Main Sliderअयोध्याउत्तर प्रदेशख़ास खबरधर्मनई दिल्लीराष्ट्रीय

राम मंदिर ट्रस्ट के सभी सदस्य आज करेंगे पीएम मोदी से मुलाक़ात, जताई यह आशा

नई दिल्ली। बीते कल गठित श्रीराम मंदिर ट्रस्ट की पहली बैठक हुई हैं। इस बैठक में मंदिर आंदोलन से जुड़े महंत नृत्यगोपाल दास को ट्रस्ट का अध्यक्ष जबकि पीएम मोदी के पूर्व प्रधान सचिव नृपेंद्र मिश्र को मंदिर निर्माण समिति की कमान सौंपी गई। वहीं विश्व हिंदू परिषद नेता चंपत राय को ट्रस्ट का महासचिव और स्वामी गोविंद गिरि कोषाध्यक्ष बनाया गया।

वहीं अब पहली बैठक के बाद राम मंदिर ट्रस्ट के सभी सदस्य आज गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात करेंगे। इन सभी सदस्यों की यह बैठक आज शाम 5.30 बजे प्रधानमंत्री के सरकारी आवास लोक कल्याण मार्ग पर आयोजित होगी।

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास ने कहा कि मंदिर निर्माण का कार्य एक-दो महीने में शुरू हो जाएगा। उन्होंने आशा जताई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के कार्यकाल में ही अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनकर तैयार हो जाएगा।

ट्रस्ट के कार्यकारी अध्यक्ष और वरिष्ठ वकील के. परासरन के ग्रेटर कैलाश स्थित निवास पर हुई बैठक में नौ प्रस्ताव पारित किए गए। पहले महंत नृत्यगोपाल व चंपत राय को शामिल करने और अध्यक्ष व महासचिव बनाने का प्रस्ताव पास हुआ। इसके बाद, नृपेंद्र मिश्र के चयन पर मुहर लगी।

छत्तीसगढ़ : CRPF के ‘ऑपरेशन प्रहार’ में नक्सली ढेर, कई घायल

जिसके बाद मंदिर निर्माण से जुड़े सभी निर्णय अब नृपेंद्र मिश्र करेंगे। अयोध्या में प्रस्तावित दूसरी बैठक की तिथि दो-तीन दिन में तय होगी। इसी बैठक में मिश्र निर्माण संबंधी रिपोर्ट रखेंगे।

ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास ने कहा मंदिर का मॉडल विहिप वाला ही रहेगा,लेकिन मंदिर और ऊंचा व विस्तृत करने के लिए प्रारूप में थोड़ा बदलाव किया जाएगा।

वहीं स्वामी जीतेंद्रानंद सरस्वती ने कहा राममंदिर और परिसर अन्य धर्मों के प्रतीक स्थलों से बड़ा होना ही चाहिए। सनातन धर्म सबसे प्राचीन धर्म है। भगवान राम इसके महानतम प्रतीक हैं। अतिरिक्त भूमि जुटाने की कोशिश की जाएगी।

रामलला को किया जाएगा अन्यत्र विराजित

निर्माण समिति जल्द ही अधिगृहीत भूमि का निरीक्षण करेगी। रामलला को अस्थायी रूप से अन्यत्र विराजित किया जाएगा। फिर जमीन को समतल करने का काम होगा। हालांकि संतों की इच्छा है कि यह विश्व का सबसे विशाल और भव्य मंदिर बने। इसके लिए वे 67 एकड़ से ज्यादा जमीन चाहते हैं।

loading...
Loading...