लखनऊ नगर निगम को करेंगे भ्रष्टाचार मुक्त, जनता ढहाएगी बीजेपी का दुर्ग : प्रियंका माहेश्वरी

लखनऊ। आम आदमी पार्टी ‘आप’ का विजन आम जनमानस का विजन है। युवा पार्टी के साथ हैं। जो ‘आप’ की जीत का आधार होंगे। यह मानना है आम आदमी पार्टी की लखनऊ महापौर पद की प्रत्याशी प्रियंका माहेश्वरी का।

24ghanteonline.com से विशेष बातचीत में प्रियंका ने अपनी राजनीतिक व सामाजिक पृष्ठभूमि के बारे में बताते हुए कहा कि उनके पिता कारोबारी है। पति गौरव महेश्वरी भी व्यापार से जुड़े हैं , लेकिन गौरव के आम आदमी पार्टी से जुड़ने के बाद पति के जुझारूपन ने उन्हें जनसेवा करने के लिए प्रेरित जरूर किया।

महापौर प्रत्याशी प्रियंका कहा कि नगर निगम में जिस प्रकार से टेण्डर घोटाला, सॉलिड वेस्ट घोटाला बड़े पैमाने पर हुआ है। इन घोटालों को उनकी पार्टी ने ही आरटीआई का सहारा लेकर जनता के सामने नगर निगम में फैले भ्रष्टाचार को उजागर किया। उनका कहना है कि इसी सिस्टम से उनकी लड़ाई है। क्योंकि भ्रष्टाचार कहीं भी हो, कोई भी करे झेलती आम जनता ही है। बीते लम्बे अर्से से लखनऊ नगर निगम पर भाजपा का कब्जा है।

प्रियंका बीजेपी के इस दुर्ग को भेदने के लिए जनता के ही सहारे हैं। अपने बुलन्द हौसले और उर्जावान व्यक्तित्व को बरकार रखते हुए इन दिनों हर सुबह 5.30 बजे ही घर से निकल जाती हैं, और 10 बजे तक जनता से मिलना व उनकी समस्याओं को सुनने का काम करते हुए प्रचार अभियान में जुटी हैं।

प्रियंका कहा कि मैं मेयर प्रत्याशी के पद के लिए बसे कम उम्र की उम्मीदवार हूं। जाहिर है मेरा विजन अगले 30 साल तक का है। मेरे पास काम करने का हौसला है, उर्जा है और सबसे बड़ी बात कि मैं कम उम्र होने के नाते अपने शहरवासियों की परेशानी भली भांति समझती हूं। ऐसे में जनता का सहयोग मिलने को लेकर पूरी तरह आश्वत नजर आती है।

प्रियंका मानती है कि वह न तो दिग्गज प्रत्याशी हैं और न ही पार्टी। दिग्गज काम करने वाला होता है। वह कहती है कि किसी भी प्रत्याशी को अपने लिए चुनौती नहीं मानती। वह कहती है कि हम अपने शहर का विकास उसी तर्ज पर करेंगे जिस तर्ज पर बिना केन्द्र सरकार की मदद के दिल्ली में ‘आप’ की सरकार कर रही है। यानि हाउस टैक्स हाफ वाटर टैक्स माफ। सड़क, पानी यह तो आम समस्या है ,लेकिन इससे बड़ी समस्या शहर की जनता के उन कामों की है जिसे अब तक नजरअन्दाज किया गया।

अतिक्रमण से निपटने के लिए तैयार होगा  रोडमैप

शहर की जनसंख्या के साथ-साथ अतिक्रमण भी बढ़ता चला जा रहा है। फुटपाथ के बाद अब सड़कों तक दुकानें आ गई हैं। इसके लिए हम सामान्य तौर पर पटरी दुकानदारों से बातचीत कर उनके सहयोग से ही एक रोडमैप तैयार करेंगे। यदि सम्भव हुआ तो फुटपाथ के दुकानदारों को अलग से जमीन मुहैया कराकर उनको विस्थापित करने का प्रयास करेंगे। लेकिन अतिक्रमण एक बड़ी चुनौती है सब का सहयोग और एक राय से ही इस काम को अन्जाम देने का प्रयास किया जाएगा।

उपेक्षित क्षेत्रों का  विकास युद्धस्तर पर होगा

शहर की जनता का जिस प्रकार से स्नेह और सहयोग मिल रहा है, काफी उम्मीद है। यदि मेयर बन गई तो युद्धस्तर पर उसी दिन से काम सम्भाल लूंगी जिस दिन शपथ लूंगी। लखनऊ का पुराना इलाका जिसे हम पुराना लखनऊ कहते हैं, जहां से इस शहर की पहचान है सबसे सबसे अधिक उपेक्षित है, फैजुल्लागंज, खदारा, कश्मीरी मुहल्ला आदि ऐसे क्षेत्र हैं जहां काम हुआ ही नहीं है। अपने काम की शुरूआत भी यहीं से करूंगी।

 

loading...

You may also like

पीएम को चोर करने पर भड़के सीएम योगी, कहा- राहुल और कांग्रेस देश से मांगे माफ़ी

गोरखपुर। राफेल डील को लेकर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति