नीतीश के विशेष राज्य के दर्जे की मांग को बड़ा झटका, आपस में भिड़े जदयू-बीजेपी

विशेष राज्य के दर्जे
Please Share This News To Other Peoples....

पटना। देश की राजधानी दिल्ली में चल रहे नीति आयोग के गवर्निंग काउंसिल की बैठक में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने प्रदेश को विशेष राज्य के दर्जे की मांग की है। जिसको लेकर नीतीश ने प्रदेश से जुड़ी समस्याओं के भी गिनाया है। लेकिन अब इस मसले पर सियासत शुरू हो गयी। अब नीतीश के ही सहयोगी इस मांग के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं जो बीजेपी और जदयू के गठबंधन पर असर डाल सकता है।

पढ़ें:- सीएम नीतीश ने रखी ये बड़ी मांग, केंद्र ने किया इनकार तो टूटेगा BJP-जदयू गठबंधन 

विशेष राज्य के दर्जे की मांग पर बीजेपी नेता ने जताया विरोध 

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा एक बार फिर विशेष राज्य के मुद्दे को उठाये जाने को लेकर भाजपा के वरिष्ठ नेता व पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ. सीपी ठाकुर ने विरोध जाहिर किया है। ठाकुर ने मांग को खारिज करते हुए कहा कि कई राज्य विशेष दर्जा की मांग कर रहे हैं। अगर एक को मिलेगा तो अन्य राज्य भी ऐसा ही चाहेंगे।

बीजेपी नेता ने कहा कि नीतीश कुमार बिहार के मुख्यमंत्री हैं और इस मांग को उठाना उनका काम है। वैसे बिहार कोई नया राज्य तो है नहीं। ये दर्जा तो किसी नये राज्य को मिलना चाहिए।  बिहार में अगर संसाधनों की कमी है तो उसे इस हाल में लाने के लिए जिम्मेवार कौन है?  वहीं, बिहार के स्वास्थ्य मंत्री और बीजेपीमंगल पांडेय इस मामले में कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

पढ़ें:- कांग्रेस ने दिया नीतीश को एक और मौका, इस शर्त पर गठबंधन में हो सकते हैं शामिल 

विशेष राज्य का दर्जा न मिलने पर रिश्तों में आएगी खटास

गौरतलब है कि काफी समय से जदयू के नेता बिहार को विशेष राज्य दर्जा दिए जाने की मांग करते रहे हैं। इस मामले में जदयू नेता आरसीपी सिंह ने पिछले महीने कहा था कि विशेष दर्जा, बिहार का हक है, वह कोई भीख नहीं मांग रहा। नीतीश कुमार ने हाल ही में 15वें वित्त आयोग को पत्र लिख कर इस मांग को फिर उठाया था।

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाना, नीतीश कुमार का प्राइम एजेंडा में शामिल है। वहीं इस मांग को केंद्रीय मंत्री नितिन गडक़री सिरे से खारिज कर चुके हैं। उन्होंने कहा था कि संविधान में विशेष दर्जा का कोई जिक्र नहीं है। कई मानकों को पूरा करने के बाद किसी राज्य को यह दर्जा मिलता है। यूपीए-2 की सरकार इस मांग को पहले ही खारिज कर चुकी है। जदयू और भाजपा के बीच ये मामला खटास का कारण बन सकता है। बता दें कि आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पहले ही विशेष राज्य के दर्जे की मांग को लेकर एनडीए से नाता तोड़ चुके हैं।

Related posts:

भाजपा की बैठक में संगठन को मजबूत करने पर जोर
बड़ी कार्रवाई की तैयारी में योगी सरकार, 2500 मदरसों की मान्यता होगी रद्द
विद्युत पेंशनर्स का पेंशन पुनरीक्षण आदेश जल्द
सदन में बिल को पास कराने का आज आखिरी मौका
खनन कर रहे माफियाओं ने पुलिस पर दागी गोलियां, सहम गई पुलिस...
सुगंध उद्योग टिकाऊ भविष्य के लिए तैयार करें रोडमैप : प्रोफेसर आलोक धावन
लखनऊ : तेज रफ़्तार मोटरसाइकिल सवार लेखपाल खंबे से टकराया, मौत...
अलीमुद्दीन हत्याकांड में भाजपा नेता समेत सभी 11 हत्यारों को उम्रकैद...
इस देश से आरक्षण कोई समाप्त नहीं कर सकता: पासवान
पत्रकार उपेंद्र राय को सीबीआई ने किया गिरफ्तार, आठ जगहों पर की छापेमारी
यूपी में आंधी-तूफान से 39 की मौत और 53 घायल
पीएम मोदी देते हैं स्क्रिप्टेड इंटरव्यू, इस बात का सबूत है ये वीडियो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *