्ज किए छोड़ दिया।इससे नाराज छात्रसंघ पदाधिकारी थाने पहुंचे और विरोध किया। आरोप है कि इस दौरान छात्र एसपी सिटी से धक्का-मुक्की करने लगे।जिसके बाद पुलिस ने छात्रों पर लाठीचार्ज कर दिया और इसमें करीब 15 छात्र घायल हो गए।

वहीं योगी ने इस मामले में बोलते हुए कहा कि जिन्ना ने हमारे देश का बंटवारा किया। हम किस तरह उनकी उपलब्धियों का बखान कर सकते हैं। भारत में जिन्ना का महिमामंडन बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। योगी ने कहा कि एएमयू मामले में जांच के आदेश दिए हैं। जल्द ही उन्हें इसकी रिपोर्ट भी मिल जाएगी। रिपोर्ट पर वह एक्शन लेंगे।

loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *