अरुण जेटली ने जीएसटी में कमी के दिए संकेत

Please Share This News To Other Peoples....

नयी दिल्ली। देश में नोटबंदी के एक साल पूरे होने वाले हैं। इससे ठीक एक दिन पहले मंगलवार को वित्तमंत्री अरुण जेटली ने देश की अर्थव्यवस्था पर बोलते हुए जीएसटी से जुड़ी अहम जानकारी साझा की। जेटली ने कहा 1 जुलाई से लागू जीएसटी के तहत 1,200 से अधिक प्रकार की वस्तुओं और सेवाओं पर 5, 12, 18 और 28 प्रतिशत टैक्स लगाया गया।

वित्तमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा विभिन्न वस्तुओं और सेवाओं के टैक्स निर्धारण का आधार पहले की करारोपण व्यवस्था को बनाया गया है। जिसके तहत वस्तुओं और सेवाओं पर टैक्स का भार पहले के स्तर पर रहे और सरकार के राजस्व पर भी गलत असर प्रभाव न पड़े। उन्होंने कहा कि कुछ चीजों पर 28 प्रतिशत टैक्स की दर पहले से ही नहीं होनी चाहिए थी और यही कारण था कि पिछली तीन-चार बैठकों में जीएसटी परिषद 100 तरह की चीजों पर जीएसटी दर में कमी की गयी। इन चीजों पर टैक्स को 28 प्रतिशत से घटाकर 18 प्रतिशत और 18 प्रतिशत से 12 प्रतिशत किया गया है।

एक कार्यक्रम के दौरान जेटली ने कहा, सरकार धीरे-धीरे टैक्स की दर को नीचे ला रही हैं। इसके पीछे विचार यह है कि जैसे आपका राजस्व संग्रह स्थिरता हासिल करता है, हमें उच्च टैक्स दायरे में आने वाली वस्तुओं की संख्या में कमी लानी चाहिए। जीएसटी परिषद भी अबतक इसी रूप से काम कर रही है। परिषद की अगली बैठक 10 नवंबर को होगी और हाथ से निर्मित फर्नीचर, प्लास्टिक उत्पादों और शैम्पू जैसे दैनिक उपयोग के सामानों पर कर की दरें कम करने पर विचार कर सकती है। उन्होंने कहा कि उपभोक्ता अब जीएसटी व्यवस्था में खरीदी गयी चीजों पर लगने वाले कर पर नजर रख रहे । जबकि पूर्व में उत्पाद शुल्क वस्तु की कीमत में समाहित होता था। जेटली ने कहा कि पूर्व कर व्यवस्था में यह पता नहीं होता था कि आप कितना उत्पाद शुल्क दे रहे ।

Related posts:

लालू का मोदी पर हमला, बोले- जब विकास पैदा ही नहीं हुआ, तो मरने का दुःख किस बात का?
तीन तलाक के खिलाफ लड़ाई लड़ने वाली इशरत जहां पहली मुस्लिम महिला है
 पाकिस्तान की जेलों में क़ैद हैं 457 भारतीय कैदी, 146 को रिहा करेगा....
तीन करोड़ की हेरोईन के साथ भारत-नेपाल सीमा पर पकड़े गये दो तस्कर
INS Karanj स्वदेशी पनडुब्बी लांच, चीन और पाकिस्तान की बढ़ी मुश्किलें
नगालैंड और त्रिपुरा में दिखी मोदी लहर, सीएम योगी ने दी कार्यकर्ताओं को बधाई
बिहार विधानपरिषद चुनाव : लालू का बड़ा फैसला, अपने माली को बनाया उम्मीदवार
कठुआ रेप केस में वकील को पेश होने से नहीं रोक सकते : सुप्रीम कोर्ट
अत्याचारों से तंग आकर 450 दलितों ने अपनाया बौद्धधर्म
एनबीए अकादमी इंडिया के लिए आठ खिलाड़ी चयनित,छात्रवृत्ति और मिलेगा प्रशिक्षण
सपा-आरएलडी में हुआ समझौता, इस सीट पर अखिलेश की पार्टी नहीं लड़ेगी चुनाव
सेना के हाथ में अप्रत्यक्ष ‘‘हथकड़ी’’ ठीक नहीं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *