अटल बिहारी की हालत में सुधार, अभी कुछ दिन और रहेंगे अस्पताल में

अटल बिहारी
Please Share This News To Other Peoples....

नई दिल्ली। बीते 11 जून से एम्स में भर्ती पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत में सुधार हो रहा है। बुधवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री उनका हाल चल जानने एम्स गये। इस दौरान शाम 4 बजे एम्स ने एक हेल्थ बुलेटिन जारी डॉक्टरों ने कहा कि अटल की हालत में पहले से काफी सुधार है। डाक्टरों ने उम्मीद जताई की अगले कुछ दिनों में अटल जी को अस्पताल से छुट्टी दे दी जाएगी। डाक्टरों ने बताया की पूर्व पीएम की किडनी, हृदय गति, ब्लड प्रेशर सभी नॉर्मल है।

ये भी पढ़ें:पीएम मोदी 50 हजार लोंगो के साथ देहरादून में करेंगे योगाभ्यास

अटल बिहारी को11 जून यूरिन में इंफेक्शन के कारण भर्ती कराया गया था अस्पताल में

बता दें की वाजपेयी जी को 11 जून को यूरिन में इंफेक्शन के चलते दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था। इस दौरान उनसे मिलने नरेंद्र मोदी, राहुल गांधी, अमित शाह राजनाथ सिंह, लालकृष्ण आडवाणी, विजय गोयल समेत कई केंद्रीय मंत्री पहुंचे थे। अटल बिहारी बाजपेयी बीते नौ साल बीमारी के कारण घर में ही कैद होकर रह गये है। गत 2015 में उनकी तस्वीर तब सामने आई थी तत्कालीन राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने प्रोटोकॉल तोड़ते हुए वाजपेयी को घर जाकर भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया था। मालूम हो की 2009 में जब उनकी तबियत बिगड़ी तबसे वह दोबारा ठीक नहीं हुए और कुछ दिन बाद खबर आई की स्मृति लोप हो गया है वह न किसी को पहचानते है और न किसी से बोलते है।

1951 में जनसंघ की स्थापना के साथ ही शुरू किया था राजनीतिक सफर

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में 25 दिसंबर 1924 को जन्मे बाजपेयी का राजनीतिक सफर 1951 में जनसंघ की स्थापना के साथ  शुरू हुआ था। 1975-77 के आपातकाल के दौरान वे गिरफ्तार किए गए। 1977 के बाद जनता पार्टी की मोरारजी देसाई की सरकार में वे विदेश मंत्री भी रहे। 1980 में उन्होंने लालकृष्ण आडवाणी के साथ मिलकर भारतीय जनता पार्टी की नींव रखी। वाजपेयी सबसे पहले 1996 में 13 दिन के लिए प्रधानमंत्री बने। बहुमत साबित नहीं कर पाने की वजह से उन्हें इस्तीफा देना पड़ा। दूसरी बार वे 1998 में प्रधानमंत्री बने। सहयोगी पार्टियों के समर्थन वापस लेने की वजह से 13 महीने बाद 1999 में फिर आम चुनाव हुए। 13 अक्टूबर 1999 को वे तीसरी बार प्रधानमंत्री बने। इस बार उन्होंने 2004 तक अपना कार्यकाल पूरा किया।

2009 में रखा गया था वेंटिलेटर पर

2009 में वाजपेयी की तबीयत बिगड़ गई। उन्हें सांस लेने में दिक्कत के बाद कई दिन वेंटिलेटर पर रखा गया। हालांकि, बाद में वे ठीक हो गए और उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। बाद में कहा गया कि वाजपेयी लकवे के शिकार हैं। इस वजह से वे किसी से बोलते नहीं हैं। बाद में उन्हें स्मृति लोप भी हो गया। उन्होंने लोगों को पहचानना भी बंद कर दिया।

 

 

Related posts:

शर्मनाक : बीकानेर में दिल्ली की महिला के साथ 23 लोगों ने किया बलात्कार, केस
NCERT की किताबें पढ़ने से सुधरेगा मदरसों के बच्चों का भविष्य : राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग
बदल सकतीं हैं अंगूरी भाभी, शिल्‍पा शिंदे की राह पर चलीं शुभांगी अत्रे
साऊदी : येरुशलम की घोषणा, बाधित होगी शांति प्रक्रिया
सेना प्रमुख का बुखारी का जवाब, बोले- आप शिक्षक नहीं, हमारे काम में दखल न दें
मैत्री मैच: ट्रांसपोर्ट इलेवन ने प्रेस इलेवन को 46 रन से दी मात
पीएम मोदी ने दी सेक्स एजुकेशन को हरी झंडी, अब स्कूलों में शुरू होगी पढ़ाई
धूम-धाम से मनायी जा रही अंबेडकर जयंती, गृह मंत्रालय ने जारी किया अलर्ट
लोकसभा चुनाव: मायावती को पीएम उम्मीदवार बनाने की सोच रहे हैं अखिलेश!
लखनऊ: ग्रामीणों ने पुलिस पर किया पथराव, पीएसी ने लाठीचार्ज कर खदेड़ा
संघ की तर्ज पर एक हजार शहरों में ध्वज वंदना करेगा कांग्रेस का सेवादल
पीएम योजना के नाम पर महिला ने लूटे लाखों के जेवरात

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *