बिहार महागठबंधन: कांग्रेस 8 सीटें भी लेने को तैयार, बस राजद को माननी पड़ेगीं ये शर्तें

महागठबंधनमहागठबंधन

पटना। देश के अन्य राज्यों की तरह बिहार में भी लोकसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियां अपनी रणनीति तैयार करने में जुट गयी हैं। इसी क्रम में बिहार में महागठबंधन की तैयारी शुरू हो गयी है। जिसको लेकर देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस ने प्रदेश की सबसे बड़ी पार्टी राजद के सामने कुछ शर्तें रखी है जिस पर राजद को विचार करना है।

पढ़ें:- गया गैंगरेप केस में तेजस्वी पर लगा सनसनीखेज आरोप, भड़के राजद समर्थक

महागठबंधन को लेकर कांग्रेस के सामने रखी ये शर्तें

सूत्रों की माने तो प्रदेश कांग्रेस ने राजद के सामने कुछ शर्तें रखी हैं जिसमें कई स्थितियों के बारे में बताया गया है। कांग्रेस की रणनीति है कि महागठबंधन हो और आगे बात बने। जिनके आधार पर वह कम सीट लेने के लिए भी तैयार है।

1. कांग्रेस की पहली शर्त यह है कि राजद, हिंदुस्तान आवाम मोर्चा, लेफ्ट और कांग्रेस का गठबंधन हुआ तो वह कम से कम 15 सीटें मांगेगी।

2. दूसरी शर्त यह है कि अगर नीतीश कुमार विपक्ष के साथ आएं तो कांग्रेस 10 सीटों पर मान भी जाएगी।

3. वहीं तीसरी शर्त यह है कि अगर नीतीश, पासवान और उपेंद्र कुशवाहा भी साथ आएं तो 8 सीटों पर मानेगी कांग्रेस।

पढ़ें:- तेजस्वी यादव बोले- अब राहुल गांधी से घबराते हैं बीजेपी और आरएसएस

पिछले दो लोकसभा चुनावों में कांग्रेस नहीं रहा खास प्रदर्शन

बता दें कि पिछली बार साल 2014 के लोकसभा में कांग्रेस को 12 सीट मिलीं थीं, जिसमें से वह महज सीटें ही 2 जीत पायी थी। वहीं 2009 की बात की जाए तो अकेले लड़कर भी कांग्रेस महज 2 सीटें ही जीत पायी थी। बिहार में सरकार बनने पर मुख्यमंत्री तो आरजेडी का ही बनेगा, इसीलिये लोकसभा में कांग्रेस को ज़्यादा और जीतने वाली सीटें चाहिए।

गौरतलब है कि हाल ही में बिहार में हुए उपचुनाव में भाजपा और जदयू को हार का सामना करना पड़ा था। जिसके बाद से ही राज्य में 2019 लोकसभा चुनाव के लिए सीटों की चर्चा ने जोर पकड़ा है। एक तरफ महागठबंधन में सीटों की बात चल रही है तो दूसरी तरफ एनडीए में भी इस मुद्दे ने तूल पकड़ा था। जेडीयू की मांग थी कि वह राज्य में बड़ी पार्टी है इसलिए वह 25 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

loading...
Loading...

You may also like

ड्यूटी के दौरान सिपाही की हत्या देख डीजीपी ओपी सिंह के छलके आंसू

लखनऊ। युवतियों से छेड़छाड़ के विरोध में एक