आजम खां का भाजपा पर तंज, तीन तलाक संशोधन बिल को बताया 2019 का चुनावी बिल

आजम खांआजम खां

रामपुर। यूपी के पूर्व मंत्री व सपा के फायरब्रांड नेता आजम खां ने तीन तलाक बिल संशोधन को लेकर भाजपा पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि यह तीन तलाक का बिल नहीं है। यह 2019 के चुनाव का बिल है। जिस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुना चुका है। उस पर किसी बिल किसी कानून की जरूरत नहीं होती है। बता दें कि मोदी सरकार ने तीन तलाक बिल में कुछ अलग बदलाव किये हैं।

पढ़ें:- राज्यसभा में विपक्ष का जोरदार हंगामा, राफेल सौदे को बताया दुनिया का सबसे बड़ा स्कैम 

आजम खां ने तीन तलाक पर पर्सनल ला बोर्ड को बताया नाकाम

सपा नेता आजम खां ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने तय कर दिया तो किसी भी अदालत में कोई भी किसी तरह का विरोध नहीं रह सकता। इस मामले में पर्सनल ला बोर्ड की तरफ से अनदेखी हुई। बोर्ड ने इसको अहमियत नहीं दी इसको हल नहीं करना चाहा। उन्होंने कहा कि अगर किसी तरह से हम कहें कि ये पर्सनल ला बोर्ड की नाकामी है तो गलत नहीं होगा।

आजम खां ने आगे कहा कि उससे ज्यादा अफसोस की बात यह है कि पूरे देश में अलग-अलग निकाहनामे हैं। उन्होंने हर शहर में अलग है तो पर्सनल लॉ बोर्ड से अपील की कि कम से कम एक ऐसा हलफनामा ड्राफ्ट कर दीजिए जिससे देश में एक हो लेकिन वह हलफनामा तक का तैयार नहीं हो सका। तो क्या यूटिलिटी है पर्सनल लॉ बोर्ड की यह भी समझने की जरूरत है।

पढ़ें:- भाजपा विधायक के बिगड़े बोले-जवाहर लाल नेहरू गाय-सुअर खाते थे, फिर वह पंडित कैसे? 

पर्सनल ला बोर्ड में हो रही सियासत

सपा नेता ने बड़ा हमला बोलते हुए कहा कि पर्सनल ला बोर्ड में सियासी लोग हैं ऐसे लोग हैं जो सरकार के लिए काम करते हैं। ये सीधे मुसलमानों के वोटों की राजनीति करके सरकारें बनाते हैं। उन्होंने कहा कि वह भी पर्सनल ला बोर्ड के मेंबर है। कोई भी ऐसा शख्स जिसका कभी भी राजनीतिक पार्टी से वास्ता रहा हो या इस वक्त हो या हो सकता हो या किसी ऐसे ओहदे पर रहा हो। जिसमें सरकार ने उसे ओबीलाइज़ किया हो ऐसे लोगों को पर्सनल ला बोर्ड का मेंबर नहीं होना चाहिए।

loading...
Loading...

You may also like

किसानों के आंदोलन की वजह से गयी सरकार- राकेश टिकैत

रामपुर। पूरे मुल्क में किसानों का क़र्ज़ सबसे