बाल गंगाधर तिलक को 8वीं की किताब में बताया गया ‘आतंक का जनक’

बाल गंगाधर तिलक
Please Share This News To Other Peoples....

जयपुर। राजस्थान की 8वीं कक्षा की किताब में भारत के महापुरुष व स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक को लेकर गयी टिपण्णी को लेकर विवाद मच गया है। दरअसल किताब में बाल गंगाधर तिलक को ‘आतंकवाद का जनक’ (फादर ऑफ टेररिज्म) बता दिया गया। वहीं ये बात मीडिया में आने के बाद राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त अंग्रेजी माध्यम के किताब के प्रकाशक ने इसे अनुवाद में गलती बताया उन्होंने सफाई देते हुए कहा है कि सुधार करने की बात कही है। वहीं कांग्रेस ने पुस्तक को पाठ्यक्रम से हटाने की मांग की है।

बाल गंगाधर तिलक पर विवादित टिपण्णी का पूरा मामला

जानकारी के मुताबिक राजस्थान राज्य पाठ्यक्रम बोर्ड किताबों को हिन्दी में प्रकाशित करता है। इसलिये बोर्ड से मान्यता प्राप्त अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों के लिए मथुरा के एक प्रकाशक द्वारा प्रकाशित संदर्भ पुस्तक को इस्तेमाल में लाया जाता है। वहीं 8वीं की पुस्तक के पेज संख्या 267 पर 22वें अध्याय में बाल गंगाधर तिलक के बारे में लिखा गया है कि, तिलक ने राष्ट्रीय आंदोलन का रास्ता दिखाया था। इसलिये उन्हें ‘आतंकवाद का जनक’ (फादर ऑफ टेररिज्म) कहा जाता है।

स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान करना भाजपा की फितरत

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा कि इतिहास को फिर से लिखना और स्वतंत्रता सेनानियों के अपमान करना भाजपा की फितरत रही है। बाल गंगाधर तिलकजी राष्ट्रीय आंदोलन में कांग्रेस के शीर्ष नेताओं में से एक थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को तत्काल माफी मांगनी चाहिए और इन पुस्तकों को तत्काल वापस लेना चाहिए।

पढ़ें:- अखिलेश-डिंपल के फर्जी फेसबुक व ट्विटर अकाउंट से मचा हडकंप, FIR दर्ज 

 

बतातें चलें कि राजस्थान राज्य पाठ्यक्रम बोर्ड किताबों को हिन्दी में प्रकाशित करता है। इसलिये बोर्ड से मान्यता प्राप्त अंग्रेजी माध्यम के विद्यालयों के लिए मथुरा के एक प्रकाशक द्वारा प्रकाशित संदर्भ पुस्तक को इस्तेमाल में लाया जाता है। पुस्तक के पेज संख्या 267 पर 22वें अध्याय में तिलक के बारे में लिखा गया है कि उन्होंने राष्ट्रीय आंदोलन का रास्ता दिखाया था। इसलिये उन्हें ‘आतंकवाद का जनक’ कहा जाता है। पुस्तक में तिलक के बारे में 18वीं और 19वीं शताब्दी के राष्ट्रीय आंदोलन के संदर्भ में लिखा गया है। शिवाजी और गणपति महोत्सवों के जरिये तिलक ने देश में अनूठे तरीके से जागरूकता फैलाने का कार्य किया।

Related posts:

कांग्रेस खुद इस बात को सोचे कि देश क्यों उसको चुन-चुनकर सजा देना चाहता है: पीएम मोदी
43 वां एआईएससी सम्मेलन एलयू में, नव-उदारवाद, उपभोगवाद व संस्कृति पर होगा मंथन
फेसबुक पर फर्जी प्रोफाइनल बनाकर, ठगी करने वालों का हुआ पर्दाफाश
मजेंटा लाइन: अनेक खूबियों से लैस है मेट्रो, पीएम दिखायेंगे हरी झंडी
हाफ़िज़ सईद ने गिरफ्तारी से बचने के लिए कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया
लखनऊ : पूर्व विधायक के घर से लाखों उड़ा ले गये बदमाश
मुख्यमंत्री सामूहिक विवाह योजना ग़रीबों को सरकार का तोहफा : बीजेपी
लखनऊ : अमौसी एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने पकड़ा विदेश से लाया गया सोना
वाणी कपूर का हॉट फोटो शूट, जिसने यह नहीं देखा उसने कुछ नहीं देखा...देखें फोटो...
आंध्र प्रदेश : रामनवमी उत्सव के दौरान हादसे में 4 की मौत 70 घायल, बाल-बाल बचे सीएम
वित्तमंत्री अरुण जेटली अस्वस्थ, किडनी में है संक्रमण
आधा दर्जन अलमारियों का ताला तोडक़र 15 लाख के गहने चोरी

One thought on “बाल गंगाधर तिलक को 8वीं की किताब में बताया गया ‘आतंक का जनक’”

  1. लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक देश के पहले ऐसे स्वतंत्रता सेनानी थे जिन्हीने ‘पूर्ण स्वराज’ की माँग कर अँग्रेज़ों के मान मे भय पैदा कर दिया था,जिनके नारे सुनकर अँग्रेज़ों के छ्क्के छुड़ाने के लिए भारतवासी उठ खड़े हुए थे ,उन्हे”आतंक का जनक”बताना बेहद निंदनीय है,
    हालाँकि,यह बात मीडिया मे आने के बाद राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड से मान्यता प्राप्त अँग्रेज़ी माध्यम के किताब के प्रकाशक ने इसे अनुवाद मे ग़लती बताया है,पर सवाल उठता है ऐसे प्रकाशकों को मान्यता कैसे मिली जिनके पास अनुवादको का अभाव है या योग्य अनुवादक नहीं है या फिर अनुवाद के बाद और प्रकाशन से पहले किसी शिक्षा अधिकारी ने जाँच क्यों नही की?क्या सब कुछ भगवान भरोसे चल रहा है. इसकी उचित जाँच होनी चाहिए और दोषियों को बख्सा नहीं जाना चाहिए, क्योंकि ,यह एक सिर्फ़ स्वतंत्रता सेनानी का अपमान ही नही इतिहास को लीपापोती और भावी पीढ़ी को इतिहास से महरूम रखने की साज़िश है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *