सात साल में अमेरिका में भारतीयों की संख्या 38% बढ़ी: रिपोर्ट

Loading...

वॉशिंगटन। अमेरिका में भारतीय मूल के लोगों की आबादी 2010 से 2017 के बीच 38 पर्सेंट बढ़ी है। साउथ एशियन अमेरिकन लीडिंग टुगेदर (SAALT) नाम के एडवोकेसी ग्रुप ने हालिया डेमोग्राफिक रिपोर्ट में यह दावा किया है। 2017 में तमाम एथिनिसिटी के इंडियन-अमेरिकन लोगों की आबादी 44,02,363 हो गई थी, जो 2010 में 38.3 पर्सेंट कम 31,83,063 थी।  साल 2010 से 2017 के बीच यूएस में भारतीय लोगों की आबादी में 38 पर्सेंट इजाफा हुआ। वहीं गैरकानूनी ढंग से रहने वाले भारतीयों की आबादी 2010 से 72 पर्सेंट बढ़कर 6,30,000 हो गई है।

  • साल 2010 से 2017 के बीच यूएस में भारतीय लोगों की आबादी में 38 पर्सेंट इजाफा हुआ
  • वीजा खत्म होने के बावजूद बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीयों के रहने की संख्या भी बढ़ी
  • गैरकानूनी ढंग से रहने वाले भारतीयों की आबादी 2010 से 72 पर्सेंट बढ़कर 6,30,000 हो गई है
अमेरिका में गैरकानूनी ढंग से रहने वाले भारतीयों की आबादी 2010 से 72 पर्सेंट बढ़कर 6,30,000 हो गई है। वीजा खत्म होने के बावजूद बड़ी संख्या में प्रवासी भारतीयों के रहने से ऐसे लोगों की संख्या बढ़ी है। 2016 में लगभग 2,50,000 भारतीय वीजा खत्म होने के बाद वहां रह रहे थे।
दक्षिण एशिया से आने वालों की संख्या बढ़ी
दक्षिण एशिया से आने वाले अमेरिकी रेजिडेंट्स की आबादी 40 पर्सेंट बढ़ी है। SAALT ने बताया कि 2010 के 35 लाख से बढ़कर इनकी संख्या 2017 में 54 लाख हो गई। दक्षिण एशियाई लोगों में 2010 से नेपाली मूल के लोगों की संख्या सबसे ज्यादा 206.6 पर्सेंट बढ़ी है। इसके बाद भारतीयों की संख्या 38 पर्सेंट, भुटानी लोगों की 38 पर्सेंट, पाकिस्तानियों की 33 पर्सेंट, बंगलादेशी 26 पर्सेंट और श्रीलंकाई मूल के लोगों की आबादी 15 पर्सेंट बढ़ी है।

अमेरिका में अभी साउथ एशियन एक्शन फॉर चाइल्डहुड अराइवल्स (डीएसीए) के कम से कम 4,300 ऐक्टिव रिसिपिएंट हैं। अगस्त 2018 तक डीएसीए के ऐक्टिव रिसिपिएंट्स में लगभग 2,500 भारतीय थे। कुल 20 हजार डीएसीए रिसिपिएंट्स में से सिर्फ 13 पर्सेंट ने इसे अप्लाई और प्राप्त किया है। डीएसीए के 1,300 पाकिस्तानी, 470 बांग्लादेशी, 120 श्रीलंकाई और 60 नेपाली रिसिपिएंट्स हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक, आय में असामान्यता सबसे ज्यादा एशियाई अमेरिकी लोगों में दर्ज की गई है। अमेरिका में रह रहे कुल 50 लाख दक्षिण एशियाई लोगों में से लगभग 1 पर्सेंट गरीब हैं। SAALT ने बताया कि पिछले 10 सालों में अमेरिका में शरणार्थी का दर्जा मांगने वाले दक्षिण एशियाई लोगों की संख्या बढ़ी है।

गिरफ्तार हुए हजारों
रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि यूएस इमिग्रेशन एंड कस्टम्स एन्फोर्समेंट (आईसीई) ने 2017 से 3,013 साउथ एशियन लोगों को गिरफ्तार किया है। यूएस कस्टम्स एंड बॉर्डर पेट्रोल ने अक्टूबर 2014 और अप्रैल 2018 के बीच 17,119 साउथ एशियन लोगों को बॉर्डर और इंटीरियर एन्फोर्समेंट के जरिए अरेस्ट किया है।

SAALT के अनुसार, 1997 से अब तक एच-1 वीजा रखने वालों पर निर्भर करने वाले 17 लाख से ज्यादा दंपतियों को एच-4 वीजा मिला है। 2017 में 1,36,000 लोगों को एच-4 का स्टेटस प्राप्त हुआ था। लगभग 86 पर्सेंट एच-4 वीजा होल्डर साउथ एशियाई देशों से हैं।

Loading...
loading...

You may also like

विदेश मंत्रालय के नाम से बनी पासपोर्ट की इस फर्जी वेबसाइट से सावधान रहें

Loading... 🔊 Listen This News विदेश मंत्रालय ने