अयोध्या मामला: असदुद्दीन ओवैसी द्वारा दिये बयान पर भड़क उठे महंत नरेंद्र गिरी, कहा….

नरेंद्र गिरि
Loading...
[responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="Listen This News"]

उत्तराखंड। कल शनिवार से राम मंदिर मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से चारों तरफ अंदर ही अंदर गरमा-गर्मी का माहौल देखने को मिल रहा हैं। इसी अयोध्या मामले में ऑल इंडिया मुस्लिमीन  राष्ट्रीय अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी की ओर से भी बहुत सारे बयान आए हैं। जिसमें वो सुप्रीम कोर्ट के फैसले से संतुष्ट नहीं नज़र आ रहे।

बता दें कि ओवैसी के इसी बयान को लेकर साधुसंतों के समाज में उबाल बना हुआ है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी ने ओवैसी के इस बयान पर कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला न मानना राष्ट्रद्रोह है। इस दौरान अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी काफी गुस्से में भी नज़र आ रहे हैं।

अयोध्या फैसलाः आपत्तिजनक टिप्पणी करने पर पुलिस ने युवक को किया गिरफ्तार 

उन्होंने कहा है कि ओवैसी भारत और हिंदुओं के खिलाफ जहर उगलते रहते हैं। अगर ओवैसी को भारत में अच्छा नहीं लगता है तो उन्हें भारत छोड़कर पाकिस्तान चले जाना चाहिए। महंत नरेंद्र गिरी ने चेतावनी देते हुए कहा है कि ओवैसी हमेशा से हिंदुओं और साधु संतों का अपमान करते आए हैं। ओवैसी अगर इस तरह की भाषा का दोबारा इस्तेमाल करेंगे तो साधु संत समाज और अखाड़ा परिषद इसे बर्दाश्त नहीं करेगा।

उन्होंने कहा कि अगर ओवैसी को भारत में रहना है तो भारत के संविधान और न्यायपालिका के आदेश का पालन और सम्मान करना होगा। उन्होंने चेतावनी दी कि भारत में रहकर अगर भारत के खिलाफ ओवैसी बयानबाजी करेंगे तो संत समाज उन्हें इसका मुंहतोड़ जवाब देगा।

उन्होंने कहा कि देश में सभी धर्मों के लोग रहते हैं। ऐसे में अगर मंदिर निर्माण को जबरदस्ती करते और इसमें भेदभाव होता तो सामाजिक समरसता नहीं रहती और सांप्रदायिक सौहार्द भी बिगड़ता हैं।

नो फ्लाई लिस्ट में नाम न होने से नवाज की लंदन जाने की योजना पर लगा विराम 

उन्होने यह भी कहा कि विश्व हिंदू परिषद, आरएसएस और अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद सभी राम मंदिर का निर्माण चाहते थे। यहां तक कि कुछ मुस्लिम पक्ष के लोग भी इस पक्ष में थे। तो फिर ओवैसी ऐसे बयानबाजी क्यों कर रहे हैं।

You may also like

आज भारत बंद: CAA, NRC के खिलाफ भारत बंद, यूपी में पोस्टर से मची खलबली

Loading... [responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="Listen This News"] नागरिकता