घर बैठे जानें आयुष्मान योजना के लाभार्थी सूचि में आपका नाम है या नहीं

लाभार्थी सूचिलाभार्थी सूचि

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झारखण्ड की राजधानी रांची से आयुष्मान भारत योजना (PM-JAY) का शुभारम्भ किया था। इस दौरान पीएम ने बताया था कि यह योजना दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना है जिसकी लाभार्थी सूचि भी जारी की गयी है। सरकार के मुताबिक इस योजना से 10 करोड़ से ज्यादा परिवारों के 50 करोड़ लोगों को लाभ मिलेगा। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह उठता है कि इस योजना के लाभार्थी सूचि में नाम है या नहीं और जमीनी स्तर पर लाभ कैसे लिया जाए। इसके लिए सबसे पहले आपको बता दें कि इस योजना का फायदा लेने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य नहीं है। आधार कार्ड एक विकल्प के तौर पर इस्तेमाल किया जा सकता है, लेकिन सरकार ने इसे अनिवार्य नहीं किया है।

आयुष्मान योजना के लाभार्थी सूचि में आधार अनिवार्य नहीं

आयुष्मान भारत योजना के सभी नियमों में स्पष्ट लिखा है कि आवेदन के दौरान किसी भी तरह का पहचान पत्र मान्य होगा। अगर किसी के पास आधार कार्ड नहीं है तो संबंधित राज्य सरकार किसी भी पहचान पत्र के जरिए उन्हें योजना का लाभ दे सकती है। साथ ही इस योजना के तहत 2011 के सामाजिक-आर्थिक और जाति जनगणना में गरीब के तौर पर चिह्नित किए गए सभी लोगों को पात्र माना गया है। मतलब अगर कोई शख्स 2011 के बाद गरीब हुआ है, तो वह कवर से वंचित हो जाएगा। इस योजना में बीमा कवर के लिए उम्र, परिवार के आकार को लेकर कोई बंदिश नहीं है। जिसके तहत लाभार्थी सरकारी या निजी अस्पताल में हर साल 5 लाख रुपए तक का कैशलेस इलाज करा सकेंगे।

ये भी पढ़ें : दागी नेता चुनाव लड़ सकते हैं या नहीं, सुप्रीम कोर्ट ने सुनाया फैसला 

जानें आपका नाम है या नहीं

इस योजना के लाभार्थी सूचि में आपका नाम है या नहीं और आप इसका फायदा उठा सकते है या नहीं। इसकी जांच आप घर बैठे ही कर सकते हैं। इसके लिए आप 14555 टोल फ्री नंबर पर कॉल कर सकते हैं। या फिर आप ऑनलाइन भी इसकी सूचना ले सकते हैं। जिसके लिए https://www।abnhpm।gov।in/ पर ‘AM I ELIGIBLE’ वाले विकल्प पर जाना होगा। एनएचए ने 14,000 आरोग्य मित्रों को अस्पतालों में तैनात किया है। इनके पास मरीजों की पहचान सत्यापित करने और उन्हें इलाज में मदद करने का काम है। पूछताछ और समाधान के लिए भी मरीज इन लोगों से संपर्क कर सकेंगे।

loading...
Loading...

You may also like

महिलाओं के तरक्की से होगा विकास

सिद्धार्थनगर। आधी आबादी महिला समूहों का गठन करके