डेढ़ लाख का ईनामिया दुर्दान्त अपराधी राका चढ़ा लखनऊ पुलिस के हत्थे

- in Main Slider, क्राइम, लखनऊ

लखनऊ। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी के निर्देशन में अपराधियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान के तहत रविवार को क्राइम ब्रांच और सर्विलांस सेल की टीम ने डेढ़ लाख रुपये के इनामी दुर्दांत अपराधी राका उर्फ समीर शेख को गिरफ्तार करने दावा किया है। पकड़ा गया अभियुक्त प्रतापगढ़ जिला के जायसवाल बंधु से रंगदारी मांगने और सुल्तानपुर जिला में पिछले दिनों पड़ी बैंक डकैती के बाद से फरार चल रहा था। पुलिस ने अभियुक्त को सरोजनीनगर थाना क्षेत्र के ट्रांसपोर्ट नगर मैट्रो स्टेशन के निकट शहीद पथ तिराहा फैजाबाद रोड के निकट से गिरफ्तार किया है। एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया कि अभियुक्त से प्रतापगढ़ और सुल्तानपुर पुलिस पूछताछ करेगी। इनामी की गिरफ्तारी लखनऊ पुलिस बड़ी सफलता मान रही है।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने बताया कि पुलिस अपराधियों को पकड़ने के लिए अभियान चला रही है। इसी क्रम में पुलिस अधीक्षक अपराध दिनेश कुमार सिंह और क्षेत्राधिकारी अपराध दीपक कुमार के निर्देशन में सर्विलांस सेल के प्रभारी धर्मेश शाही, निरीक्षक विमलेश कुमार सिंह सरोजनी नगर थाना क्षेत्र के शहीद पथ पर थाना प्रभारी सरोजनी नगर के साथ चेकिंग कर रहे थे। तभी मुखबिर ने सूचना दी कि हत्या और डकैती की कई घटनाओं को अंजाम देने वाला अपराधी किसी बड़ी घटना को अंजाम देने की फिराक में है। इस सूचना पर पुलिस टीम ने दबिश देकर अपराधी को शहीद पथ तिराहा से गिरफ्तार कर लिया। तलाशी में उसके पास से एक .32 बोर का अवैध तमंचा और 5 कारतूस और 100 रुपये नगद बरामद किये हैं। पकड़ा गया 22 वर्षीय अभियुक्त समीर खिन्दूरी थाना कटरा बाजार गोंडा का रहने वाला है।

एसएसपी कलानिधि नैथानी ने बताया गिरफ्तार अभियुक्त समीर उर्फ राका पूछताछ में बताया है कि उसने वर्ष 2017 में गोंडा के सर्राफा व्यवसाई से सोना चांदी की लूट प्रवीण द्विवेदी उर्फ राजा द्विवेदी, रवि सिंह एवं सौरव सोनी के साथ मिलकर सरयू पुल के पास किया था। इसका मुकदमा करनैलगंज गोंडा में पंजीकृत हुआ। जिसमें गिरफ्तारी के बाद यह सभी जमानत पर बाहर आए थे। पूछताछ में समीर ने बताया कि उसने प्रवीण द्विवेदी उर्फ राजा द्विवेदी एवं दो अज्ञात लड़के जो राजा द्विवेदी के दोस्त हैं। उनके साथ मिलकर संजय सिंह मिल्कीपुर फैजाबाद एवं शिवेंद्र सिंह छात्र नेता फैजाबाद के कहने पर फैजाबाद के ठेकेदार अनंत बहादुर सिंह की गाड़ी में तोड़फोड़ कर उनके ऊपर फैजाबाद में ही गोली चलाई थी। इसमें अनंत बहादुर के हाथ में गोली लगी थी। इस मुकदमे में संजय सिंह, शिवेंद्र सिंह और कुछ लोग जेल गए। लेकिन हम लोग फरार हो गए। इसके बाद हम लोगों पर 50,000 रुपये का इनाम घोषित हो गया।

पढे:- अमृतसर हादसा : ट्रेन ड्राईवर ने कहा- इमरजेंसी ब्रेक के बाद भी नहीं रुकी ट्रेन

इसके बाद वर्ष 2017 में लखनऊ के इंदिरा नगर थाने में के मोहल्ला अबरार नगर में धर्मेंद्र सिंह हरदोई व सौरव के साथ मिलकर लूट की थी। इसमें अभियुक्त समीर वांछित चल रहा था। इसके बाद लखनऊ के गुडंबा में प्रवीण द्विवेदी उर्फ राजा द्विवेदी के साथ एक व्यक्ति पर जानलेवा हमला किया था। इसका मुकदमा गुडंबा थाना में पंजीकृत है। उसमें भी अभियुक्त वांछित चल रहा है।

इसके बाद 25 जुलाई 2018 की शाम प्रतापगढ़ के कोहड़ौर कस्बे में हार्डवेयर व्यवसाई दो सगे भाइयों जायसवाल बंधुओं की हत्या समीर ने हब्बू पासी, सद्दाम, अभिषेक पासी एवं आजाद धोबी के साथ मिलकर की थी। यह घटना 20 लाख रुपये की रंगदारी ना देने के कारण की गई थी। अभियुक्त ने बताया इसके बाद 11 सितंबर को सुल्तानपुर कस्बे में बड़ौदा ग्रामीण बैंक में उसने हब्बू पासी, सद्दाम, तौसीफ, तौकीर एवं अभिषेक के साथ मिलकर करीब 8,50,000 की डकैती की घटना करित की थी। वहीं 14 सितंबर को प्रतापगढ़ में बड़ौदा ग्रामीण बैंक जगेश्वर गंज में 6,00,000 की डकैती भी हब्बू पासी, तौकीर, अतीक नान्हू, सद्दाम एवं अभिषेक पासी के साथ मिलकर की थी।

loading...
Loading...

You may also like

अल्पसंख्यकों का उत्पीडऩ किसी भी सूरत में नहीं किया जाएगा बर्दाश्त- शिवपाल

लखनऊ। समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील सपा