बेसिक शिक्षा को नई पहचान दिलाने का करें प्रयास : विधायक लाखन सिंह

बेसिक शिक्षा
Please Share This News To Other Peoples....

औरैया। यूनाइटेड टीचर एसोसिएशन द्वारा गोद लिए गए लिए गए प्राथमिक विद्यालय जैतपुर फफूंद (भाग्यनगर) गुरुवार को मिशन शिक्षण संवाद कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर समारोह के मुख्य अतिथि विधायक लाखन सिंह राजपूत ने कहा कि मिशन शिक्षण संवाद हम सब शिक्षकों को आपस में एक साथ जोड़ कर एक दूसरे के आपसी सहयोग से सकारात्मक सोच की शक्ति से बेसिक शिक्षा को नई पहचान दिलाने का प्रयास करना है।

ये भी पढ़ें :-अछल्दा रेलवे स्टेशन पर अब मुरी व संगम एक्सप्रेस का होगा ठहराव 

जाने मिशन शिक्षण संवाद का उद्देश्य क्या है?

बेसिक शिक्षा एवं शिक्षक के हित और सम्मान की रक्षा आपसी सहयोग से करना। जिसका एक सूत्रीय उद्देश्य है। बेसिक शिक्षा का उत्थान और शिक्षक का सम्मान।

मिशन शिक्षण संवाद के कार्य क्या हैं ?

परिवेश- हम सब का यथा सम्भव प्रयास होगा कि विद्यालय के परिवेश को आकर्षक और सकारात्मक ऊर्जा का केन्द्र बनाने के लिए आपसी सहयोग और जनसहयोग से सदैव प्रयासरत रहेंगे।

पढ़ाई-विद्यालय और शिक्षक की पहचान पढ़ाई को किसी भी परिस्थिति में प्रथम कार्य समझते हुए गुणवत्तापूर्ण बनाने के लिए प्रयासरत रहेंगे। क्योंकि शिक्षण ही शिक्षक का अस्तित्व होता है। इसलिए बेसिक शिक्षा के उत्थान के लिए हम सब अपने प्रयास एक दूसरे से अवश्य साझा करेंगे।

प्रचार-हम सब मिलकर एक- दूसरे के सहयोग से विद्यालय की गतिविधियों और उपलब्धियों तथा सामाजिक स्तर पर किये गये कार्यों को यथा सम्भव सम्पूर्ण समाज के बीच प्रचार और प्रसार करेंगे। जिससे समाज के बीच बन चुकी बेसिक शिक्षा एवं शिक्षक की नकारात्मक छवि को, सकारात्मक और सम्मानित छवि में बदलते हुए सामाजिक विश्वास को मजबूत कर सकेंगे। इसके लिए संकोच और शर्म छोड़ एक दूसरे के सक्रिय सहयोगी बनेंगे।

पॉवर-उपर्युक्त कार्यों की सफलता के लिए हम सब बिना किसी पद, प्रतिष्ठा की उम्मीद के समानता के सिद्धान्त को अपनाते हुए संगठित होकर एक- दूसरे के सहयोगी बनेंगे। जो प्रत्येक जनपद में टीम भावना से शिक्षा एवं शिक्षक के हित और सम्मान की रक्षा के लिए काम करेंगे। हम सब केवल सहयोगी कहलायेंगे तथा सामूहिक रूप से संवाद परिवार कहलायेंगे। हम सब सहयोगी सर्वदलीय और निर्दलीय रूप से केवल बेसिक शिक्षा एवं शिक्षक के हित और सम्मान की रक्षा के उद्देश्य पर काम करेंगे।

मिशन शिक्षण संवाद का सहयोगी कौन बन सकता है?

मिशन शिक्षण संवाद का सहयोगी ऐसा प्रत्येक व्यक्ति बन सकता है जो बिना किसी लोभ, लालच या स्वार्थ के, शिक्षा के उत्थान और शिक्षक के सम्मान के लिए सहयोगात्मक व्यवहार अपनाने के लिए स्वेच्छा से तैयार होगा।

मिशन शिक्षण संवाद की पहचान क्या है?

मिशन शिक्षण संवाद की पहचान उसका चिह्न है जो हम सबको संदेश देता है कि हम आज़ाद भारत के आज़ाद परिंदे हैं,  जो कलम की ताकत से  हम सब हाथ से हाथ मिलाकर बेसिक शिक्षा का उत्थान और शिक्षक के सम्मान की नींव मजबूत करेंगे। इस अवसर पर बीएसए शिव प्रसाद यादव, सीडीओ सत्येंद्र नाथ चौधरी  आदि मौजूद थे।

Related posts:

यूपी निकाय चुनाव : अपना दल और बीजेपी के बीच बढ़ी कड़वाहट, गठबंधन रहेगा जारी
पूनावाला पर बोले पीएम मोदी-कांग्रेस में युवा की आवाज को दबाया गया
Ind_vs_Sri : पहले T-20 में जीत के इरादे से उतरेगा भारत
बेनामी संपत्ति पर मोदी सरकार का करारा प्रहार, अभी तक 3500 करोड़ की संपत्ति जब्त
सुरक्षा कारणों से राहुल को छठी पंक्ति में बिठाया गया, क्या स्मृति-शाह की नहीं थी चिंता
एयरपोर्ट के सामने नो स्टॉप ज़ोन पर खड़ी होती हैं कारें, लगता है जाम...
अंबेडकर जयंती पर बधाई के साथ मायावती ने मोदी को दे डाली ये नसीहत
चक्रवातीय तूफान 'सागर' भारत में तबाही मचाने आ रहा , 20 राज्यों में करेगा तांडव
चीन में गर्मी का कहर,कार की बोनट पर महिला ने पकाई मछली
दिल्ली में हुआ गैंगवार, तीन की मौत, पांच घायल
जम्मू कश्मीर: सीआरपीएफ कैंप पर आतंकी हमला, सर्च आपरेशन शुरू
Ind vs Eng: हार से हताश इंग्लिश कप्तान, बोले भारतीय स्पिनर्स को खेलना बड़ी चुनौती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *