अलीगढ़ युनिवर्सिटी ने आतंकी मन्नान को बताया शहीद, मुफ़्ती ने मौत पर जताया दुःख

अलीगढ़ युनिवर्सिटीअलीगढ़ युनिवर्सिटी

अलीगढ़। उत्तरी कश्मीर के हंदवाड़ा में गुरूवार को सुरक्षाबलों ने एनकाउंटर में दो हिजबुल के आतंकियों को ढेर कर दिया। जिसमें अलीगढ़ युनिवर्सिटी से पीएचडी स्कॉलर से आतंकी बना मन्नान बशीर वानी भी शामिल था। पुलिस ने बताया कि हंदवाड़ा के सतगुंड में सुबह एनकाउंटर तब शुरू हुआ जब सुरक्षा बलों को 27 वर्षीय आतंकी वानी के दो अन्य साथियों के साथ छिपे होने की ख़बर मिली। लेकिन इधर अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी आतंकी मन्नान बशीर वानी के मौत पर दुःख जताया गया है। अलीगढ़ यूनिवर्सिटी में मारे गये आतंकी मन्नान को शहीद बताया गया है। बता दें कि मन्नान जनवरी 2018 में आतंकी बना था।

अलीगढ़ युनिवर्सिटी में छात्रों ने आतकी के समर्थन में रखा कार्यक्रम

जम्मू-कश्मीर में हिजबुल के आतंकी मन्नान बशीर वानी के एनकाउंटर में मारे जाने के बाद अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले जम्मू-कश्मीर के छात्रों ने वानी के समर्थन में कार्यक्रम करने की कोशिश की गयी है। हालांकि, यूनिवर्सिटी प्रशासन ने मामले को गंभीरता से लेते हुए 3 छात्रों को सस्पेंड कर दिया है। वहीँ जम्मूकश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने आतंकी के मौत पर दुःख जताया है। मुफ़्ती ने कहा है कि हम रोज अपने कश्मीर के स्कॉलर को खो रहे हैं।

ये भी पढ़ें : न्यूज़ कंपनी द क्विंट के मालिक के घर आयकर का छापा, टैक्स चोरी का आरोप 

मन्नान बशीर वानी अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी का पीएचडी का स्टूडेंट था, यूनिवर्सिटी से गायब होने के बाद सोशल मीडिया में उसकी हांथ में बंदूक लिए फोटो वायरल हुई थी, जिसके बाद अलीगढ़ युनिवर्सिटी ने वानी को निकाल दिया था। वानी को पढ़ाई के दौरान कई पुरस्कार भी मिले। घाटी में वर्ष 2010 में हुए विरोध प्रदर्शनों और हिजबुल मुजाहिद्दीन के पोस्टर बॉय बुरहान वानी की मौत के बाद वर्ष 2016 में हुए व्यापक प्रदर्शन से उसका कोई नाता नहीं था।

loading...
Loading...

You may also like

विधानसभा नतीजे: तेलंगाना में कांग्रेस ने EVM से छेड़छाड़ की जताई आशंका

हैदराबाद। तेलंगाना में सत्तारूढ़तेलंगाना राष्ट्र समिति (TRS) राज्य