नाश्ते में बाल मिलने से खफा पति ने पत्नी का जबर्दस्ती कर दिया मुंडन

बांग्लादेश
Loading...

बांग्लादेश। खाना खाने में या बनाते समय अक्सर हमारे टूटे हुये बाल मिल जाते हैं। बालो का कहीं रसोई में या खानो में मिलना कोई बड़ी बात नही होती हैं। मगर एक मामला बांग्लादेश के जोयपुरहाट जिले के एक गांव से है। यहाँ एक परिवार में ऐसी घटना घटी जिसे सुनकर सभी हैरान हैं।

दरअसल पति जब खाना खा रहा था तो उसके खाने में कहीं से एक बाल आ गया। एक चीज़ को देखकर ओ एतना ज्यादा खफा हो गया कि गुस्से में आकार उसने अपनी ही पत्नी के सर के बबल जबर्दस्ती काट कर डाला। हालांकि बाद में शिकायत होने पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

बताया जा रहा है कि बांग्लादेश के जोयपुरहाट जिले के रहने वाले 35 वर्षीय बबलू मंडल की पत्नी ने उसे नाश्ते में चावल और दूध दिया। ये नाश्ता बबलू की पत्नी ने खुद अपने ही हाथों से ही तैयार किया था। इसी नाश्ते में उसे इंसानी बाल मिला। इसके बाद बाद उसने अपनी पत्नी के सिर के बाल जबर्दस्ती काट दिए। स्थानीय पुलिस अधिकारी शहरयार खान ने बताया कि गांव वालों की शिकायत के बाद बबलू को गिरफ्तार कर लिया गया।

पाकिस्तानी एक्ट्रेस का सोशल मीडिया पर अंग्रेजी को लेकर हरभजन ने ऐसे उड़ाया मजाक 

हो सकती है 14 साल कि जेल

पुलिस के अनुसार, जैसे ही बबूल ने अपने नाश्ते में बाल देखे, उसने इसका दोष अपनी पत्नी पर डाल दिया। इसके बाद वह रेजर लेकर आया और उसने पत्नी का मुंडन कर दिया। पुलिस के अनुसार, उसका ये अपराध जानबूझकर गंभीर चोट पहुंचाने का है। इसके लिए उसे 14 साल की जेल हो सकती है।

इस घटना पर सामाजिक कार्यकर्ताओं का कहना है कि ये दिखाता है कि बांग्लादेश में महिलाओं पर अपराध कितनी तेजी से बढ़ रहे हैं। एक स्थानीय एनजीओ के अनुसार, बांग्लादेश में महिलाओं की स्थिति कितनी खराब है, इसका अंदाजा इस बात से लगाइए कि यहां पर एक दिन में तीन महिलाएं रेप का शिकार होती हैं।

देवास जिले में दशहरे के दिन हुई बड़ी दुर्घटना, गांव में पसरा मातम 

इस संगठन के अुनसार, जनवरी से जून के बीच में बांग्लादेश में 630 महिलाएं बलात्कार का शिकार हुईं। 37 महिलाओं की हत्या कर दी गई। सात महिलाओं ने प्रताड़ना से तंग आकर अपनी जान ले ली। इसके अलावा 105 से ज्यादा रेप की कोशिश की घटनाएं हो चुकी हैं।

Loading...
loading...

You may also like

फोन की घंटी बजी और नोबेल पुरस्कार जीतने की ख़बर थी फिर भी सो गये अभिजीत बनर्जी

Loading... 🔊 Listen This News नई दिल्ली। अर्थशास्त्र