अयोध्या केस : 1934 से 1949 के बीच विवादित स्थल पर पढ़ी जाती थी नमाज़

Loading...
[responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="Listen This News"]

नई दिल्ली। अयोध्या भूमि विवाद में रोज़ चल रही सुनवाई में आज मुस्लिम पक्ष की ओर से चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली संविधान पीठ के समझ वहां पर मस्जिद होने का सबूत पेश किया गया है। मुस्लिम पक्ष के वकील ज़फरयाब जिलानी ने दावा किया है कि 1934 से 1949 के बीच विवादित स्थल पर नियमित रूप से नमाज पढ़ी जाती थी। उन्होंने यह भी कहा कि ऐसा कोई सुबूत नहीं है, जिससे साबित हो कि उस दौरान वहां नमाज नहीं पढ़ी जाती थी।

उन्होंने कहा कि यह अलग बात है कि जुमे (शुक्रवार) को अधिक लोग नमाज पढ़ने आते थे, जबकि बाकी दिन वहां कम लोग आते थे। जिलानी ने कहा कि 1942 में निर्मोही अखाड़े ने जो सूट दायर की थी, उसमें भी विवादित स्थल को मस्जिद बताया गया है। यह नहीं कहा जा सकता कि वहां मस्जिद नहीं थी। 1885 में भी एक याचिका में कहा गया था कि विवादित जमीन के पश्चिमी हिस्से में मस्जिद थी। अभी इसे भीतरी आंगन कहा जाता है।

यह भी पढ़ें.. ईशदूत मुहम्मद के संबध में अंग्रेज़ दार्शनिकों के विचार

5 जून, 1934 को बाबरी मस्जिद के ट्रस्टी ने मस्जिद में हुए नुकसान को लेकर आवेदन दिया था। लोक निर्माण विभाग ने मस्जिद की मरम्मत कराई थी। 1934 दंगे में मस्जिद को नुकसान पहुंचाया गया था और मरम्मत के बाद उस जगह पर फिर से अल्लाह लिखा गया था।

यह भी पढ़ें.. भाजपा के संगठनात्मक बूथ चुनाव 18 से 21 सितंबर तक होंगे

Loading...
loading...

You may also like

Delhi Election: बैडमिंटन खिलाड़ी साइना नेहवाल की भाजपा में एंट्री, होगा फायदा

Loading... [responsivevoice_button voice="Hindi Female" buttontext="Listen This News"] नई